How we add a course in this app?

Santosh Thakur answered  •  11 hours ago
I want to commerce subject study material in brief
so what is the fee of course
Bansi Lal asked   •  1 hour ago

नम्नलिखित गद्यांशों को ध्यानपूर्वक पढ़कर नीचे दिए गए प्रश्नों के सही उत्तर विकल्पों में से चुनिएः
मैं और गहराई की खोज में किनारों से दूर गई तो मैंने एक ऐसी वस्तु देखी कि मैं चौंक पड़ी। अब तक समुद्र में अँधेरा था, सूर्य का प्रकाश कुछ ही भीतर तक पहुँच पाता था और बल लगाकर देखने के कारण मेेरे नेत्र दुखने लगे थे। मैं सोच रही थी कि यहाँ पर जीवों को कैसे दिखाई पड़ता होगा कि सामने ऐसा जीव दिखाई पड़ा मानो कोई लालटेन लिए घूम रहा हो। यह एक अत्यंत सुंदर मछली थी। इसके शरीर से एक प्रकार की चमक निकलती थी जो इसे मार्ग दिखलाती थी। इसका प्रकाश देखकर कितनी छोटी-छोटी अनजान मछलियाँ इसके पास आ जाती थीं और यह जब भूखी होती थी तो पेट भर उनका भोजन करती थी।
प्रश्न:’’बूँद किनारों से दूर क्यों गई?               
  • a)
    पानी की खोज में   
  • b)
    धरा की खोज में   
  • c)
    गहराई की खोज में   
  • d)
    जल-जीवों की खोज में
Correct answer is option 'C'. Can you explain this answer?

Dhiya Patel Viii-c Patel asked   •  3 hours ago

निम्नलिखित गद्यांशों को ध्यानपूर्वक पढ़कर नीचे दिए गए प्रश्नों के सही उत्तर विकल्पों में से चुनिए:
उस दौर में उनका मुकदमा मोहम्मद अली जिन्ना ने लड़ा जो तब के मशहूर वकील हुआ करते थे। विटठ्ल मुकदमा जीते और भारत की पहली बोलती फ़िल्म के नायक बने। उनकी कामयाबी आगे भी जारी रही। मराठी और हिंदी फिल्मों में वे लंबे समय तक नायक और स्टंटमैन के रूप में सक्रिय रहे। इसके अलावा ‘आलम आरा’ में सोहराब मोदी, पृथ्वीराज कपूर, याकूब और जगदीश सेठी जैसे अभिनेता भी मौजूद रहे जो आगे चलकर फ़िल्मौडायोग के प्रमुख स्तंभ बने।
प्रश्न: गद्यांश में वर्णित मोहम्मद अली जिन्ना की प्रसिद्धि का कारण क्या था?         
  • a)
    पत्राकार होना   
  • b)
    वकील होना   
  • c)
    अभिनेता होना   
  • d)
    फ़िल्म-निर्माता होना
Correct answer is option 'B'. Can you explain this answer?

Pooja Kumari Kumari asked   •  4 hours ago

निम्नलिखित गद्यांशों को ध्यानपूर्वक पढ़कर नीचे दिए गए प्रश्नों के सही उत्तर विकल्पों में से चुनिए:‘
‘तू समझती नहीं’’। गवरा हँसकर बोला,‘‘कपड़े पहन-पहनकर जाड़ा-गरमी-बरसात सहने की उनकी सकत भी जाती रही है। ... और इस कपड़े में बड़ा ल.फड़ा भी कपड़ा पहनते ही पहननेवाले की औकात पता चल जाती ह...आदमी-आदमी की हैसियत में भेद पैदा हो जाता है।‘‘फिर भी आदमी कपड़ा पहनने से बाज नहीं आता।’’ गवरइया बोली। ‘‘नित नए-नए लिबास सिलवाता रहता है।
प्रश्न:  गवरा, गवरइया को कह रहा था, ‘‘तू समझती नहीं। ऐसा क्यों?
  • a)
        क्योंकि गवरा अध्कि समझदार था  
  • b)
        क्योंकि गवरइया उसकी बात नहीं सुन रही थी    
  • c)
    क्योंकि कपड़े पहनने वेफ पक्ष में लगातार तर्क
    देने के कारण  
  • d)
    क्योंकि स्वयं को बुद्ध्मिान बताने के लिए
Correct answer is option 'C'. Can you explain this answer?

Kamla Kashmira asked   •  12 hours ago

निम्नलिखित गद्यांशों को ध्यानपूर्वक पढ़कर नीचे दिए गए प्रश्नों के सही उत्तर विकल्पों में से चुनिएः
सोलहवीं शताब्दी की बात है। बादशाह हुमायूँ शेरशाह से हारकर भागा था और सिंधु के रेगिस्तान में मारा-मारा फिर रहा था। एक अवसर पर प्यास से उसकी जान निकल रही थी। उस समय एक ब्राह्मण ने इसी लोटे से पानी पिलाकर उसकी जान बचाई थी। हुमायूँ के बाद अकबर ने उस ब्राह्मण का पता लगाकर उससे इस लोटे को ले लिया और इसके बदले में उसे इसी प्रकार के दस सोने के लोटे प्रदान किए। यह लोटा सम्राट अकबर को बहुत प्यारा था। इसी से इसका नाम अकबरी लोटा पड़ा। वह बराबर इसी से वजू करता था।
प्रश्न: उसकी जान वैफसे बची?           
  • a)
     स्वादिष्ट भोजन खाने से   
  • b)
    उपयुक्त इलाज से           
  • c)
    बाह्मण द्वारा पानी पिलाने से   
  • d)
      ब्राह्मण द्वारा शरण देने से
Correct answer is option 'C'. Can you explain this answer?

Fetching relevant content for you
Ask a question