Past Year Paper - लेखांश ( 2019)


5 Questions MCQ Test अध्यायवार प्रश्न पत्र UPSC Topic Wise Previous Year Question | Past Year Paper - लेखांश ( 2019)


Description
This mock test of Past Year Paper - लेखांश ( 2019) for UPSC helps you for every UPSC entrance exam. This contains 5 Multiple Choice Questions for UPSC Past Year Paper - लेखांश ( 2019) (mcq) to study with solutions a complete question bank. The solved questions answers in this Past Year Paper - लेखांश ( 2019) quiz give you a good mix of easy questions and tough questions. UPSC students definitely take this Past Year Paper - लेखांश ( 2019) exercise for a better result in the exam. You can find other Past Year Paper - लेखांश ( 2019) extra questions, long questions & short questions for UPSC on EduRev as well by searching above.
QUESTION: 1

अल्प साधन युक्त (लो-एंड) IoT (इंटरनेट ऑफ थिंग्स) उपकरण सस्ती वस्तुएँ हैः इनमें सुरक्षा के साधन शामिल करने से इनकी लागत बढ़ जाती है। इस श्रेणी की वस्तुएँ नए अनुप्रयोगों (एप्लीकेशन) के साथ-साथ प्रचुर मात्रा में उपलब्ध हो रही है; अनेक गृह-उपयोगी साधित्र (अप्लायैसेस), तापस्थापी (थर्मोस्टैट्स), सुरक्षा और माॅनीटरन अनुप्रयुक्तियाँ (डिवाइसेस) और वैयक्तिक सुविधा अनुप्रयुक्तियाँ IoT की श्रेणी में आती हैं। इसी प्रकार स्वस्थता पर दृष्टि रखने वाली अनुप्रयुक्तियाँ कतिपय चिकित्सकीय अंतर्रोप (मप्लांट्स) और कारों (ऑटोमोबाइल्स) में प्रयुक्त होने वाली कम्प्यूटर जैसी अनुप्रयुक्तियाँ भी इसी श्रेणी में आती हैं। उम्मीद है कि IoT कई गुनी रफ़्तार से बढ़ेंगे-किंतु सुरक्षा की नई चुनौतियाँ निरुत्साहित कर रही हैं।
प्रश्न. उपर्युक्त परिच्छेद से निम्नलिखित कथनों में से कौन-सा एक, सर्वाधिक तर्कसंगत और विवकेपूर्ण निष्कर्ष निकाला जा सकता है ? [2019]

Solution:

परिच्छेद का अंतिम वाक्य परिचर्चा को विराम देता है तथा इसका सबसे तार्किक निष्कर्ष प्रस्ततु करता है।

QUESTION: 2

परिच्छेद-2
जैसे-जैसे डिजिटल परिघटना अधिकांश सामाजिक क्षेत्रकों को पुनर्संरचित कर रही है, इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि विश्वस्तरीय व्यापार वार्ताएँ अब डिजिटल क्षेत्र पर दृष्टि डाल रही है; इस प्रयास के साथ कि इसका एकांतिक रूप से उपनिवेशन करें। विकासशील देशों से बड़े आँकड़े (बिग डेटा) मुक्त रूप से संग्रहित या खनित किए जाते हैं और उन्हें विकसित देशों में डिजिटल आसूचना में रूपांतरित कर दिया जाता है। यह आसूचना विभिन्न क्षेत्रकों को नियंत्रित करना और एकाधिकारपरक किराया वसूल करना शुरू कर देती है। उदाहरण के लिए, टैक्सी (कैब) की सेवा प्रदान करने वाली एक बड़ी विदेशी कंपनी कारों और चालकों का नेटवर्क नहीं है यह आने-जाने, लोक परिवहन, सड़कों, यातायात, नगर की घटनाओं, यात्रियों और चालकों की वैयक्तिक व्यवहारपरक विशिष्टताओं आदि से संबंधित डिजिटल आसूचना ही है
प्रश्न. निम्नलिखित में से कौन-सा, उपर्युक्त परिच्छेद का सर्वाधिक तर्कसंगत और विवेकपूर्ण उपनिगमन है?   [2019]

Solution:

परिच्छेद का प्रारंभिक वाक्य विकसित देशों से खतरे की बात करता है। इसके अनुसार डिजिटल इंटेलिजेंस बनाने और वैश्विक व्यापार के विभिन्न क्षेत्रकों को नियंत्रित करने के लिए विकसित देश विकासशील देशों से बड़े-बड़े आकँड़े संग्रहित करने हेतु नज़र गड़ाए हुए हैं। अतः (ख) परिच्छेद का सबसे उपयुक्त परिणाम है।

QUESTION: 3

परिच्छेद-2
जैसे-जैसे डिजिटल परिघटना अधिकांश सामाजिक क्षेत्रकों को पुनर्संरचित कर रही है, इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि विश्वस्तरीय व्यापार वार्ताएँ अब डिजिटल क्षेत्र पर दृष्टि डाल रही है; इस प्रयास के साथ कि इसका एकांतिक रूप से उपनिवेशन करें। विकासशील देशों से बड़े आँकड़े (बिग डेटा) मुक्त रूप से संग्रहित या खनित किए जाते हैं और उन्हें विकसित देशों में डिजिटल आसूचना में रूपांतरित कर दिया जाता है। यह आसूचना विभिन्न क्षेत्रकों को नियंत्रित करना और एकाधिकारपरक किराया वसूल करना शुरू कर देती है। उदाहरण के लिए, टैक्सी (कैब) की सेवा प्रदान करने वाली एक बड़ी विदेशी कंपनी कारों और चालकों का नेटवर्क नहीं है यह आने-जाने, लोक परिवहन, सड़कों, यातायात, नगर की घटनाओं, यात्रियों और चालकों की वैयक्तिक व्यवहारपरक विशिष्टताओं आदि से संबंधित डिजिटल आसूचना ही है
प्रश्न. निम्नलिखित में से कौन-सा, उपर्युक्त परिच्छेद का सर्वाधिक निश्चयात्मक रूप से उपलक्षित होता है? [2019]

Solution:
QUESTION: 4

परिच्छेद-3
भारत समेत पूरे विश्व के ग्रामीण निर्धनों का मानव-कृत जलवायु परिवर्तन में नगण्य योगदान रहा है, तथापि इसके प्रभावों का सामना करने में वे अगिम्र पंक्ति में हैं। कृषक अब वर्षा और तापमान के ऐतिहासिक औसतों पर भरोसा नहीं कर सकते, और अधिक बारांबर होने वाली आत्यंतिक मौसमी घटनाएँ, जैसे सूखा और बाढ़, महाविपदाओं के रूप में परिणामित हो सकती हैं। और नए ख़तरे सामने हैं, जैसे कि समुद्र स्तर में वृद्ध और जल-पूर्ति पर पिघलते हुए हिमनदों का प्रभाव। छोटे कृषि-फार्म कितने महत्त्वपूर्ण हैं? पूरे विश्व में लगभग दो अरब (बिलियन) लोग अपने भोजन और आजीविका के लिए उन पर निर्भर हैं। भारत में छोटी जात वाले किसान देश का 41 प्रतिशत खाद्यान्न और खाद्य-पदार्थ उत्पादित करते हैं जिसका स्थानीय एवम राष्ट्रिय खाद्य सुरक्षा में योगदान है।
प्रश्न. उपर्युक्त परिच्छेद का सर्वाधिक तर्कसंगत और विवेकपूर्ण उपनिगमन कौन -सा है ?   [2019]

Solution:

कृषक वर्षा तथा तापमान के लिए ऐतिहासिक औसत पर भरोसा नहीं कर सकते हैं; मौसम की विषम घटनाएँ जैसे-सूखा एवं बाढ़ अब प्रायः हो रही है और ये आपदाओं के लिए आमंत्रण है। समुद्री जल स्तर में वृद्धि के कारण बहुत सी भूमि उसमें समा गई हैं एवं हिमनदों के पिघलने से जलापूर्ति बाधित हुई है। अतः खाद्य सुरक्षा में 41% योगदान करने वाले लघु कृषकों को सहायता प्रदान करना पर्यावरणीय रूप से सतत् विकास के लिए अपरिहार्य है।
 

QUESTION: 5

परिच्छेद-3
भारत समेत पूरे विश्व के ग्रामीण निर्धनों का मानव-कृत जलवायु परिवर्तन में नगण्य योगदान रहा है, तथापि इसके प्रभावों का सामना करने में वे अगिम्र पंक्ति में हैं। कृषक अब वर्षा और तापमान के ऐतिहासिक औसतों पर भरोसा नहीं कर सकते, और अधिक बारांबर होने वाली आत्यंतिक मौसमी घटनाएँ, जैसे सूखा और बाढ़, महाविपदाओं के रूप में परिणामित हो सकती हैं। और नए ख़तरे सामने हैं, जैसे कि समुद्र स्तर में वृद्ध और जल-पूर्ति पर पिघलते हुए हिमनदों का प्रभाव। छोटे कृषि-फार्म कितने महत्त्वपूर्ण हैं? पूरे विश्व में लगभग दो अरब (बिलियन) लोग अपने भोजन और आजीविका के लिए उन पर निर्भर हैं। भारत में छोटी जात वाले किसान देश का 41 प्रतिशत खाद्यान्न और खाद्य-पदार्थ उत्पादित करते हैं जिसका स्थानीय एवम राष्ट्रिय खाद्य सुरक्षा में योगदान है।
प्रश्न. उपर्युक्त परिच्छेद उपलक्षित करता है कि    [2019] 
1. भारत में खाद्य असुरक्षा की संभावित समस्या है। 
2. भारत को अपनी आपदा प्रबंधन की क्षमताएँ मजबूत करनी होंगी। उपर्युक्त में से कौन-सी पूर्वधारणा/पूर्वधारणाएं वैध है/हैं ?

Solution:

लघु कृषकों को समर्थिक आह्वान का अनुगमन पूर्वधारणा 1 करती है। 2 भी मान्य है क्योंकि यह भी निर्धन कृषकों को समर्थन देता है।

Related tests