What is atmosphere?

Charu answered  •  18 hours ago
The layer of air which surrounds the earth and protects us from the harmful ultraviolet rays of the sun is called atmosphere
Mayadevi Parit asked   •  10 hours ago

बहुत ही मीठे स्वरों के साथ वह गलियों में घूमता हुआ कहता-“बच्चों को बहलानेवाला, खिलौनेवाला।” इस अधूरे वाक्य को वह ऐसे विचित्र, किंतु मादक-मधुर ढंग से गाकर कहता कि सुनने वाले एक बार अस्थिर हो उठते। उसके स्नेहाभिषिक्त कंठ से फूटा हुआ गान सुनकर निकट के मकानों में हलचल मच जाती। छोटे-छोटे बच्चों को अपनी गोद में लिए युवतियाँ चिकों को उठाकर छज्जों पर नीचे झाँकने लगतीं। गलियों और उनके अंतर्व्यापी छोटे-छोटे उद्यानों में खेलते और इठलाते हुए बच्चों का झुंड उसे घेर लेता और तब वह खिलौनेवाला वहीं बैठकर खिलौने की पेटी खोल देता।
Q. फेरी वाले की आवाज सुनकर लोग चंचल क्यों हो उठते थे?
  • a)
    फेरी वाला बहुत ही मादक-मधुर ढंग से आवाज लगाता था
  • b)
    फेरी वाले की आवाज बहुत कर्कश थी
  • c)
    फेरी वाला बहुत ही सस्ता सामान बेचता था
  • d)
    फेरी वाले का सामान बहुत ही अच्छा था
Correct answer is option 'A'. Can you explain this answer?

Aastha Dalal asked   •  12 hours ago

 
उस समय द्विशाखा पर खड़ी तोत्तो-चान द्वारा यासुकी-चान को पेड़ की ओर खींचते अगर कोई बडा देखता तो वह ज़रूर डर के मारे चीख उठता। उसे वे सच में जोखिम उठाते ही दिखाई देते। पर यासुकी-चान को तोत्तो-चान पर पूरा भरोसा था और वह खुद भी यासुकी-चान के लिए भारी खतरा उठा रही थी। अपने नन्हें-नन्हें हाथों से वह पूरी ताकत से यासुकी-चान को खींचने लगी। बादल का एक बड़ा टुकड़ा बीच-बीच में छाया करके उन्हें कड़कती धूप से बचा रहा था।
काफी मेहनत के बाद दोनों आमने-सामने पेड़ की द्विशाखा पर थे। पसीने से तरबतर अपने बालों को चेहरे पर से हटाते हुए तोत्तो-चान ने सम्मान से झुककर कहा, “मेरे पेड़ पर तुम्हारा स्वागत है।”
Q. तोत्तो-चान कैसी लड़की थी?
  • a)
    झूठ बोलने वाली
  • b)
    सनकी
  • c)
    दृढ़ संकल्पी
  • d)
    हठी
Correct answer is option 'C'. Can you explain this answer?

Renu Bhola asked   •  15 hours ago

यासुकी-चान को पोलियो था, इसलिए वह न तो किसी पेड़ पर चढ़ पाता था और न किसी पेड़ को निती संपत्ति मानता था। अतः तोत्तो-चान ने उसे अपने पेड़ पर आमंत्रित किया था। पर यह बात उन्होंने किसी से नहीं कही, क्योंकि अगर बड़े सुनते तो ज़रूर डाँटते। घर से निकलते समय तोत्तो-चान ने माँ से कहा कि वह यासुकी-चान के घर डेनेनचोफु जा रही है। चूंकि वह झूठ बोल रही थी, इसलिए उसने माँ की आँखों से नहीं झाँका। वह अपनी नज़रें जूतों के फीतों पर ही गड़ाए रही। रॉकी उसके पीछे-पीछे स्टेशन तक आया। जाने से पहले उसे सच बताए बिना तोत्तो-चान से रहा नहीं गया।
Q. तोत्तो-चान ने यासुकी-चान को अपने पेड़ पर क्यों आमंत्रित किया?
  • a)
    यासुकी-चान तोत्तो-चान का रिश्तेदार था।
  • b)
    यासुकी-चान देखना चाहती थी कि वह भी पेड़ पर चढ़ सकता है या नहीं
  • c)
    यासुकी-चान को पोलियो था, जिस कारण वह पेड़ पर चढ़ नहीं सकता था और न ही किसी पेड़ को अपनी संपत्ति मानता था।
  • d)
    वह यासुकी-चान का सम्मान करती थी।
Correct answer is option 'C'. Can you explain this answer?

Manisha Nath. asked   •  18 hours ago

सफेद कण वास्तव में हमारे शरीर के वीर सिपाही हैं। जब रोगाणु शरीर पर धावा बोलने की कोशिश करते हैं तो सफेद कण उनसे डटकर मुकाबला करते हैं और जहाँ तक संभव हो पाता है रोगाणुओं को भीतर घर नहीं करने देते। बस, संक्षेप में यों मान लो कि वे बहुत से रोगों से हमारी रक्षा करते हैं।”
“और बिंबाणुओं का काम है चोट लगने पर रक्त जमाव क्रिया में मदद करना। रक्त के तरल भाग प्लाज्मा में एक विशेष किस्म की प्रोटीन होती है, जो रक्तवाहिका की कटी-फटी दीवार में मकड़ी के जाले के समान एक जाला बुन देती है। बिंबाणु इन जाले से चिपक जाते हैं और इस तरह दीवार में आई दरार भर जाती है, जिससे रक्त बाहर निकलना बंद हो जाता है।”
Q. रक्त-वाहिका का समास-विग्रह होगा
  • a)
    रक्त में वाहिका
  • b)
    रक्त की वाहिका
  • c)
    रक्त की वाहिका है जो
  • d)
    रक्त और वाहिका
Correct answer is option 'B'. Can you explain this answer?

Fetching relevant content for you