Electromagnetic Fields 1 MCQ


20 Questions MCQ Test | Electromagnetic Fields 1 MCQ


Description
This mock test of Electromagnetic Fields 1 MCQ for SSC JE helps you for every SSC JE entrance exam. This contains 20 Multiple Choice Questions for SSC JE Electromagnetic Fields 1 MCQ (mcq) to study with solutions a complete question bank. The solved questions answers in this Electromagnetic Fields 1 MCQ quiz give you a good mix of easy questions and tough questions. SSC JE students definitely take this Electromagnetic Fields 1 MCQ exercise for a better result in the exam. You can find other Electromagnetic Fields 1 MCQ extra questions, long questions & short questions for SSC JE on EduRev as well by searching above.
QUESTION: 1

एक पूर्ण चुंबकीय चालक को एक पदार्थ के रूप में परिभाषित किया जाता है जिसके...

Solution:

एक पूर्ण चुंबकीय चालक में चुंबकीय चालकता (चुंबकीय प्रतिष्टम्भ के विपरीत) का मान अपरिमित होता है। एक पूर्ण चुंबकीय चालक में सामान्य विद्युत क्षेत्र और स्पर्श-रेखीय चुंबकीय क्षेत्र शून्य होता है जबकि स्पर्श-रेखीय विद्युत क्षेत्र और सामान्य चुंबकीय क्षेत्र समान होता है।

QUESTION: 2

चुम्बकीय परिपथ के ओम के नियम के अनुसार:

Solution:

चुंबकीय परिपथ कि स्थिति में ओम के नियम को इस प्रकार वर्णित किया जा सकता है कि, परिपथ में विकसित चुंबकीय फ्लक्स चुंबकीयवाहक बल के सीधे समानुपाती होता है। यह संबंध ओम के नियम के समान है और और इसे विद्युतवाहक बल (इ.एम.एफ.) को विद्युतवाहक बल (एम.एम.एफ.) से और विद्युत धारा (i) को चुंबकीय फ्लक्स से प्रतिस्थापित कर के बनाया जा सकता है।

फ्लक्स = एम.एम.एफ./प्रतिष्टम्भ

QUESTION: 3

संधारित्र बनाने के लिए कौन से गुण वाले पारद्युतिक का चयन करना बेहतर होता है?

Solution:

संधारित्र में संधारित्र का मान   के रूप में दिया जाता है, अत: उच्च विद्युतशीलता वाले पारद्युतिक के साथ छोटे आकार के संधारित्र का उपयोग कर के धारिता का उच्चतम मान प्राप्त किया जा सकता है।

QUESTION: 4

जब कुण्डल के माध्यम से फ्लक्स का मान 25 वेबर और उत्पन्न एम.एम.एफ. का मान 50 एम्पियर-कुंडली है, तो कुण्डल के प्रतिष्टम्भ को (एम्पियर-कुंडली/वेबर में) ज्ञात कीजिये।

Solution:

दिया गया है कि, एम.एम.एफ. = 50 एम्पियर-कुंडली

चुम्बकीय फ्लक्स = 25 वेबर

प्रतिष्टम्भ = एम.एम.एफ./फ्लक्स = 50/25 = 2 एम्पियर-कुंडली/वेबर

QUESTION: 5

जब सोलेनोइड में 400 कुंडलियाँ और सोलेनोइड के केंद्र पर चुम्बकीय क्षेत्र का मान 6 मिलि-टेस्ला है, तो 60 सेमी लंबे सोलेनोइड के माध्यम से प्रवाहित होने वाली विद्युत धारा (एम्पियर में) ज्ञात कीजिये।

Solution:

QUESTION: 6

पारगम्यता किसके समरूप होती है?

Solution:

पारगम्यता चुम्बकीय गुण है, यह चालकता के समरूप होता है। प्रतिष्टम्भ, प्रतिरोध के समरूप होता है।

QUESTION: 7

जब एक पारद्युतिक को एक विद्युतीय क्षेत्र में रखा जाता है, तो क्षेत्र की मजबूती _______ है।

Solution:

एक पारद्युतिक एक विद्युत अवरोधी होता है जिसे एक लागु किए गए विद्युत क्षेत्र द्वारा ध्रुवीकृत किया जा सकता है। जिस प्रकार विद्युत चालक में आवेश पदार्थ के माध्यम से प्रवाहित होते हैं उसकी तुलना में जब एक विद्युत क्षेत्र में पारद्युतिक रखा जाता है, तब विद्युत आवेश पदार्थ के माध्यम से प्रवाहित नहीं होते हैं। इसलिए विद्युत क्षेत्र की मजबूती कम हो जाती है।

QUESTION: 8

निम्नलिखित में से किस पदार्थ का प्रयोग स्थायी चुंबकों के लिए नहीं किया जा सकता है?

Solution:

दिए गये पदार्थो में से केवल लौह-कोबाल्ट मिश्र धातु को स्थायी चुंबकों के लिए प्रयोग नहीं किया जा सकता है।

QUESTION: 9

0.6 मीटर लम्बाई वाला एक चालक 4 वेबर/वर्ग मीटर फ्लक्स घनत्व के एक समरूप चुम्बकीय क्षेत्र के समकोण स्थिति में स्थित है। चालक 50 मीटर/सेकंड के वेग के साथ संचालित होता है। तो चालक में प्रेरित इ.एम.एफ. की गणना (वाल्ट में) कीजिये।

Solution:

दिया गया है कि, चुम्बकीय फ्लक्स घनत्व (B) = 4 वेबर/वर्ग मीटर

लम्बाई (l) = 0.6 मीटर

वेग (v) = 50 मीटर/सेकंड

प्रेरित इ.एम.एफ., E=Blvsinθ

E = 4 × 0.6 × 50 × sin90 = 120

QUESTION: 10

नीचे दिया गया आरेख ______ के लिए B-H वक्र को दर्शाता है।

Solution:

B-H वक्र एक विशिष्ट पदार्थ के लिए चुम्बकीय फ्लक्स घनत्व (B) और चुम्बकीय क्षेत्र मजबूती (H) के बीच संबंध को दर्शाने के लिए उपयोग किया जाता है।

यहाँ वायु में कोई हिस्टैरिसीस(शैथिल्य) हानि नहीं होती है क्योंकि वायु में चुम्बकीय पदार्थ शामिल नहीं होता है। इसलिए वायु में B-H वक्र, एक सीधी रेखा होनी चाहिए।

समीकरण के अनुसार B = μH, यह सीधी रेखा केंद्र से होकर गुजरती है और उसका ढ़लान μ है।

QUESTION: 11

यदि किसी पदार्थ की चुंबकीय संवेदनशीलता शून्य से कम है तो पदार्थ _______ है।

Solution:

अनुचुंबकीय पदार्थों में, प्रेरित चुंबकत्व द्वारा पदार्थ के चुंबकीय क्षेत्र को मजबूत किया जाता है। इसलिए चुंबकीय संवेदनशीलता का मान एक न्यून धनात्मक होता है।

प्रतिचुंबकीय पदार्थों में, प्रेरित चुंबकत्व द्वारा पदार्थ के चुंबकीय क्षेत्र को कमजोर किया जाता है। इसलिए चुम्बकीय संवेदनशीलता का मान न्यून ऋणात्मक होता है।

लौहचुंबकीय, फेरिचुंबकीय पदार्थों में बाहरी चुंबकीय क्षेत्र के बिना भी स्थायी चुंबकत्व होता है। इसलिए इन पदार्थो में चुंबकीय संवेदनशीलता का मान अधिक धनात्मक होता है।

QUESTION: 12

निम्नलिखित में से कौन-सा समीकरण चुंबकीय संवेदनशीलता का सही समीकरण है?

Solution:

चुंबकीय संवेदनशीलता एक आयामरहित आनुपातिक स्थिरांक है जो एक लागु किए गए चुंबकीय क्षेत्र की प्रतिक्रिया के रूप  में पदार्थ के चुंबकीकरण के परिमाण को इंगित करता है।

पदार्थ की चुंबकीय संवेदनशीलता (X) चुंबकीकरण I (चुंबकीय अघूर्ण प्रति इकाई आयतन) और लागु किए गए चुंबकीय क्षेत्र के तीव्रता H का अनुपात होता है।

X = I/H

QUESTION: 13

जब प्रेरित्र में विद्युत धारा के परिवर्तन का दर 0.5 एम्पियर/सेकेंड है, तो 8 हेनरी के प्रेरित्र में वोल्टेज (वोल्ट में) क्या होगा?

Solution:

दिया गया है कि, प्रेरकत्व (L) = 8 हेनरी 

विद्युत धारा के परिवर्तन का दर = 0.5 एम्पेयर/सेकेंड

QUESTION: 14

जब एक चुंबक के ध्रुव की मजबूती 30 एम्पियर-मीटर और चुंबक के ध्रुव का क्षेत्रफल 2 वर्ग मीटर है, तो चुंबक के चुंबकीकरण की तीव्रता (एम्पियर/मीटर में) ज्ञात कीजिये।

Solution:

किसी भी बिंदु पर चुंबकीय क्षेत्र तीव्रता को बाहरी चुंबकीय क्षेत्र के प्रभाव में रखे गए बिंदु द्वारा अनुभव किए जाने वाले बल के रूप में परिभाषित किया जाता है।

चुंबकीकरण की तीव्रता = ध्रुव की मजबूती/चुंबक के ध्रुव का क्षेत्रफल = 30/2 = 15 एम्पियर/मीटर

QUESTION: 15

एक पदार्थ का कौन-सा गुण इससे प्रवाहित होने वाले चुम्बकीय फ्लक्स का विरोध करता है?

Solution:

चुम्बकीय परिपथ में प्रतिष्टम्भ इससे प्रवाहित होने वाले चुम्बकीय फ्लक्स का विरोध करता है। यह विद्युतीय परिपथ में प्रतिरोध के समान होता है लेकिन विद्युतीय ऊर्जा का क्षय करने के बजाय यह चुंबकीय ऊर्जा को संग्रहित करता है। पारगम्यता प्रतिष्टम्भ के व्युत्क्रम होती है। चुम्बकीय परिपथ में पारगम्यता विद्युत धारा-कुंडली की संख्या के लिए चुम्बकीय फ्लक्स की मात्रा का माप होता है। यह विद्युतीय परिपथ में विद्युत चालकता के समान होता है।

QUESTION: 16

जब एक कुण्डल में 300 कुंडलियाँ हैं और कुण्डल का व्यास 12 सेमी है, तो 3 मीटर लम्बे वायु क्रोड़ सोलनॉइड का स्वः प्रेरण (मिलि हेनरी में) ज्ञात कीजिये।

Solution:

सोलनॉइड का प्रेरकत्व इस प्रकार दिया गया है,

= 0.426×10−3 = 0.42mH

QUESTION: 17

दो समान और समरूप आवेशों के मध्य में एक तीसरे समान और समरूप आवेश को रखा जाता है। तो यह तीसरा आवेश _______ होगा।

Solution:

दो समान और समरूप आवेशों के मध्य में एक तीसरे समान और समरूप आवेश को रखा जाता है। चूंकि आवेश को दो समरूप आवेशों के बीच में रखा जाता है, इसलिए बल दो आवेशों के कारण तीसरे आवेश पर कार्य करता है। इसलिए तीसरा आवेश स्थिर साम्यावस्था में रहेगा।

QUESTION: 18

कौन सा नियम बताता है कि "बंद पथ के चारों ओर चुंबकीय क्षेत्र तीव्रता H की समाकलित रेखा समोच्च द्वारा जुड़ी कुल विद्युत धारा के बराबर होती है"?

Solution:

दिया गया कथन, बंद पथ के चारों ओर चुंबकीय क्षेत्र तीव्रता H की समाकलित रेखा समोच्च द्वारा जुड़ी कुल विद्युत धारा के बराबर होती है। एम्पियर के परिपथ का नियम बताता है कि कुछ बंद लूप के आसपास चुंबकीय क्षेत्र की समाकलित रेखा लूप के माध्यम से गुजरने वाली विद्युत धाराओं के बीजगणितीय योग के बराबर होती है।

QUESTION: 19

1000 कुंडलियों वाले एक कुण्डल को एक कोर में कुंडलित किया गया है। 1 एम्पियर की विद्युत धारा कुण्डल के माध्यम से प्रवाहित होकर 1 मिलिवेबर कोर फ्लक्स का निर्माण करती है। तो चुम्बकीय क्षेत्र में संग्रहित ऊर्जा क्या है?

Solution:

QUESTION: 20

निम्नलिखित में से कौन-सा मुक्त स्थान में चुम्बकीय पारगम्यता का सही मान है?

Solution:

पारगम्यता एक चुंबकीय क्षेत्र के निर्माण के समर्थन के लिए पदार्थ की क्षमता का माप है। इसलिए, यह चुंबकीकरण का परिमाण है जो कि एक लगाए गये चुंबकीय क्षेत्र के लिए एक पदार्थ द्वारा प्राप्त प्रतिक्रिया है।

मुक्त स्थान में चुम्बकीय पारगम्यता का मान μ0 = 4π × 10-7 हेनरी है।

Related tests