Test: Engineering Mechanics - 1


20 Questions MCQ Test Mock Test Series for SSC JE Mechanical Engineering (Hindi) | Test: Engineering Mechanics - 1


Description
Attempt Test: Engineering Mechanics - 1 | 20 questions in 12 minutes | Mock test for Mechanical Engineering preparation | Free important questions MCQ to study Mock Test Series for SSC JE Mechanical Engineering (Hindi) for Mechanical Engineering Exam | Download free PDF with solutions
QUESTION: 1

प्रत्येक P के बराबर और समकोण पर लागू दो बलों का परिणाम निम्न में से क्या होगा?

Solution:
QUESTION: 2

निम्नलिखित में से कौन-सी स्थिति युग्म के प्रभाव को नहीं बदलती है?

Solution:

परिमाण में समान और दिशा में विपरीत और एक निश्चित दूरी द्वारा पृथक किये गए दो समानान्तर बल युग्म का निर्माण करते हैं।

वस्तु पर एक युग्म का रूपांतरित प्रभाव शून्य होता है।

एक युग्म का एकमात्र प्रभाव आघूर्ण होता है और यह आघूर्ण किसी भी बिंदु पर समान होता है, एक युग्म का प्रभाव अपरिवर्तित होता है यदि:

(i) युग्म किसी भी समतल के माध्यम से घूर्णन करता है

(ii) युग्म को किसी भी अन्य स्थिति में स्थानांतरित किया जाता है

(iii) युग्म दूसरे बलों के जोड़ों द्वारा बदल दिए जाते हैं जिसका घूर्णन प्रभाव समान होता है

QUESTION: 3

दो कार A और B समान दिशा में 54 किमी/घंटा की गति से चलती है और कार B कार A से 300 मीटर आगे है। यदि कार A को 6 मीटर/सेकेंड2 पर त्वरित की जाती है जबकि कार B समान वेग के साथ चलती रहती है, तो कार A द्वारा कार B से आगे निकलने में लिए गए समय की गणना कीजिये।

Solution:

uA = uB = 54 किमी/घंटा = 15 मीटर/सेकेंड; aA = 6 मीटर/सेकेंड2, aB = 0

कार B कार A से 300 मीटर आगे है।

माना कि दोनों समय t सेकेंड में चलते हैं।

समय t में A द्वारा तय की गयी दूरी = 300 + समय t में B द्वारा तय की गयी दूरी


QUESTION: 4

एक युग्म कब निर्मित होता है?

Solution:

एक युग्म में दो सामानांतर बल शामिल होते हैं जो परिमाण में समान होते हैं, सेन्स में विपरीत होते हैं और कार्य रेखा को साझा नहीं करते हैं। यह कोई रूपांतरण उत्पन्न नहीं करता, ब्लकि केवल घूर्णन उत्पन्न करता है। एक युग्म की परिणामी शक्ति शून्य होती है। लेकिन, एक युग्म का परिणाम शून्य नहीं होता है; यह एक शुद्ध आघूर्ण होता है।

QUESTION: 5

1 किलो द्रव्यमान की एक गेंद 2 मीटर/सेकेंड के वेग के साथ चलते हुए 2 किलो के द्रव्यमान की दूसरी स्थिर गेंद के साथ सीधे टकराती है और टक्कर के बाद स्थिर हो जाती है। तो टकराव के बाद दूसरी गेंद का वेग क्या है?

Solution:

रैखिक संवेग का संरक्षण: 

m1u1 + m2u2 = m1v1 + m2v2
1(2) + 2(0)=1(0) + 2(v2)
v2 = 1.0m/s

QUESTION: 6

समवर्ती बल प्रणाली कैसी प्रणाली होती है?

Solution:

संरेखीय बल: सभी बलों की कार्य रेखा समान पंक्ति के साथ कार्य करती हैं।

समतलीय समानांतर बल: सभी बल एक दूसरे के समानांतर होते हैं और एक ही समतल में रहते हैं।

समतलीय समवर्ती बल: एक बिंदु और बलों के माध्यम से गुजरने वाली सभी बलों की कार्य रेखा समान सतह में रहती हैं।

समतलीय गैर समवर्ती बल: सभी बल एक बिंदु पर नहीं मिलते हैं, लेकिन एक सतह में रहते हैं।

गैर-समतलीय समानांतर बल: सभी बल एक-दूसरे के समानांतर होते हैं, लेकिन समान सतह में नहीं रहते हैं।

गैर-समतलीय समवर्ती बल: सभी बल समान सतह में नहीं रहते हैं, लेकिन उनकी कार्य रेखा एक बिंदु से गुज़रती है।

गैर-समतलीय गैर-समवर्ती बल: सभी बल समान सतह में नहीं रहते हैं और उनकी कार्य रेखा एक बिंदु से नहीं गुज़रती है।

QUESTION: 7

समान पदार्थ के बने (रैखिक द्रव्यमान घनत्व) त्रिज्या R और nR वाले दो रिंग के केंद्र के माध्यम से गुजरने पर अक्ष के पास जड़त्वाघूर्ण का अनुपात 1 : 8 है। तो n का मान क्या है?

Solution:

रिंग के लिए:

संपूर्ण अक्ष के पास जड़त्वाघूर्ण: mr2

ध्रुवीय अक्ष के पास जड़त्वाघूर्ण: 

n = 2

QUESTION: 8

एक 13 मीटर की सीढ़ी दीवार से उसके निचले छोर से 5 मीटर की दूरी के साथ एक चिकनी लंबवत दीवार के विरुद्ध रखी गयी है। तो सीढ़ी और मंजिल के बीच घर्षण का गुणांक क्या होना चाहिए जिससे यह संतुलित बनी रहे?

Solution:

सीढ़ी का वजन जाने बिना सीढ़ी और मंजिल के बीच घर्षण का गुणांक ज्ञात नहीं किया जा सकता है।

QUESTION: 9

'α' के कोणीय त्वरण के साथ घूर्णन करने वाली एक वस्तु पर कार्य करने वाला बलाघूर्ण निम्नलिखित में से किस संबंध द्वारा दिया गया है?

Solution:

Ft = mat = mrα

τ = Ftr = mr2α = Iα

QUESTION: 10

1.0 किलो की एक गेंद 25 मीटर/सेकेंड की गति के साथ फर्श पर फेंकी जाती है। यह 10 मीटर/सेकेंड की प्रारंभिक गति के साथ प्रतिक्षेपित होती है। तो संपर्क के दौरान आवेग की प्रक्रिया क्या होगी?

Solution:

आवेग = संवेग में बदलाव

= mv2 - mv1

= 1 (10) - 1 (-25) = 35 न्यूटन - सेकेंड

QUESTION: 11

1 इकाई आकार के वर्ग के विकर्ण पर क्षेत्र जड़त्वाघूर्ण क्या है?

Solution:

भुजा a वाले वर्ग के लिए, एक विकर्ण पर वर्ग का क्षेत्र जड़त्वाघूर्ण  है 

यहाँ a = 1

QUESTION: 12

यदि नीचे की ओर जाते हुए लिफ्ट को समर्थन देने वाले केबल में तनाव इसके ऊपर जाते समय के तनाव का आधा होता है, तो लिफ्ट का त्वरण क्या है?

Solution:

जब लिफ्ट विरामास्था में होती है: T = mg

जब लिफ्ट ऊपर की ओर गति करती है: TU = mg + ma

जब लिफ्ट नीचे की ओर गति करती है: TD = mg - ma

TU = 2TD

mg + ma = 2mg - 2ma

a = g/3

QUESTION: 13

एक वर्ग के गुरुत्वाकर्षण के केंद्र के माध्यम से अक्ष के पास इसके भुजा (a) का जड़त्वाघूर्ण क्या होता है?

Solution:

एक आयत के गुरुत्वाकर्षण के केंद्र के माध्यम से इसके अक्ष के पास जड़त्वाघूर्ण bd3/12 होता है और वर्ग के लिए यह a4/12 होता है।

QUESTION: 14

एक क्षेत्र का जड़त्वाघूर्ण किसके अनुसार हमेशा न्यूनतम होता है?

Solution:

केंद्रकीय अक्ष के आसपास द्रव्यमान वितरण न्यूनतम होता है, इसलिए एक क्षेत्र जड़त्वाघूर्ण केंद्रकीय अक्ष के सन्दर्भ में हमेशा न्यूनतम होता है।

QUESTION: 15

निम्नलिखित में से कौन-सा एक वस्तु के रूपान्तरणीय साम्यावस्था से गुज़रने का उदाहरण है?

Solution:

एक वस्तु को साम्यावस्था में उस समय कहा जाता है जब कोई बाहरी शुद्ध बल उस पर कार्य नहीं करता है। जब कोई वस्तु साम्यावस्था में होती है, तो यह गति नहीं करती है। यदि इसमें वेग होता है, तो वेग स्थिर रहता है; यदि यह विरामास्था में होती है, तो यह विरामास्था में रहती है।

यदि किसी विशेष वस्तु पर कार्यरत सभी बलों का योग शून्य होता है और कोई परिणामी बल नहीं होता है, तो यह रूपान्तरणीय साम्यावस्था में होती है। उदाहरण के लिए एक किताब की अलमारी में विरामास्था में रखी हुई किताब, या कोई स्थिर, निरंतर गति से चलने वाला व्यक्ति।

एक वस्तु जो या तो घूर्णन नहीं कर रही है, या तो एक स्थिर गति से घूर्णन कर रही है, और उस पर लागु बलाघूर्ण का योग यदि शून्य होता है, तो वह घूर्णित साम्यावस्था में है ऐसा माना जाएगा। इसके कुछ उदाहरण स्थिर वेग पर घूमता हुआ एक फेरिस व्हील, एक सी-सॉ के दोनों पक्षों पर संतुलित समान वजन के दो बच्चे,  या अपने अक्ष पर समान गति पर घूर्णन करती हुई पृथ्वी।

QUESTION: 16

एक गोलाकार डिस्क एक झुकी हुई सतह पर घूमते हुए नीचे जाती है, तो इसके घूर्णन के साथ सम्बंधित इसके कुल ऊर्जा का भिन्न _______ है।

Solution:

झुकी हुई सतह पर घूमते हुए नीचे जाने में डिस्क की कुल ऊर्जा इस प्रकार है


कुल घूर्णन ऊर्जा

QUESTION: 17

1 मीटर/सेकेंड के वेग के साथ चलने वाली 10 किलो द्रव्यमान की एक वस्तु पर दो सेकेंड के लिए 50 न्यूटन का बल लागू किया जाता है। तो अंतिम वेग क्या होगा?

Solution:

वेग = द्रव्यमान × त्वरण

∴ 50 = 10 × a

⇒ a = 5 मीटर/सेकेंड2

2 सेकेंड के बाद वेग,

v = u + at

= 1 + 5 × 2

= 11 मीटर/सेकेंड

QUESTION: 18

एक बीम एक छोर पर स्थिर की जाती है और दूसरे छोर से लंबवत रूप से समर्थित की जाती है। तो स्थैतिक अनिश्चितता की डिग्री क्या है?

Solution:

यदि एक प्रणाली में सभी बाहरी और आंतरिक बलों को हल करने के लिए स्वतंत्र स्थैतिक संतुलन समीकरणों की संख्या पर्याप्त नहीं होती है, तो प्रणाली को स्थिर रूप से अनिश्चित माना जाता है।

स्थैतिक अनिश्चितता की डिग्री = अज्ञात (बाहरी और आंतरिक) की कुल संख्या - संतुलन के स्वतंत्र समीकरणों की संख्या।

अज्ञातों की संख्या = 4 (RAH, RAV, M और RB)

संतुलन के स्वतंत्र समीकरणों की संख्या = 3 (∑H = 0, ∑V = 0, ∑M = 0)

∴ स्थैतिक अनिश्चितता की डिग्री - 4 - 3 = 1

QUESTION: 19

एक डिस्क की कोणीय गति संबंध (θ = 3t + t3) द्वारा परिभाषित की गयी है, जहाँ θ रेडियन में है और t सेकेंड में है। तो 2 सेकेंड बाद कोणीय स्थिति क्या होगी?

Solution:

कोणीय गति θ = 3t + t3

2 सेकेंड में आवृत्त गति = 3 * 2 + 23 = 14 रेडियन है। इसलिए 2 सेकेंड बाद कोणीय स्थिति 14 रेडियन होगी।

QUESTION: 20

समान गति के साथ चलने वाली एक कार 5 सेकेंड के अंतराल में 450 मीटर तय करती है और अगले 5 सेकेंड के अंतराल में 700 मीटर तय करती है। तो कार की गति क्या है?

Solution:

t = 5 सेकेंड, s = 450 मीटर पर

t = 10 सेकेंड पर

समीकरण (ii) - समीकरण (i), हमें प्राप्त होता है

a = 10 मीटर/सेकेंड2

Use Code STAYHOME200 and get INR 200 additional OFF
Use Coupon Code