Civil Engineering (CE) Exam  >  Civil Engineering (CE) Tests  >  Mock test series of SSC JE Civil Engineering (Hindi) 2024  >  Irrigation Engineering - 1 MCQ - Civil Engineering (CE) MCQ

Irrigation Engineering - 1 MCQ - Civil Engineering (CE) MCQ


Test Description

20 Questions MCQ Test Mock test series of SSC JE Civil Engineering (Hindi) 2024 - Irrigation Engineering - 1 MCQ

Irrigation Engineering - 1 MCQ for Civil Engineering (CE) 2024 is part of Mock test series of SSC JE Civil Engineering (Hindi) 2024 preparation. The Irrigation Engineering - 1 MCQ questions and answers have been prepared according to the Civil Engineering (CE) exam syllabus.The Irrigation Engineering - 1 MCQ MCQs are made for Civil Engineering (CE) 2024 Exam. Find important definitions, questions, notes, meanings, examples, exercises, MCQs and online tests for Irrigation Engineering - 1 MCQ below.
Solutions of Irrigation Engineering - 1 MCQ questions in English are available as part of our Mock test series of SSC JE Civil Engineering (Hindi) 2024 for Civil Engineering (CE) & Irrigation Engineering - 1 MCQ solutions in Hindi for Mock test series of SSC JE Civil Engineering (Hindi) 2024 course. Download more important topics, notes, lectures and mock test series for Civil Engineering (CE) Exam by signing up for free. Attempt Irrigation Engineering - 1 MCQ | 20 questions in 12 minutes | Mock test for Civil Engineering (CE) preparation | Free important questions MCQ to study Mock test series of SSC JE Civil Engineering (Hindi) 2024 for Civil Engineering (CE) Exam | Download free PDF with solutions
1 Crore+ students have signed up on EduRev. Have you? Download the App
Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 1

लेसी के सिद्धांत के अनुसार 144 क्यूमेक के निर्वहन के लिए रेजिम चैनल की गीली परिधि क्या होगी

Detailed Solution for Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 1

गीली परिधि की गणना निम्नानुसार की जाती है = 4.75√Q

जहाँ Q = क्यूमेक में निर्वहन

गीली परिधि = 4.75√144 = 57 m

Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 2

यदि 25C पर पानी की विद्युत चालकता 750 से 2250 micro mhos/cm के बीच है, तो इसे किस प्रकार से वर्गीकृत किया जायेगा?

Detailed Solution for Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 2

यह विद्युत प्रतिरोधकता का प्रतिलोम होती है। मात्रात्मक रूप से विद्युत प्रतिरोधकता एक सुचालक, धातु या विद्युत अपघट्य की ओम में प्रतिरोधकता है जो 1 cm लम्बा है एवं 25oC पर जिस का अनुप्रस्थ-काट क्षेत्र 1 cm2 है।

इकाई:

EC = ohms/cm का प्रतिलोम or mhos/cm.

Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 3

समोच्च के लंबवत बनने वाली नहर क्या कहलाती है?

Detailed Solution for Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 3

जल विभाजक नहर: किसी भी प्राकृतिक जल विभाजक के साथ बनने वाली नहर को जल विभाजक नहर कहते हैं।

सम्मोच नहर: एक समोच्च नहर एक कृत्रिम रूप से बनाई गई चलायमान नहर है जो भूमि की सम्मोच रेखा के निकट अनुगामी होती है, इसका उपयोग महंगे इंजीनियरिंग कार्यों जैसे उच्च भूमि के माध्यम से एक सुरंग बनाने, निचले भूमि स्तर पर तटबंध बनाने, नहरों के स्तर को बदलने के लिए नहरों के जलपाश (पाश की श्रेणी) बनाने आदि से बचने के लिए किया जा सकता है। इस कारण से, इन नहरों को इनके घुमावदार जलमार्ग द्वारा चिह्नित किया जा सकता है।

पक्ष ढलान नहर: एक पक्ष ढलान नहर वह है जो समोच्चों के साथ लंबवत बनती है, अर्थात पक्ष ढलानों के साथ।

शाखा नहर: मुख्य नहर से निकलने वाली नहर शाखा नहर के रूप में जानी जाती है।

Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 4

एक ओजी स्पिलवे से गुजरने वाला निर्वहन ________ होगा। जहां, L स्पिलवे के शीर्ष की लम्बाई है एवं H स्पिलवे शीर्ष का कुल हेड है जिस में वेग का हेड भी शामिल है​।

Detailed Solution for Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 4

ओजी स्पिलवे से गुजरने वाला निर्वहन:

He = शीर्ष की धारा के प्रतिकूल कुल हेड

L = शीर्ष की चौड़ाई

Cd = निर्वहन स्थिरांक
C = स्थिरांक, जिसका मान 

Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 5

नहर में सोडियम कार्बोनेट अस्तर में __________ आवश्यक रूप से होता है।

Detailed Solution for Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 5

सोडियम कार्बोनेट अस्तर में 10% मिट्टी और 6% सोडियम कार्बोनेट होता है। यह अस्तर टिकाऊ नहीं होता है। एस्फाल्ट अस्तर को 3 मिमी से 6 मिमी तक की मोटाई के लिए एक बहुत अधिक तापमान (लगभग 1500C) पर उपश्रेणि पर एस्फाल्ट (यानी बिटुमेन) छिड़ककर तैयार किया जाता है।

Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 6

जब उपतट पूरी तरह से बन जाते हैं, तब:

Detailed Solution for Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 6

उपतट: भू स्तर पर भूमि की एक संकीर्ण पट्टी जो तट के भीतरी अग्रभाग और काट के ऊपरी सिरे के बीच बनती है, वह उपतट कहलाती है। उपतट तटों को अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान करता है एवं इसे दरारों से बचाता है और जब उपतट पूर्ण रूप से बन जाते हैं तो ये निम्नलिखित कार्य करते हैं:

i) एक बड़ा जल मार्ग प्रदान करते हैं

ii) लहरों के कारण होने वाले क्षरण से तट को बचाते हैं

iii) अवशोषण द्वारा होने वाले नुकसान को कम करते हैं और रिसाव को रोकते हैं

iv) भविष्य में चैनल को चौड़ा करने के लिए आधार प्रदान करते हैं

v) तटबंध के भीतर संतृप्ति रेखा बनाते हैं

Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 7

केनेडी द्वारा प्रतिपादित प्रवाह का क्रांतिक वेग (Vo) क्या होगा? 

जहाँ, m = क्रांतिक वेग अनुपात, D = चैनल के तल से जल की गहराई (मीटर में)

Detailed Solution for Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 7

केनेडी द्वारा दिए गए प्रवाह (Voका क्रांतिक वेग 

जहाँm = क्रांतिक वेग अनुपात

D = चैनल के तल से जल की गहराई (मीटर में)

Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 8

निम्न में से जलाक्रांति के मुख्य कारण कौन से हैं?

Detailed Solution for Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 8

एक भूमि पर जलक्रांति तब होगी यदि पौधे के जड़ वाले क्षेत्र में जल स्तर बढ़ने के कारण वायु परिसंचरण बंद हो जाए।

जलक्रांति के मुख्य कारण इस प्रकार हैं:

i) अपर्याप्त जल अपवाह तंत्र

ii) बहुतायत और गहन सिंचाई

iii) अभेद्य परतों की उपस्थिति

iv) मिट्टी की प्रकृति

v) नहरों का रिसाव

vi) भूमि की स्थलाकृति

Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 9

100 दिनों के आधार अवधि वाली किसी विशेष फसल के लिए 500 हेक्टेयर क्षेत्र को सिंचित किया जाना है। फसल के लिए जरूरी पानी की गहराई 100 cm है। पानी की ड्यूटी की गणना कीजिये (हेक्टेयर प्रति घन मीटर में )​।

Detailed Solution for Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 9

सम्बन्ध का उपयोग करते हुए

Δ → आवश्यक पानी की गहराई (cm)

D → ड्यूटी (प्रति क्यूमेक हेक्टेयर)

B → आधार अवधि (दिनों में )

Δ = 100 cm,   B = 100 दिन

D = 864 प्रति क्यूमेक हेक्टेयर

Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 10

जल के निर्बाध आगमन के लिए नियामक एवं जल के बीच 'x' कोण होता है। 'x' का मान क्या होगा?

Detailed Solution for Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 10

सिंचाई के पानी की आपूर्ति को विनियमित करने के लिए निर्मित सिंचाई कार्यों को नियामक कहा जाता है।

निर्बाध आगमन के लिए इन नियामकों को पानी के साथ 110° के कोण पर स्थापित किया जाता है​।

Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 11

सरदा झरने के आयताकार शीर्ष पर निर्वहन के लिए संबंध क्या होगा?

जहाँ, L =.शीर्ष की लम्बाई (मीटर में)

B = शीर्ष की ऊपरी चौड़ाई (मीटर में)

H = पानी की गहराई (मीटर में)

Detailed Solution for Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 11

सरदा झरने के आयताकार शीर्ष का निर्वहन इस प्रकार होगा:

जहाँ, L =.शीर्ष की लम्बाई (मीटर में)

B = शीर्ष की ऊपरी चौड़ाई (मीटर में)

H = पानी की गहराई (मीटर में)

Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 12

लाईसिमीटर निम्न में से किसे मापने के लिए उपयोग किया जाता है?

Detailed Solution for Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 12

लाईसिमीटर वाष्पन-उत्सर्जन को मापने के लिए उपयोग किया जाता है। किसी क्षेत्र में होने वाली वर्षण की मात्रा और मिट्टी के माध्यम से खोई हुई मात्रा को रिकॉर्ड करके, वाष्पन-उत्सर्जन के कारण खोई हुई पानी की मात्रा को मापा जा सकता है।

Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 13

ड्यूटी की इकाई निम्न में से क्या है?

Detailed Solution for Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 13

बेस अवधि B के लिए बहने वाले इकाई निर्वहन से हेक्टेयर में सिंचित क्षेत्र को ड्यूटी कहा जाता है। यह हेक्टेयर प्रति क्यूमेक में मापा जाता है।

Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 14

लेसी का रेजिम सिद्धांत निम्न में से किस पर लागू नहीं होता है?

Detailed Solution for Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 14

यदि कोई चैनल को कम चौड़ाई और समतल तल ढलान के साथ खोदा जाता है, तो प्रवाह उत्पन्न होता है और तल ढलान गाद के निक्षेपण होने के कारण बढ़ जाती है। तल ढलान के बढ़ने के साथ, चैनल की गहराई बदल सकती है लेकिन चैनल की चौड़ाई वही रहती है क्योंकि चैनल आमतौर पर संसंजिक होता है और अपरदन का प्रतिरोध करता है।

अंतिम रेजिमयह चैनल द्वारा प्राप्त की गई रेजिम की अन्तिम स्थिति है जब ढलान, चौड़ाई और गहराई आवश्यकता के अनुसार समायोजित हो गए होते हैं। किनारों के प्रतिरोध पर पानी की निरंतर प्रक्रिया के कारण काबू पाया जा चूका होता है।

यथार्थ रेजिम: व्यावहारिक रूप से, यथार्थ रेजिम कभी प्राप्त नहीं होता।

लेसी का सिद्धांत प्रारंभिक रेजिम पर लागू नहीं होता है। सही रेजिम प्राप्त नहीं होता है, अत:यह सिद्धांत अंतिम रेजिम चैनलों पर लागू होता है।

Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 15

निम्न में से सुपर मार्ग कौनसा है?

Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 16

जलमार्ग के शीर्ष पर एक संरचना का निर्माण किया जाता है ताकि इसे किसी लघु या वितरक चैनल से जोड़ा जा सके, निम्न में से उस लघु या वितरक चैनल को क्या कहा जाता है?

Detailed Solution for Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 16

किसी भी सिंचाई उद्यम की सफलता, भूसेचक को पानी की पर्याप्त आपूर्ति वितरित करने की दक्षता पर निर्भर करती है। प्रत्येक भूसेचकको एक अच्छी फसल प्राप्त करने के लिए उचित समय पर नहर प्रणाली में अपनी सीमा के अनुपात में ख़ास मात्रा में पानी प्राप्त करना होता है। पानी का यह वितरण निर्गम के माध्यम से किया जाता है जिन्हें मॉड्यूल भी कहा जाता है। इसलिए, निर्गम का उचित डिजाइन न केवल नहर इंजिनियर के लिए बल्कि भुसेचक के लिए भी सबसे महत्वपूर्ण है।

Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 17

यदि मूल तल के नीचे स्कौर की गहराई D है, तो आम तौर पर लॉन्चिंग एप्रन की चौड़ाई निम्न में से कितनी ली जाती है?

Detailed Solution for Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 17

वक्र शीर्ष पर नदी के तल का भारी स्कौर और मार्गदर्शक किनारों के झुकाव पत्थर पिचिंग को क्षीण कर सकते हैं जिसके परिणाम स्वरूप मार्गदर्शक किनारे टूट सकते हैं। गाइड बैंकों के सिरे के पार लॉन्चिंग एप्रन प्रदान करके ऐसी विफलता को रोका जा सकता है। लॉन्चिंग एप्रन की चौड़ाई आम तौर पर 1.5 D ली जाती है।

Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 18

निम्न में से रबी फ़सल कौनसी है?

Detailed Solution for Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 18

मानसून खत्म हो जाने के बाद, रबी की फ़सलों को मध्य नवंबर में बोया जाता है और कटाई अप्रैल/मई में शुरू होती है। फसलों को या तो जमीन में रिसे बारिश के पानी से, या सिंचाई के साथ उगाया जाता है।

भारत में गेहूं के बाद जौ, सरसों, तिल और मटर प्रमुख रबी फसलें हैं।

Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 19

निम्न में से बैराज में अनुप्रवाह शीट पाईल प्रदान करने का उद्देश्य क्या है?

Detailed Solution for Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 19

मिट्टी के बांध से जो पानी का रिसाव होता है और उनकी नीवें विमुक्त मिट्टी के कणों को वाहित कर सकती हैं। रिसाव बल अपदरक मिट्टी को बांध के अनुप्रवाह फेस की ओर बढ़ता है और बांध के टूटने का कारण बन सकता है जिसे पाइपिंग विफलता के रूप में जाना जाता है। अनुप्रवाह शीट पाईल पाइपिंग के कारण हुई विफलता को नियंत्रित करने के लिए उपयोग होता है।

Irrigation Engineering - 1 MCQ - Question 20

निम्न में से कौनसे स्पिलवे गेट नीचे किये जाने पर दूरी से दिखाई नहीं देते?

39 tests
Information about Irrigation Engineering - 1 MCQ Page
In this test you can find the Exam questions for Irrigation Engineering - 1 MCQ solved & explained in the simplest way possible. Besides giving Questions and answers for Irrigation Engineering - 1 MCQ, EduRev gives you an ample number of Online tests for practice

Up next

Download as PDF

Up next

Download the FREE EduRev App
Track your progress, build streaks, highlight & save important lessons and more!