निम्नलिखित गद्यांशों को ध्यानपूर्वक पढ़कर नीचे दिए गए प्रश्नों के सही उत्तर विकल्पों में से चुनिए:
जब पहली बार सिनेमा ने बोलना सीख लिया, सिनेमा में काम करने के लिए पढ़े-लिखे अभिनेता-अभिनेत्रियों की जरूरत भी शुरू हुई क्योंकि अब संवाद भी बोलने थे, सिर्फ अभिनय से काम नहीं चलनेवाला था। मूक फ़िल्मो के दौर में तो पहलवान जैसे शरीरवाले, स्टंट करनेवाले और उछल-कूद करनेवाले अभिनेताओं से काम चल जाया करता था। अब उन्हें संवाद बोलना था और गायन की प्रतिभा की कद्र भी होने लगी थी। इसलिए ‘आलम आरा’ के बाद आरंभिक ‘सवाक्ï’ दौर की फ़िल्मो में कई गायक-अभिनेता बड़े पर्दे पर नजर आने लगे। हिंदी-उर्दू भाषाओं का महत्व बढ़ा।
प्रश्न:‘आरंभिक’ शब्द का विपरीतार्थक शब्द है-       
  • a)
     प्रारंभिक   
  • b)
    माध्यमिक  
  • c)
    प्राचीनकालिक   
  • d)
    अंतिम
Correct answer is option 'D'. Can you explain this answer?

Class 8 Question

By Srishti Latwal · 6 days ago ·Class 8

Can you answer this question?

People are searching for an answer to this question.
This discussion on निम्नलिखित गद्यांशों को ध्यानपूर्वक पढ़कर नीचे दिए गए प्रश्नों के सही उत्तर विकल्पों में से चुनिए:जब पहली बार सिनेमा ने बोलना सीख लिया, सिनेमा में काम करने के लिए पढ़े-लिखे अभिनेता-अभिनेत्रियों की जरूरत भी शुरू हुई क्योंकि अब संवाद भी बोलने थे, सिर्फ अभिनय से काम नहीं चलनेवाला था। मूक फ़िल्मो के दौर में तो पहलवान जैसे शरीरवाले, स्टंट करनेवाले और उछल-कूद करनेवाले अभिनेताओं से काम चल जाया करता था। अब उन्हें संवाद बोलना था और गायन की प्रतिभा की कद्र भी होने लगी थी। इसलिए ‘आलम आरा’ के बाद आरंभिक ‘सवाक्ï’ दौर की फ़िल्मो में कई गायक-अभिनेता बड़े पर्दे पर नजर आने लगे। हिंदी-उर्दू भाषाओं का महत्व बढ़ा।प्रश्न:‘आरंभिक’ शब्द का विपरीतार्थक शब्द है-       a) प्रारंभिक   b)माध्यमिक  c)प्राचीनकालिक   d)Correct answer is option 'D'. Can you explain this answer? is done on EduRev Study Group by Class 8 Students. The Questions and Answers of निम्नलिखित गद्यांशों को ध्यानपूर्वक पढ़कर नीचे दिए गए प्रश्नों के सही उत्तर विकल्पों में से चुनिए:जब पहली बार सिनेमा ने बोलना सीख लिया, सिनेमा में काम करने के लिए पढ़े-लिखे अभिनेता-अभिनेत्रियों की जरूरत भी शुरू हुई क्योंकि अब संवाद भी बोलने थे, सिर्फ अभिनय से काम नहीं चलनेवाला था। मूक फ़िल्मो के दौर में तो पहलवान जैसे शरीरवाले, स्टंट करनेवाले और उछल-कूद करनेवाले अभिनेताओं से काम चल जाया करता था। अब उन्हें संवाद बोलना था और गायन की प्रतिभा की कद्र भी होने लगी थी। इसलिए ‘आलम आरा’ के बाद आरंभिक ‘सवाक्ï’ दौर की फ़िल्मो में कई गायक-अभिनेता बड़े पर्दे पर नजर आने लगे। हिंदी-उर्दू भाषाओं का महत्व बढ़ा।प्रश्न:‘आरंभिक’ शब्द का विपरीतार्थक शब्द है-       a) प्रारंभिक   b)माध्यमिक  c)प्राचीनकालिक   d)Correct answer is option 'D'. Can you explain this answer? are solved by group of students and teacher of Class 8, which is also the largest student community of Class 8. If the answer is not available please wait for a while and a community member will probably answer this soon. You can study other questions, MCQs, videos and tests for Class 8 on EduRev and even discuss your questions like निम्नलिखित गद्यांशों को ध्यानपूर्वक पढ़कर नीचे दिए गए प्रश्नों के सही उत्तर विकल्पों में से चुनिए:जब पहली बार सिनेमा ने बोलना सीख लिया, सिनेमा में काम करने के लिए पढ़े-लिखे अभिनेता-अभिनेत्रियों की जरूरत भी शुरू हुई क्योंकि अब संवाद भी बोलने थे, सिर्फ अभिनय से काम नहीं चलनेवाला था। मूक फ़िल्मो के दौर में तो पहलवान जैसे शरीरवाले, स्टंट करनेवाले और उछल-कूद करनेवाले अभिनेताओं से काम चल जाया करता था। अब उन्हें संवाद बोलना था और गायन की प्रतिभा की कद्र भी होने लगी थी। इसलिए ‘आलम आरा’ के बाद आरंभिक ‘सवाक्ï’ दौर की फ़िल्मो में कई गायक-अभिनेता बड़े पर्दे पर नजर आने लगे। हिंदी-उर्दू भाषाओं का महत्व बढ़ा।प्रश्न:‘आरंभिक’ शब्द का विपरीतार्थक शब्द है-       a) प्रारंभिक   b)माध्यमिक  c)प्राचीनकालिक   d)Correct answer is option 'D'. Can you explain this answer? over here on EduRev! Apart from being the largest Class 8 community, EduRev has the largest solved Question bank for Class 8.
Ask a question

Share with a friend

Related Content

Forum Category

Upgrade to Infinity