Test: Surveying- 1


20 Questions MCQ Test Mock Test Series of SSC JE Civil Engineering (Hindi) | Test: Surveying- 1


Description
Attempt Test: Surveying- 1 | 20 questions in 12 minutes | Mock test for Civil Engineering (CE) preparation | Free important questions MCQ to study Mock Test Series of SSC JE Civil Engineering (Hindi) for Civil Engineering (CE) Exam | Download free PDF with solutions
QUESTION: 1

जब असमतल जमीन पर वक्र स्थापित किया जाना है, तो इस्तेमाल की जाने वाली विधि निम्न में से क्या होगी?

Solution:

द्वि थियोडोलाइट विधि: इस विधि में, वक्र केवल कोणीय माप से जांचे जाते जाते हैं। इस विधि में प्राप्त सटीकता काफी उच्च होती है। इस प्रकार, विधि का उपयोग तब किया जाता है जब उच्च परिशुद्धता की आवश्यकता होती है और जब स्थलाकृति अनियमित होती है या क्षेत्र की स्थिति अशिष्ट होती है। जब भी असमतल जमीन पर वक्र स्थापित किया जाना है, तो यह विधि अपनाई जाती है।

टैकोमेट्रिक विधि: जब जमीन असमतल होती है और मापन सही तरीके से नहीं किया जा सकता है तब इस विधि का कभी-कभी उपयोग किया जाता है। स्पर्शरेखा के कोणों की सामान्य तालिका का उपयोग वक्र पर संबंधित बिंदुओं की दिशा प्राप्त करने के लिए किया जा सकता है।

QUESTION: 2

प्रत्येक 20 मीटर श्रृंखला निम्न में से किस के अंतर्गत सटीक होनी चाहिए?

Solution:

चूंकि श्रृंखला धातु से बनती है, इसलिए तापमान प्रभाव या मानव त्रुटि आदि के कारण इसमें कई बदलाव हो सकते हैं। इसलिए श्रृंखला की सभी लंबाई के लिए सहिष्णुता दी जाती है:

1. 5 मीटर श्रृंखला: + या - 3 मिमी

2. 10 मीटर श्रृंखला: + या - 3 मिमी

3. 20 मीटर श्रृंखला: + या - 5 मिमी

4. 30 मीटर श्रृंखला: + या - 8 मिमी

QUESTION: 3

किसी भी स्थान पर एक सर्वेक्षण पट्ट की स्थापना में :-

Solution:

समतल तालिका सर्वेक्षण करने के लिए विभिन्न स्थानों पर प्रत्येक सर्वेक्षण पट्ट को स्थापित करने के लिए निम्न प्रक्रिया का पालन करना होगा:

(ए) सर्वेक्षण पट्ट को तिपाई स्टैंड में फिक्स करना

(बी) समन्वायोजन और अस्थायी समायोजन:

(i) पारा बटाम(स्पिरिट लेवल) की सहायता से सर्वेक्षण पट्ट को समतल करना

(ii) प्लंबिंग फोर्क की मदद से केन्द्रीकरण करना

(iii) ट्रौ कंपास(द्रोणिका दिशा सूचक यंत्र) द्वारा या बेक साइटिंग द्वारा अनुस्थापन करना

QUESTION: 4

स्टेडिया प्रणाली द्वारा टैकोमीट्रि के लिए नियोजित थियोडोलाइट सामान्य अवगमन से मात्र तब भिन्न होता है जब डायाफ्राम निम्न में से किसी एक के साथ स्थायी होता है:

Solution:

स्टेडिया में डायाफ्राम में अनिवार्य रूप से एक स्टेडिया हेयर ऊपर की ओर व दूसरा क्षैतिज क्रॉसहेयर के नीचे की ओर एक समान दूरी पर होता है, स्टेडिया हेयर एक ही चक्रपथ में, उर्ध्वाधर और क्षैतिज क्रॉसहेयर के समान, उर्ध्वाधर तल में, स्थापित किए गए होते हैं। स्टेडिया प्रणाली में स्टाफ़, डायाफ्राम पर मौजूद स्टेडिया हेयर की एक जोड़ी पर, अवरोधन करता हैI

स्टेडिया प्रणाली में, स्टाफ़ पर लक्ष्यों को ज्ञात अंतराल पर स्थिर किया जाता है और स्टेडिया हेयर को इस प्रकार समायोजित किया जाता है कि, ऊपरी हेयर ऊपरी लक्ष्य को और निचला हेयर निचले लक्ष्य को द्विविभाजित करे।

सामान्य अवगमन प्रणाली में, स्टेडिया हेयर पर अवलोकन नहीं किए जाते हैं।

QUESTION: 5

लंबन बार ________ मापने के लिए प्रयोग किया जाता है:-

Solution:

लंबन बार एक ऐसा यंत्र है जो दर्पण (स्टिरियोस्कोप)त्रिविमदर्शी के उपयोग के लिए डिज़ाइन किया गया है जिसमें दस इंच या उससे कम का त्रिविमेक्ष मूल होता है। त्रिविमदर्शक तस्वीरों को देखते समय प्राकृतिक और मानव निर्मित आकृतिओं की लम्बाई के अंतर को निर्धारित करने के लिए इस बार का उपयोग किया जाता है।

QUESTION: 6

जब एक ट्रेवर्स रेखा का पूर्ण वृत्त बेअरिंग 90 और 180 के बीच होता है, तो:

Solution:
QUESTION: 7

यथार्थ मध्याह्न रेखा और दक्षिणावर्त दिशा में मापी जाने वाली सर्वेक्षण रेखा के बीच क्षैतिज कोण को क्या कहा जाता है?

Solution:

यथार्थ बेअरिंग(वहन): यह यथार्थ मध्याह्न रेखा और दक्षिणावर्त दिशा में मापी जाने वाली सर्वेक्षण रेखा के बीच की क्षैतिज दूरी है।

दिगंश: यह एक दिक्सूचक वहन(कंपास बेअरिंग) का क्षैतिज कोण या दिशा है।

एकपक्षीय मध्याह्न रेखा: किसी सर्वेक्षण स्थान से सुस्पष्ट स्थायी वस्तु तक किसी भी सुविधाजनक दिशा को एकपक्षीय मध्याह्न रेखा के रूप में जाना जाता है। इसका उपयोग छोटे क्षेत्र के सर्वेक्षण के लिए या छोटे ट्रेवर्स की सापेक्ष दिशा निर्धारित करने के लिए किया जाता है।

ग्रिड मध्याह्न रेखा: देश के सर्वेक्षण के लिए, केंद्रीय स्थान के माध्यम से गुजरने वाली यथार्थ मध्याह्न रेखा को कभी-कभी पूरे देश के लिए संदर्भ मध्याह्न रेखा के रूप में प्रयुक्त किया जाता है। इस तरह की मध्याह्न रेखा को ग्रिड मध्याह्न रेखा के रूप में जाना जाता है।

QUESTION: 8

भूमि सर्वेक्षण के लिए उपयोग किए गए दिक्सूचक में निम्नलिखित में से कौन सा अस्थायी समायोजन नहीं है?

Solution:

दिक्सूचक के अस्थायी समायोजन निम्न हैं:

1. दिक्सूचक को तिपाई पर स्थापित करना

2. दिक्सूचक को केंद्रित करना: भूतल स्थान चिह्न पर धुरी को लंबवत रखना

3. दिक्सूचक समतलन

4. वस्तु को देखना: संक्षेत्र के माध्यम से केन्द्रीकरण करके

5. बेअरिंग(व्यवहार) का निरीक्षण

QUESTION: 9

जीआईएस किस प्रकार के डेटा से संबंधित है?

Solution:

एक भौगोलिक सूचना प्रणाली (जीआईएस सॉफ्टवेयर) सभी प्रकार के भौगोलिक और स्थानिक डेटा को संग्रहित, पुनर्प्राप्त, प्रबंधित, प्रदर्शित और डेटा के विश्लेषण करने के लिए डिज़ाइन की गई है।

QUESTION: 10

थियोडोलाइट के अस्थायी समायोजन के लिए सही अनुक्रम कौन सा है?

Solution:

थियोडोलाइट का अस्थायी समायोजन:

सबसे पहले, उपकरण संबंधित स्थानक पर स्थापित किया जाता है, उसके पश्चात,

1. केन्द्रीकरण: स्थानक चिह्न के ठीक ऊपर लंबवत अक्ष को स्थापित करने के लिए

2. समतलीकरण: थियोडोलाइट के समतलन का समायोजन समतलीकरण पेंच या फूट पेंच का उपयोग करके किया जाता है। सर्वेक्षण में समतलन का उद्देश्य उपकरण की लम्बवत धुरी को वास्तव में लंबवत बनाना है।

3. लंबन का उन्मूलन: लंबन की स्थिति तब उत्पन्न होती है, जब लक्ष्य द्वारा बनाई गई छवि क्रॉसहेयर के समतल में नहीं होती है। थियोडोलाइट या टेलीस्कोप के अस्थायी समायोजन में यह महत्वपूर्ण कदमों में से एक है।

QUESTION: 11

निम्नलिखित में से कोन सा सबसे बड़ा पैमाना है?

Solution:

हल करने के अनुसार,

1/500 = 0.002

1/1000 = 0.001

1/2500 = 0.0004

1/50000 = 0.00002

अधिकत्तम 0.002 है अर्थात 1/500

QUESTION: 12

1.320 मीटर की ऊँचाई पर एक स्तर उपकरण 112.565 मीटर के कम स्तर (RL) वाले स्टेशन पर रखा गया है। उपकरण ब्रिज डेक के तल पर आयोजित एक स्तर के स्टाफ पर -2.835 मीटर का पठन करता है। ब्रिज डेक के तल का RL (मीटर में) निम्न में से क्या होगा?

Solution:
QUESTION: 13

प्रिज्मेटिक दिक्सूचक का अल्पतमांक निम्न में से क्या है?

Solution:

एक मापन उपकरण द्वारा मापे जाने वाले न्यूनतम मान को अल्पतमांक कहा जाता है।

प्रिज्मेटिक दिक्सूचक का अल्पतमांक = 30 मिनट = 30'

सर्वेयर के दिक्सूचक का अल्पतमांक = 15 मिनट = 15'

QUESTION: 14

S लम्बाई वाली एक लम्बवत छड़ के बिंदु A से छड़ के शीर्ष व तल तक बिंदु B पर θ1 और θ2 उन्नयन कोण हैं। क्षैतिज दूरी AB निम्न में से क्या होगी?

Solution:
QUESTION: 15

दो थियोडोलाइट विधि का उपयोग करके वक्र को निर्धारित करना क्या कहलाता है?

Solution:

दो थियोडोलाइट विधि में, वक्र केवल कोणीय मापन से जांचे जाते हैं। इस विधि में प्राप्त शुद्धता काफी अधिक होती है। इस प्रकार विधि का उपयोग तब किया जाता है जब उच्च सटीकता की आवश्यकता होती है और जब स्थलाकृति असमतल या क्षेत्र की स्थिति कठिन होती है।

QUESTION: 16

वह स्केल जिसमें तीन आयामों को मापा जा सकता है उसे किस स्केल के नाम से जाना जाता है?

Solution:

QUESTION: 17

वह उपकरण जो चैनिंग का उपयोग किए बिना सीधे क्षैतिज और ऊर्ध्वाधर दूरी प्राप्त करने के लिए सतह टैबलिंग में प्रयोग किया जाता है, उसे किस रूप में जाना जाता है?

Solution:
QUESTION: 18

निम्नलिखित में से कौन सा कथन सही है?

Solution:

वक्रता सुधार ऋणात्मक होता है और अपवर्तन सुधार घनात्मक होता है। यदि पिछला पठन अगले क्रमागत पठन से कम होता है, तो यह उतरते ढलान को इंगित करता है।

QUESTION: 19

निम्नलिखित में से कौन सा कथन सही है?

Solution:

वृद्धि और गिरावट विधि को पश्चावलोकन और पूर्वावलोकन, अंतिम आर.एल. और प्रथम आर.एल. की जाँच के लिए लागु किया जाता है, वृद्धि और गिरावट विधि उपकरण की ऊंचाई विधि से बेहतर होती है।

QUESTION: 20

यदि लंबवत वक्र 1.4% डाउनग्रेड के साथ 1% अपग्रेड को जोड़ता है, और ग्रेड के परिवर्तन की दर, 20 मीटर प्रति स्टेशनों में, 0.06% होना चाहिए, तो लंबवत वक्र की लंबाई क्या है?

Solution:

विक्षेपण कोण,    0.01−(−0.014) = 0.024

लंबवत वक्र की लंबाई, 

Use Code STAYHOME200 and get INR 200 additional OFF
Use Coupon Code

Download free EduRev App

Track your progress, build streaks, highlight & save important lessons and more!

Related tests