Test: Solid Mechanics- 2


20 Questions MCQ Test Mock Test Series of SSC JE Civil Engineering (Hindi) | Test: Solid Mechanics- 2


Description
This mock test of Test: Solid Mechanics- 2 for Civil Engineering (CE) helps you for every Civil Engineering (CE) entrance exam. This contains 20 Multiple Choice Questions for Civil Engineering (CE) Test: Solid Mechanics- 2 (mcq) to study with solutions a complete question bank. The solved questions answers in this Test: Solid Mechanics- 2 quiz give you a good mix of easy questions and tough questions. Civil Engineering (CE) students definitely take this Test: Solid Mechanics- 2 exercise for a better result in the exam. You can find other Test: Solid Mechanics- 2 extra questions, long questions & short questions for Civil Engineering (CE) on EduRev as well by searching above.
QUESTION: 1

लंबाई L के केंटीलीवर के पूर्ण विस्तार और फ्लेक्सुरल कठोरता EI पर समान रूप से वितरित भार w/इकाई लंबाई का अधिकतम विक्षेपण क्या होगा?

Solution:
QUESTION: 2

L लंबाई के एक स्तम्भ के समतुल्य लंबाई, जिसमें एक छोर स्थायी है और दुसरा मुक्त है, वह क्या होगी?

Solution:

विभिन्न अंत स्थितियों के अंतर्गत कॉलम की प्रभावी लंबाई निम्न प्रकार से है:

1. दोनों हिन्ज किए हुए छोर के लिए: Le = L

2. एक छोर स्थायी और दूसरा छोर मुक्त Le = 2L

3. दोनों छोर स्थायी = Le = L/2

4. एक छोर स्थायी और दूसरा हिन्ज किया हुआ हो: 

QUESTION: 3

विभिन्न सामग्री से बनी दो छड़ें समान आकार की है और उन पर समान तनन बल आरोपित किया जाता है। यदि छड़ का इकाई दिर्घीकरण अनुपात 3 : 8 है, तो दोनों सामग्री के प्रत्यास्था गुणांक का अनुपात कितना होगा?

Solution:
QUESTION: 4

दो समान व् विपरीत मुख्य तनाव जिनका परिमाण 'p' है, के लिए मोर के वृत की त्रिज्या कितनी होगी?

Solution:

मोर के वृत की त्रिज्या निम्नानुसार होगी:

 

मुख्य समतल पर, σx = σ1, σy = σ2

τxy = 0

σ= p , σ2 = -p

r = p

QUESTION: 5

प्रत्यास्था गुणांक (E), अपरूपण गुणांक (G) और आयतन प्रत्यास्थता गुणांक (K) के बीच उपयुक्त संबंध कौन सा है?

Solution:

प्रत्यास्था गुणांक (E), अपरूपण गुणांक (G) और आयतन प्रत्यास्थता गुणांक (K) के बीच संबंध इस प्रकार है-

दिए गए समीकरण को व्यवस्थित करने पर-

3KE + GE = 9KG

3KE – 9KG = - GE

K(3E – 9G) = - GE

QUESTION: 6

B पर शून्य से क्रमशः परिवर्तनीय लोड के साथ एक सरल समर्थित बीम और A पर w प्रति इकाई लंबाई के अनुसार जैसा नीचे चित्र में दिखाया गया है, B पर अपरूपण बल कितना होगा?

Solution:

SFy = 0

RA + RB = wL/2

B के अनुरूप सभी बलों का आघूर्ण लेने पर = 0

QUESTION: 7

जब अपरूपण बल आरेख दो बिंदुओं के बीच एक परवलयिक वक्र होता है, तो यह इंगित करता है कि ________ है।

Solution:

अपरूपण बल आरेख, बंकन आघूर्ण आरेख और लोडिंग आरेख के बीच सामान्य संबंध इस प्रकार है:

1. अपरूपण बल आरेख लोडिंग आरेख से 1o अधिक है।

2. बंकन आघूर्ण आरेख अपरूपण बल आरेख से 1o अधिक है।

3. बीम पर समान रूप से परिवर्तनीय भार के लिए, अपरूपण बल आरेख प्रकृति में परवलयिक है।

4. बीम पर समान रूप से परिवर्तनीय भार के लिए, बंकन आघूर्ण आरेख भी परवलयिक है लेकिन अपरूपण बल आरेख से 1o अधिक है।

QUESTION: 8

वृत्ताकार प्लेट के जड़त्वाघूर्ण का, समान गहराई वाली वर्गाकार प्लेट के साथ का अनुपात ______ होगा।

Solution:
QUESTION: 9

एक शाफ्ट से दूसरे शाफ्ट तक एक बलाघूर्ण संचारित करने के लिए 50 mm व्यास के एक गोलाकार शाफ्ट की आवश्यकता होती है। यदि अपरूपण तनाव 40 Mpa से अधिक नहीं है, तो सुरक्षित बलाघूर्ण कितना होगा?

Solution:

नीचे दिए गए सम्बन्ध का उपयोग करने पर:

जहाँ,

T = शाफ्ट पर लगाया जाने वाला बलाघूर्ण

IP = ध्रुवीय खंड गुणांक

τ = पदार्थ में अपरूपण तनाव

R = शाफ़्ट की त्रिज्या


= 0.982 kN-m

QUESTION: 10

अधिकतम अपरूपण विकृति ऊर्जा सिद्धांत किसके द्वारा प्रस्तावित किया गया था?

Solution:

1. अधिकतम प्रमुख तनाव सिद्धांत रैंकिन द्वारा प्रस्तावित किया गया था। यह भंगुर सामग्री के लिए उपयुक्त है।

2. अधिकतम प्रमुख विकृति सिद्धांत सेंट वेनेंट द्वारा प्रस्तावित किया गया था। यह सिद्धांत दोनों भंगुर और तन्य सामग्री के लिए सटीक नहीं है।

3. अधिकतम अपरूपण तनाव सिद्धांत ट्रेस्का द्वारा प्रस्तावित किया गया था। यह सिद्धांत तन्य सामग्री के लिए उपयुक्त है। इसके परिणाम सबसे सुरक्षित हैं।

4. अधिकतम अपरूपण विकृति ऊर्जा सिद्धांत वोन-मिसेस द्वारा प्रस्तावित किया गया था। शुद्ध अपरूपण के मामले में इसके परिणाम तन्य सामग्री के लिए सटीक हैं।

QUESTION: 11

एक शाफ़्ट 150 घूर्णन प्रति मिनट की दर पर, 1500 Nm के बलाघूर्ण के अधीन घूर्णन कर रहा है, तो प्रेषित शक्ति ज्ञात करें।

Solution:

QUESTION: 12

यदि एक बंद कुंडलित हेलिकल स्प्रिंगमें जब 5mm का विस्तारण होता है तब यह 30 N-mm उर्जा अवशोषित करती है। स्प्रिंग की कठोरता _______ है।

Solution:

QUESTION: 13

5 mm की इस्पात की छड़ 5°C से 40°C तक गरम होती है और विस्तार के लिए स्वतंत्र होती है। छड़ _______ प्रेरित करेगी।

Solution:

जब एक पदार्थ तापमान परिवर्तन से गुज़रता है, तो यह तापमान के बढ़ने या घटने के आधार पर या तो फैलता है या सिकुड़ता है। यदि लम्बाई या संकुचन प्रतिबंधित नहीं है, अर्थात स्वतंत्र है, तो पदार्थ में किसी प्रकार तनाव नहीं होगा बल्कि यह विकृत हो जायेगा ।

QUESTION: 14

एक समान मोटाई t और लम्बाई L वाली एक छड़ समान रूप से एक छोर पर चौड़ाई  b1 से दुसरे छोर पर चौड़ाई b2 तक पतली होती जाती है। अक्षीय दाब P के अंतर्गत छड़ का विस्तार कितना होगा?

Solution:
QUESTION: 15

हुक के नियम का अनुसरण करने वाली पूर्ण रूप से अपररूप प्रत्यास्थ सामग्री के लिए प्रत्यास्थता स्थिरांक कितना होगा?

Solution:

QUESTION: 16

यंग मापांक 120 GPa और अपरूपण मापांक 50 GPa वाले एक पदार्थ का प्वासों अनुपात (Poisson’s ratio) ज्ञात करें।

Solution:

QUESTION: 17

वंकन के अंतर्गत सीधे सदस्य में दो बिंदुओं के बीच ढलान में परिवर्तन उन दो बिंदुओं के बीच आरेख के क्षेत्रफल के बराबर होता है। इस कथन को ______ के रूप में जाना जाता है।

Solution:
QUESTION: 18

एक आयताकार खंड में एक सरल समर्थित बीम है। इसके पूर्ण विस्तार में समान रूप से भार वितरित होता है। केंद्र पर विक्षेपण "y" है। यदि बीम की गहराई दोगुनी हो जाती है, तो केंद्र पर विक्षेपण कितना होगा?

Solution:

बीम का विक्षेपण बीम के जड़त्वाघूर्ण के क्षेत्र के व्युत्क्रमानुपाती होता है।

 

आयताकार खंड के लिए जड़त्वाघूर्ण, 

माना गहराई दोगुनी करने पर विक्षेपण yfinal है

QUESTION: 19

व्यास D वाले एक ठोस वृत्ताकार शाफ़्ट के प्रतिरोध आघूर्ण और खोखले शाफ़्ट (बाह्य व्यास D और आतंरिक व्यास d) के बीच का अनुपात निम्न में से किस द्वारा दिया जाता है?

Solution:

जैसे की हमें ज्ञात है,

M ∝ Z

QUESTION: 20

रैंकिन सिद्धांत ________ पर लागू होता है।

Solution:

छोटे या लम्बे स्तम्भ के लिए रैंकिन सूत्र का उपयोग किया जाता है।

जहां P रैंकिन सूत्र द्वारा व्याकुंचन भार है; PC सन्दलन भार है; PE यूलर के सूत्र द्वारा व्याकुंचन भार है।

छोटे स्तम्भ के लिए : PE बहुत अधिक है, इसलिए  बहुत छोटा होगा और  की तुलना में नगण्य है। इसलिए

लम्बे स्तम्भ के लिए: PE छोटा है तो  

की तुलना में   बड़ा होगा। इसलिए   का मान छोड़ा जा सकता है। इसलिए,

इसलिए, लंबे स्तम्भ के लिए रैंकिन के सूत्र द्वारा व्याकुंचन भार लगभग यूलर के सूत्र द्वारा व्याकुंचन भार के बराबर है।

Related tests