वैदिक काल - Test 1


30 Questions MCQ Test इतिहास (History) for UPSC (Civil Services) Prelims in Hindi | वैदिक काल - Test 1


Description
This mock test of वैदिक काल - Test 1 for UPSC helps you for every UPSC entrance exam. This contains 30 Multiple Choice Questions for UPSC वैदिक काल - Test 1 (mcq) to study with solutions a complete question bank. The solved questions answers in this वैदिक काल - Test 1 quiz give you a good mix of easy questions and tough questions. UPSC students definitely take this वैदिक काल - Test 1 exercise for a better result in the exam. You can find other वैदिक काल - Test 1 extra questions, long questions & short questions for UPSC on EduRev as well by searching above.
QUESTION: 1

वैदिक काल में सेना का सर्वोच्च कमांडर को क्या बोला जाता था?

Solution:

वैदिक काल में राजा का प्रशासनिक सहयोग रत्निन करते थे। सेना के सर्वोच्च कमांडर को सेनानी बोला जाता था। इसलिए, A सही विकल्प है।

QUESTION: 2

 वैदिक काल में राजस्व संग्रहकर्ता को क्या बोला जाता था?

Solution:

वैदिक काल में अर्थव्यवस्था का प्रमुख आधार पशुपालन एवं कृषि था। ज्यादा पालतुपशु रखने वाले गोमत कहलाते थे। चारागाह के लिए ' उत्यति ' या ' गव्य ' शब्द का प्रयोग हुआ है। दूरी को ' गवयुती ', पुत्री को दुहिता (गाय दुहने वाली) तथा युद्धों के लिए ' गविष्टि ' का प्रयोग होता था। ऋण लेने एवं देने की प्रथा प्रचलित थी जिसे ' कुसीद ' कहा जाता था। राजस्व संग्रहकर्ता को भगदूघा बोला जाता था। इसलिए, B सही विकल्प है।

QUESTION: 3

परंपरा के अनुसार भारत का प्रथम राजा कौन था?

Solution:

हिन्दू धर्म के अनुसार मनु संसार के प्रथम पुरुष थे। प्रथम मनु का नाम स्वयंभुव मनु था, जिनके संग प्रथम स्त्री थी शतरूपा। ये स्वयं भू (अर्थात होना) ब्रह्मा द्वारा प्रकट होने के कारण ही स्वयंभू कहलाये। इन्हीं प्रथम पुरुष और प्रथम स्त्री की सन्तानों से संसार के समस्त जनों की उत्पत्ति हुई। मनु की सन्तान होने के कारण वे मानव या मनुष्य कहलाए। स्वायंभुव मनु को आदि भी कहा जाता है। आदि का अर्थ होता है प्रारंभ।

QUESTION: 4

वैदिक काल में खजांची के लिए क्या शब्द इस्तेमाल किया गया था?

Solution:

वैदिक काल में खजांची (कोषाध्यक्ष) के लिए संग्रीहित्री शब्द इस्तेमाल किया गया था। इसलिए, A सही विकल्प है।

QUESTION: 5

ऋग्वेद में किन धातुओं के प्रयोग का उल्लेख है?

Solution:

ऋग्वेद सर्वाधिक प्राचीन है। अर्वाचीन काल में ईसा की अठारहवीं शताब्दी से नये-नये तत्वों की खोज का सिलसिला प्रारंभ हुआ। इसके पूर्व केवल सात धातुओं का ज्ञान मानवता को था। ये हैं- स्वर्ण, चांदी, तांबा, लोहा, टिन, लेड (सीसा) और पारद। इन सभी धातुओं का उल्लेख प्राचीनतम संस्कृत साहित्य में उपलब्ध है, जिनमें ऋग्वेद, यजुर्वेद एवं अथर्ववेद भी सम्मिलित हैं। वेदों की प्राचीनता ईसा से हजारों वर्ष पूर्व निर्धारित की गई है।

QUESTION: 6

निम्नलिखित में से कौन वैदिक काल की राजनीतिक इकाई नहीं थी?

Solution:

ऋग वैदिक या प्रारंभिक वैदिक काल के दौरान ग्राम (गांव), विश और जन राजनीतिक इकाइयां थीं। बालि ऋग वैदिक काल का स्वैच्छिक कर था। इसलिए, C सही विकल्प है।

QUESTION: 7

किस फसल का ज्ञान वैदिक काल के लोगों को नहीं था?

Solution:

तम्बाकू (Tobacco) फसल का ज्ञान वैदिक काल के लोगों को नहीं था। वैदिक कार्य अपने प्रारंभिक जीवन अर्थात् पूर्व वैदिक काल में जौ से परिचति थे एवं बाद में अर्थात् उत्तर वैदिक काल में लोहे से परिचित होने के बाद जो कृषि क्रांति हुई उस दौरान आर्य गेहूं व चावल से भी परिचित हो गये। आर्य तम्बाकू से परिचित नहीं थे। तम्बाकू भारत में पुर्तगालियों द्वारा परिचित करवाया गया। आंध्रप्रदेश भारत का प्रमुख तम्बाकू उत्पादक राज्य है।

QUESTION: 8

सत्यमेव जयते किस ग्रंथ से मिलता है?

Solution:

सत्यमेव जयते उपनिषद (मुण्डकोपनिषद) ग्रंथ से मिलता है। 'सत्यमेव जयते' मूलतः मुण्डक-उपनिषद का सर्वज्ञात मंत्र 3.1.6 है। सत्यमेव जयते अर्थात् सत्य की हमेशा विजय होती है। यह भारत का राष्ट्रीय वाक्य है। जिसे सारनाथ के स्तूप से लिया गया है। वहां यह वाक्य मुण्डकोपनिषद से लिया गया है। यह भारत के राष्ट्रीय प्रतीक के नीचे देवनागरी लिपि में अंकित है। यह प्रतीक उत्तर भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश में वाराणसी के निकट सारनाथ में 250 ई.पू. में सम्राट अशोक द्वारा बनवाये गए सिंह स्तम्भ के शिखर से लिया गया है, लेकिन उसमें यह आदर्श वाक्य नहीं है। पूर्ण मंत्र इस प्रकार है:
सत्यमेव जयते नानृतम सत्येन पंथा विततो देवयानः।
येनाक्रमंत्यृषयो ह्याप्तकामो यत्र तत् सत्यस्य परमम् निधानम्॥
बता दे कि पंडित मदन मोहन मालवीय ने साल 1918 में इसका इस्तेमाल किया; इसके बाद भारत के ध्येय वाक्य कै तौर पर इसका इस्तेमाल किया जाने लगा।

QUESTION: 9

आयुर्वेद के वैद्य चिकित्सा का भगवान किसे मानते हैं?

Solution:

आयुर्वेद के वैद्य चिकित्सा का भगवान धन्वंतरि (Dhanvantari) को मानते हैं। हिन्दू धर्म में व्यास द्वारा रचित 'श्रीमद्भागवत पुराण' के अनुसार धन्वंतरि को विष्णु का अंश माना गया है। इनका पृथ्वी लोक में अवतरण समुद्र मंथन के समय हुआ था। शरद पूर्णिमा को चंद्रमा, कार्तिक द्वादशी को कामधेनु गाय, त्रयोदशी को धन्वंतरी, चतुर्दशी को काली माता और अमावस्या को भगवती लक्ष्मी जी का सागर से प्रादुर्भाव हुआ था। इसीलिये दीपावली के दो दिन पूर्व धनतेरस को भगवान धन्वंतरी का जन्म धनतेरस के रूप में मनाया जाता है। इसी दिन इन्होंने आयुर्वेद का भी प्रादुर्भाव किया था।

QUESTION: 10

वैदिक युग के राजा द्वारा वसूला गया कर क्या कहलाता था?

Solution:

वैदिक काल में राजा जनता से जो कर वसूल करता था उसे बलि (Bali) कहते थे। बतादें कि वैदिक युग में कबीला के प्रधान को राजा की संज्ञा दी जाती थी। राजा निरंकुश नहीं था। सभा समिति और विदथ नामक संस्थाएं इस पर नियंत्रण रखती थी। जनता पूर्व वैदिक में स्वेच्छा से राजा को जो कर देती थी वह बलि कहलाता था। यही कर (बलि) उत्तर वैदिक काल में बाध्यकारी हो गया था।

QUESTION: 11

वैदिक शिक्षा पद्धति के संबंध में निम्नलिखित में से कौन-सा कथन सही नहीं है?

Solution:
QUESTION: 12

निम्नलिखित में से कौन-सी विदूषी स्त्री ने वेदों की रचना में योगदान नहीं किया?

Solution:
QUESTION: 13

निम्नलिखित में से किस गौण देवी का ऋग्वेद में सबसे अधिक बार उल्लेख किया गया है?

Solution:
QUESTION: 14

प्राचीन भारत में लौह युग निम्नलिखित में से किससे संबंधित है?

Solution:
QUESTION: 15

वैदिक कालीन न्याय व्यवस्था के संबंध में निम्नलिखित में से कौन - सा कथन सत्य है
I. नियमित न्यायिक संस्था तथा कानून का विकास नहीं हुआ था।
II. राजा तथा मुख्य पुरोहित प्रमुख पंच का कार्य करता था जिसे समुदाय के कुछ गणमान्य लोग सहायता करते थे।
III. दंड के रूप में जुर्माना सर्वाधिक प्रचलित था। सामान्यतः किसी व्यक्ति की हत्या के लिए 100 गायें जुर्माने के तौर पर ली जाती थी।

Solution:
QUESTION: 16

ऋग्वेद में वर्णित "द्विज" शब्द किसके लिए प्रयुक्त हुआ है?

Solution:
QUESTION: 17

ऋग्वैदिक काल में ‘दम्पत्ति’ शब्द का क्या अर्थ था?

Solution:
QUESTION: 18

निम्नलिखित में से किस विद्वान ने सर्वप्रथम संस्कृत तथा ग्रीक, लैटिन, हिब्रू आदि के बीच समानता की ओर ध्यान आकृष्ट किया?

Solution:
QUESTION: 19

निम्नलिखित में से किन भौगोलिक क्षेत्रों के संबंध में उत्तर वैदिक आर्यों को ज्ञान नहीं था?

Solution:
QUESTION: 20

प्राचीन नामों के साथ निम्नलिखित नदियों का मिलान करें।
A. काबुल नदी          I. स्वात 

B. सुवास्तु              II. कुँभा

C. क्रुमु                  III. कुर्रम

D. सुसर्तु               IV. घोरबंद

Solution:
QUESTION: 21

यह सर्वश्रेष्ठ नदी अनेक नदियों की जननी है और समुद्र में बहती है। नदी-स्तुति मे इसे यमुना और सतुद्री के बीच स्थित कहा गया। इसकी पहचान करें ?

Solution:
QUESTION: 22

प्रारंभिक आर्य साम्राज्य चार राजाओं द्वारा स्थापित किया गया था। निम्नलिखित में कौन उनमें से एक नहीं है?

Solution:
QUESTION: 23

किस आधार पर बी. जी. तिलक ने यह बात कही कि आर्यों का मूल निवास-स्थान आर्कटिक क्षेत्र था?

Solution:
QUESTION: 24

निम्नलिखित में से किस वैदिक साहित्य में वर्णा प्रणाली पर चर्चा हुई थी?

Solution:

ऋग्वेद सनातन धर्म का सबसे आरंभिक स्रोत है। इस वेद के कई सूक्तों में विभिन्न वैदिक देवताओं की स्तुति करने वाले मंत्र हैं। यद्यपि इसमें अन्य प्रकार के सूक्त भी हैं, परन्तु देवताओं की स्तुति करने वाले स्तोत्रों की प्रधानता है। इसमें कुल 10 मण्डल हैं और उनमें 1028 सूक्त हैं और कुल 10,580 ॠचाएँ हैं। पुरुषसूक्त ऋग्वेद संहिता के दसवें मण्डल का एक प्रमुख सूक्त यानि मंत्र संग्रह (10.90) है, जिसमें एक विराट पुरुष की चर्चा हुई है और उसके अंगों का वर्णन है। इसलिए, C सही विकल्प है।

QUESTION: 25

निम्नलिखित में से कौन सा वैदिक साहित्य बलिदान सूत्रों का संग्रह है?

Solution:

अथर्ववेद दैनिक जीवन से जुड़े तांत्रिक धार्मिक सरोकारों को व्यक्त करता है, इसका स्वर ऋग्वेद के उस अधिक पुरोहिती स्वर से भिन्न है, जो महान् देवों को महिमामंडित करता है और सोम के प्रभाव में कवियों की उत्प्रेरित दृष्टि का वर्णन करता है। इसलिए, B सही विकल्प है।

QUESTION: 26

निम्नलिखित में से कौन सही जोड़ी नहीं है?

Solution:

वेदों की सरल व्याख्या हेतु ब्राह्मण ग्रन्थों की रचना गद्य में की गई थी। ब्रह्म का अर्थ यज्ञ है। अतः यज्ञ के विषयों का प्रतिपादन करने वाले ग्रन्थ ब्राह्मण कहलाते हैं।

वेद संबंधित ब्राह्मण

ऋग्वेद: ऐतरेय ब्राह्मण, शांखायन या कौषीतकि ब्राह्मण

यजुर्वेद:शतपथ ब्राह्मण

यजुर्वेद: तैत्तिरीय ब्राह्मण

सामवेद: पंचविश या ताण्ड्य ब्राह्मण, षडविंश ब्राह्मण, सामविधान ब्राह्मण, वंश ब्राह्मण, मंत्र ब्राह्मण, जैमिनीय ब्राह्मण

अथर्ववेद: गोपथ ब्राह्मण

इसलिए, B सही विकल्प है।

QUESTION: 27

निम्नलिखित कौन से वैदिक साहित्य में वैदिक भजन, उनके अनुप्रयोगों और उनकी उत्पत्ति की कहानियों के अर्थों के बारे में विवरण मिलता है?

Solution:

 वेदों की सरल व्याख्या हेतु ब्राह्मण ग्रन्थों की रचना गद्य में की गई थी। ब्रह्म का अर्थ यज्ञ है। ब्राह्मण ग्रन्थों में सर्वथा यज्ञों की वैज्ञानिक, अधिभौतिक तथा अध्यात्मिक मीमांसा प्रस्तुत की गयी है। यह ग्रंथ अधिकतर गद्य में लिखे हुए हैं। इनमें उत्तरकालीन समाज तथा संस्कृति के सम्बन्ध का ज्ञान प्राप्त होता है। इसलिए, A सही विकल्प है।

QUESTION: 28

निम्नलिखित में से कौन सा वैदिक साहित्य 'पैर के पास बैठने' को संदर्भित करता है?

Solution:

उपनिषद् शब्द का साधारण अर्थ है - ‘समीप उपवेशन’ या 'समीप बैठना (ब्रह्म विद्या की प्राप्ति के लिए शिष्य का गुरु के पास बैठना)। यह शब्द ‘उप’, ‘नि’ उपसर्ग तथा, ‘सद्’ धातु से निष्पन्न हुआ है। सद् धातु के तीन अर्थ हैं: विवरण-नाश होना; गति-पाना या जानना तथा अवसादन-शिथिल होना। उपनिषद् में ऋषि और शिष्य के बीच बहुत सुन्दर और गूढ संवाद है जो पाठक को वेद के मर्म तक पहुंचाता है। इसलिए, A सही विकल्प है।

QUESTION: 29

निम्नलिखित कथनों में से कौन सा कथन आरण्यक के सन्दर्भ में सही है?

Solution:

ब्राह्मण ग्रन्थ के जो भाग अरण्य में पठनीय हैं, उन्हें 'आरण्यक' कहा गया या यों कहें कि वेद का वह भाग, जिसमें यज्ञानुष्ठान-पद्धति, याज्ञिक मन्त्र, पदार्थ एवं फलादि में आध्यात्मिकता का संकेत दिया गया, वे 'आरण्यक' हैं। वानप्रस्थाश्रम में संसार-त्याग के उपरांत अरण्य में अध्ययन होने के कारण भी इन्हें 'आरण्यक' कहा गया। आरण्यकों में ऐतरेय आरण्यक, शांखायन्त आरण्यक, बृहदारण्यक, मैत्रायणी उपनिषद् आरण्यक तथा तवलकार आरण्यक (इसे जैमिनीयोपनिषद् ब्राह्मण भी कहते हैं) मुख्य हैं। इसलिए, C सही विकल्प है।

QUESTION: 30

निम्नलिखित में कौन उत्तर वैदिक काल की प्रसिद्ध जनजाति नहीं थी?

Solution:

उत्तर वैदिक काल में पुरु और भरत कबीला मिलकर 'कुरु' तथा 'तुर्वश' और 'क्रिवि' कबीला मिलकर 'पंचाल' (पांचाल) कहलाये। आरम्भ में कुरुओं की राजधानी असिवन्त में थी जिसमे अन्तर्गत कुरुक्षेत्र (सरस्वती और दृषद्वती के बीच भूमि) सम्मिलित था। शीघ्र ही कुरुओं ने दिल्ली एवं उत्तरी दोआब पर अधिकार कर लिया। 

Similar Content

Related tests