अनेक शब्दों के लिए एक शब्द (भाग - 2) - हिन्दी व्याकरण Teaching Notes | EduRev

हिंदी व्याकरण

Created by: Abhishek Kumar

Teaching : अनेक शब्दों के लिए एक शब्द (भाग - 2) - हिन्दी व्याकरण Teaching Notes | EduRev

The document अनेक शब्दों के लिए एक शब्द (भाग - 2) - हिन्दी व्याकरण Teaching Notes | EduRev is a part of the Teaching Course हिंदी व्याकरण.
All you need of Teaching at this link: Teaching

अनेक शब्दों के लिए एक शब्द


वाक्य                                                                          एक शब्द

जो नकल करने योग्य हो                                                    अनुकरणीय

जिसकी उपमा न दी जा सके                                               अनुपमेंय

जिसे किसी बात का पता न हो                                            अनभिज्ञ

जो बात पहले न हुई हो                                                        अभूतपूर्व

जिसका मूल्य न आॅका जा सके                                            अमूल्य

जिसको थोड़ा ज्ञान हो                                                         अल्पज्ञ

जो विध् िअथवा विधन के विपरीत हो                                अवैधनिक 

जो न हो सके                                                                    अशक्य

जो पढ़ने सुनने अथवा कहने में घिनौनी व लज्जापूर्ण हो              अश्लील

जिस रोग की चिकित्सा न की जा सके                                   असाध्य रोग

आगे आने वाला                                                                     आगामी

अत्यन्त क्रूर व्यक्ति                                                              आततायी

स्वरचित जीवन गाथा                                                           आत्मकथा

किसी देश के सर्वाध्कि पुराने निवासी                                    आदिवासी

आजकल से सम्बन्ध्ति                                                          आधुनिक

मृत्युपर्यन्त व्रत                                                                     आमरण व्रत

ईश्वर और परलोक पर विश्वास न रखने वाला                            नास्तिक

जो इन्द्रियों की पहँुच से परे हो                                              अनीन्द्रिय

जिसका मन जगह से उचट गया हो                                          विरक्त

जो ट्टण से मुक्त हो चुका हो                                                     उट्टरण

जिसके उफपर कथन किया गया हो                                         उपर्युक्त

जिस बात का सम्बन्ध् इस लोक से हो                                        ऐहिक

जो इच्छा पर निर्भर हो                                                              ऐच्छिक

मन गढंत बात कपोल                                                               कल्पित

जैसे तैसे समय बिताना                                                             कालयापन करना

जो काम से जी चुराता हो                                                           कमचोर

जिसका चाल-चलन अच्छा न हो                                                 कुचाली

जो उपकार न माने                                                                    कृतघ्न

जो उपकार मानता हो                                                               कृतज्ञ

कीटाणु मारने वाली                                                                   कृमिध्न

आकाश में उड़ने वाले                                                                नभचर

जो छिपाने योग्य हो                                                                    गोपनीय

जो ग्रहण करने योग्य हो                                                             ग्राहा

दूसरों के छिद्र ढूँढने वाला                                                          छिद्रान्वेषी

दूसरे का मूँह ताकने वाला                                                         परमुखापेक्षी

परस्पर मेल-मिलाप करना                                                        तारतम्य

जो छोड़ने योग्य हो                                                                   त्याज्य

तीनों लोकों का स्वामी                                                              त्रिलोकीनाथ

पति-पत्नी                                                                               दम्पत्ति

जो देखने योग्य हो                                                                  दर्शनीय

जो भिन्न-भिन्न भाषाओं को एक दूसरे को समझाए                      दुभाषिया                                                     

न बहुत ठंडा न बहुत गर्म                                                        समशीतोष्ण

बहुत बड़ा-चढ़ा कर कही बात                                               अतिशयोक्ति

आरम्भ से अन्त तक                                                              आद्योपान्त

संध्या और रात के मध्य की बेला                                            गोधूलि

जो धर्म का आचरण करता हो                                               धर्मात्मा

जो पाप का आचरण करता हो                                               पापात्मा

जो व्याख्या करता हो                                                           व्याख्याकार

जो द्वार की रखवाली करे                                                      द्वाराल

जो कोई चीज ले जाता हो                                                      वाहक

जो वस्तुएँ बेचता हो                                                            विक्रेता

जो वस्तुएँ  क्रय करता हो                                                    क्रेता

समान उम्र वाले                                                                समवयस्क

झूठ बोलने वाला                                                              मिथ्यावादी

वह स्त्राी जिसे पति ने छोड़ दिया है                                     परित्यक्ता

जो मन हो मोहित कर ले                                                   मनोहर

पीछे-पीछे चलने वाला                                                     अनुगामी

प्रतिष्ठा प्राप्त व्यक्ति लब्ध्                                               प्रतिष्ठ

जो बात बार-बार कही जाए                                           पुनरूक्ति

केवल अपनी भलाई चाहने वाला                                     स्वार्थी

जो सरोवर में पैदा होता हो                                            सरसिज

जो स्त्राी अभिनय करती हो                                           अभिनेत्राी

जो पुरूष अभिनय करता हो                                        अभिनेता

जो विष्णु का उपासक हो                                               वैष्णव

जो शक्ति का उपासक हो                                            शाक्त

जो शिव का उपासक हो                                               शैव

जिसके  दय में ममता नहीं है                                        निर्मम

जिसके दस मुँह है                                                     दशानन, रावण

Share with a friend

Dynamic Test

Content Category

Related Searches

ppt

,

shortcuts and tricks

,

video lectures

,

Viva Questions

,

pdf

,

Semester Notes

,

past year papers

,

Summary

,

Sample Paper

,

Previous Year Questions with Solutions

,

study material

,

Extra Questions

,

mock tests for examination

,

Exam

,

practice quizzes

,

Objective type Questions

,

अनेक शब्दों के लिए एक शब्द (भाग - 2) - हिन्दी व्याकरण Teaching Notes | EduRev

,

MCQs

,

Important questions

,

अनेक शब्दों के लिए एक शब्द (भाग - 2) - हिन्दी व्याकरण Teaching Notes | EduRev

,

अनेक शब्दों के लिए एक शब्द (भाग - 2) - हिन्दी व्याकरण Teaching Notes | EduRev

,

Free

;