Test: Civil Engineering- 3 (Hindi)


100 Questions MCQ Test Mock Test Series of SSC JE Civil Engineering (Hindi) | Test: Civil Engineering- 3 (Hindi)


Description
Attempt Test: Civil Engineering- 3 (Hindi) | 100 questions in 60 minutes | Mock test for Civil Engineering (CE) preparation | Free important questions MCQ to study Mock Test Series of SSC JE Civil Engineering (Hindi) for Civil Engineering (CE) Exam | Download free PDF with solutions
QUESTION: 1

निम्नलिखित में से कौन सी कायांतरित चट्टानों में अधिक मौसम प्रतिरोधी गुण है?

Solution:

क्वार्टजाइट एक कठोर, गैर-फोलिएटेड कायांतरित चट्टान है जो मूल रूप से शुद्ध क्वार्ट्ज बलुआ पत्थर होता है। इसमें चूना पत्थर, फ़ायलाइट, स्लेट की तुलना में अधिकतम मौसम प्रतिरोध विशेषता है।

QUESTION: 2

सीमेंट के निर्माण में प्रयुक्त घूर्णी भट्ठी _______ की गति से घूमती है।

Solution:

दहन प्रक्रिया घूर्णी भट्ठी में की जाती है जबकि कच्चे माल को अपने अनुदैर्ध्य अक्ष पर 1-2 घूर्णन प्रति मिनट पर घुमाया जाता है।

घूर्णी भट्ठी इस्पात ट्यूबों से बनी होती है जिनका व्यास 2.5-3.0 मीटर होता है और लंबाई 90-120 मीटर के बीच होती है।

भट्ठी के भीतरी हिस्से को आग-प्रतिरोधी ईंटों के द्वारा आस्तरित किया जाता है।

QUESTION: 3

जब लकड़ी को काष्ठ अग्नि में 15 mm से अधिक की गहराई तक जलाया जाता है, तो उपचार की इस प्रक्रिया को ______ कहा जाता है।

Solution:

इमारती लकड़ी संरक्षण के विभिन्न तरीके इस प्रकार हैं:

i) ब्रशिंग

ii) छिड़काव

iii) दबाव के तहत इंजेक्शन

iv) डिपिंग और स्टेपिंग

v) प्रांगारकरण (अतितापन)

vi) गर्म और ठंडे खुले टैंक में उपचार

प्रांगारकरण (अतितापन) में मूल रूप से लकड़ी की सतह को जलाया जाता है (लकड़ी के संरक्षण की पुरानी विधि)। इस विधि में, लकड़ी की सतह 30 मिनट गीली की जाती है और शीर्ष सतह से 15 mm की गहराई तक जला दी जाती है। जली हुई सतह सफेद चींटियों, कवक, आदि से भीतरी लकड़ी की रक्षा करती है।

यह विधि बाहरी लकड़ी के कामों के लिए उपयुक्त नहीं है।

डिपिंग लकड़ी का संरक्षण करने का एक और प्रकार है, इस विधि में, लकड़ी को सीधे संरक्षक विलयन में डुबो दिया जाता है। इसलिए, विलयन ब्रशिंग या छिड़काव की तुलना में लकड़ी में बेहतर ढंग से प्रवेश कर पाता है।

गर्म और ठंडे खुले टैंक उपचार विधि में, लकड़ी को एक खुले टैंक में रखा जाता है जिसमें संरक्षक विलयन होता है। इस विलयन को फिर 85 घंटे से 95 डिग्री सेल्सियस पर कुछ घंटों तक गर्म किया जाता है। फिर, विलयन को ठंडा होने दिया जाता है और इस क्रमिक शीतलन के साथ लकड़ी निमग्न हो जाती है।

QUESTION: 4

निम्नलिखित में से पोर्टलैंड सीमेंट का कौन सा यौगिक जल के साथ तीव्रता से अभिक्रिया करता है और जल्दी सेट होता है?

Solution:

ट्राईकैल्शियम एल्यूमिनेट:  C3A सीमेंट में पानी मिलाने के 24 घंटों के भीतर बनता है और जलयोजन की ऊष्मा की अधिकतम वृद्धि के लिए जिम्मेदार होता है। यह पहला यौगिक है जो पानी के मिलाने पर बनता है और जल्दी सेट होता है।

टेट्राकैल्शियम एल्यूमिनोफेराइट: C4AF भी सीमेंट में पानी मिलाने के 24 घंटे के भीतर बनता है लेकिन सीमेंट की समग्र शक्ति में इसका एकल योगदान महत्वहीन है।

ट्राईकैल्शियम सिलिकेट: C3S  सीमेंट में पानी मिलाने एक सप्ताह के भीतर बनता है और सीमेंट की शक्ति के शुरुआती विकास के लिए जिम्मेदार होता है।

डाईकैल्शियम सिलिकेट: C2S अंतिम यौगिक है जो सीमेंट में पानी के मिलाने के बाद बनता है जिसे इसके गठन के लिए एक साल या उससे भी अधिक की आवश्यकता पड़ती है। यह सीमेंट की उन्नतिशील ताकत के लिए ज़िम्मेदार है।

QUESTION: 5

निम्नलिखित में से किसका उपयोग पेंट में वाहक के रूप में किया जाता है?

Solution:

वाहक: यह एक तैलीय द्रव है जिसमें बेस और रंजक घुलनशील होते हैं। यह ब्रश  के माध्यम से पेंट को सतह पर आसानी से समान रूप से फैलाने के लिए सरलता प्रदान करता है। यह बेस के लिए एक बंधक के रूप में कार्य करता है और इसे सतह पर चिपकने के लिए आसान बनाता है।

आमतौर पर वाहकों के रूप में उपयोग किए जाने वाले तेल इस प्रकार हैं: अलसी का तेल, खसखस का तेल, नट का तेल और तुंग तेल।

शोषक: यह वे धातु यौगिक हैं जो छोटी मात्रा में पेंट में मिलाने पर पेंट की सूखने की प्रक्रिया में तेजी लाते हैं। शोषक में पेंट के रंग को प्रभावित करने और पेंट की प्रत्यास्थता को नष्ट करने की प्रवृत्ति होती है।

लिथार्ज, मैंगनीज डाइऑक्साइड, लेड एसीटेट और कोबाल्ट कुछ सामान्य प्रकार के शोषक हैं, जिनमें से लिथार्ज का सबसे अधिक उपयोग किया जाता है।

QUESTION: 6

IS कोड निर्दिष्ट करता है कि ईंट की संपीड़न शक्ति ईंट को _______ पर रखकर निर्धारित की जाती है।

i) नमूने के सपाट फलक को क्षैतिज दिशा में रखें

ii) नमूने के सपाट फलक को उर्ध्वाधर दिशा में रखें

iii) 12 घंटे के लिए पानी में भिगोने के बाद

Solution:

IS 3495 (भाग 1): 1992 के अनुसारजली हुई मिट्टी द्वारा बनी ठोस ईंट की संपीड़न शक्ति के परीक्षण के लिए निम्नलिखित प्रक्रिया है:

1. नमूने के सपाट फलक को क्षैतिज दिशा में रखें, और प्रत्येक 3 mm मोटाई की तीन-प्लाई प्लाईवुड शीट के बीच मसाले से भरा फलक ऊपर की और और परीक्षण मशीन की प्लेटों के बीच ध्यान से केंद्र की ओर रखें।

2. विफलता होने तक 14 N/mm* (140 kgf/cm2) प्रति मिनट की एक समान दर पर अक्षीय रूप से लोड रखें और विफलता होने पर अधिकतम भार को नोट कर लें।

3. विफलता पर लोड वह अधिकतम लोड होगा जिस पर नमूना परीक्षण मशीन पर संकेतक में आगे बढ़ने में विफल रहता है।

परीक्षण से पूर्व शर्त:

24 घंटे के लिए कमरे के तापमान पर पानी में ईंट का भिगोकर रखें

QUESTION: 7

खिड़कियों के लिए संरचनात्मक तत्व के रूप में उपयोग की जाने वाली लकड़ी की नमी का अनुशंसित घटक कितना है?

Solution:

IS 287:1993 के अनुसार:

खिड़कियों के लिए संरचनात्मक तत्व के रूप में उपयोग किए जाने वाले लकड़ी की नमी का अनुशंसित घटक जोन क्षेत्रफल और मोटाई पर निर्भर करता है।

यह 50 mm और उससे अधिक की मोटाई के लिए 10 से 16% के बीच होती है

यह 50 mm से कम मोटाई के लिए 8 से 14% के बीच होती है।

QUESTION: 8

फ्लैट छतों में प्रकाश के लिए छोड़े गए ओपनिंग को क्या कहा जाता है?

Solution:

फ्लैट छतों में प्रकाश के लिए छोड़े गए ओपनिंग को छत का रोशनदान कहा जाता है।

ढलान वाली छत के लिए डोर्मर विंडो प्रदान की जाती हैं। वे वेंटिलेशन के साथ ही कमरे में प्रकाश व्यवस्था प्रदान करते हैं। वे कमरे की सौंदर्यता भी बढ़ाते हैं।

रोशनदान आमतौर पर ढलान वाली छतों के शीर्ष पर उपलब्ध कराए जाते हैं। कमरे में प्रकाश लिए, रोशनदान बनाये जाते हैं। यह ढलान सतह के समानांतर बनाये जाते है। आवश्यकतानुसार रोशनदान खोला जा सकता है।

QUESTION: 9

उच्च पावंदी वाली ईंटों की संपीड़न शक्ति ________ से अधिक होनी चाहिए।

Solution:

IS 2180 : 1988 के अनुसार:

उच्च पावंदी जली हुई मिट्टी की ईंटें या संपीड़न द्वारा या बहिर्वेधन द्वारा बनाई जाती है। ये एक संसाधित मिट्टी या सही अनुपात में मिश्रित मिट्टी से बनाई जाती है।

उच्च पावंदी ईंटों की औसत संपीड़न शक्ति 40 N/mmसे कम नहीं होनी चाहिए ।

QUESTION: 10

पैलेट बोर्ड का उपयोग क्यों किया जाता है?

Solution:

हस्त मोल्डिंग प्रक्रिया में उपयोग किए जाने वाले आवश्यक उपकरण इस प्रकार हैं-

i) एक ईंट मोल्ड

ii) कर्तन तार या स्ट्राइक

iii) लकड़ी की प्लेटें जिन्हें पैलेट कहा जाता है

iv) एक स्टॉक बोर्ड

ईंटों के फ्रॉग चिह्न पैलेट बोर्डों की एक जोड़ी का उपयोग करके बनाए जाते हैं।

QUESTION: 11

हाइड्रोलिक चूने की हाइड्रोलिकता मुख्य रूप से _____ के कारण होती है।

Solution:

मिट्टी चूने को हाइड्रोलिकता प्रदान करती है और इसे पानी में अघुलनशील बनाती है, अगर यह अधिकता में है तो यह शीतलन प्राप्त करता है अगर यह अल्पता में है तो यह शीतलन प्राप्त नहीं करता है।

अल्प मात्रा में सल्फर की उपस्थिति शीतलन की दर को कम करती है और चूने की सेट होने की प्रक्रिया को तेज करती है।

QUESTION: 12

प्लास्टरिंग में, पहला कोट (लेप) ___________ कहलाता है और इसकी मोटाई _______ mm होनी चाहिए।

Solution:

नई दीवार पर किया जाने वाला पहला कोट "अंडरकोट" कहलाता है।

ईंट चिनाई के मामले में पहले कोट प्लास्टर की मोटाई सामान्य रूप से 12 mm  होती है और कंक्रीट चिनाई के मामले में यह मोटाई 9 से 15 mm तक भिन्न-भिन्न होती है।

QUESTION: 13

एक डीजल जनरेटर को एक इमारत में 3500.00 रुपये की लागत से स्थापित किया गया है। 5% ब्याज की दर पर पूर्ण राशि जमा करने के लिए ऋण शोधन निधि की कितने रूपये की वार्षिक किश्त जमा करानी पड़ेगी?

जनरेटर के जीवन-काल को 20 साल के रूप में मानें।

Solution:

वार्षिक ऋण शोधन निधि (I) इस प्रकार होगी -

जहाँ,

S = ऋण शोधन निधि की जमा कि जाने वाली राशि = 3500 रुपये

i = ब्याज दर = 5% = 0.05

n = ऋण शोधन निधि की जमा करने के लिए आवश्यक वर्षों की संख्या = 20

QUESTION: 14

5 m लम्बी,3.5 m ऊँची और 20 cm मोटी दीवार के ईंट-चिनाई कार्य की लागत कितनी होगी यदि, ईंट-चिनाई कार्य की दर 345 प्रति घन मीटर है?

Solution:

ईंट-चिनाई कार्य की मात्रा= L x B x H

= 5 x 3.5 x 0.20

= 3.5 m3

1 m3 ईंट-चिनाई के कार्य की लागत = रु. 345

3.5 m3 ईंट-चिनाई के कार्य की लागत = 3.5 x 345 = रु. 1207.5

QUESTION: 15

जब एक इंजीनियरिंग विभाग अन्य विभाग का काम करता है, तो प्रतिसैंकड़ा कितना शुल्क लिया जाता है?

Solution:

प्रति सैंकड़ा शुल्क: जब इंजीनियरिंग विभाग अन्य विभाग का काम करता है, तो स्थापन, डिजाइनिंग, योजना, पर्यवेक्षण आदि के खर्चों को पूरा करने के लिए अनुमानित लागत के 10 से 15% की प्रतिशत राशि का शुल्क लिया जाता है और इस प्रतिशत शुल्क को प्रतिसैंकड़ा शुल्क के रूप में जाना जाता है।

QUESTION: 16

निम्नलिखित मदों में से कौन सा काम की तकनीकी मंजूरी में शामिल नहीं है?

Solution:

तकनीकी मंजूरी का अर्थ इंजीनियरिंग विभाग के संबंधित प्राधिकारी द्वारा विस्तृत अनुमान, डिज़ाइन गणना, काम की मात्रा, दरों और लागत की मंजूरी है। अनुमान की तकनीकी मंजूरी मिलने के बाद ही निर्माण के लिए काम किया जाता है।

नोट: निधि आवंटन व्यय स्वीकृति का एक हिस्सा है।

QUESTION: 17

प्रति राजमिस्त्री प्रति दिन 1 : 2 : 4 के सीमेंट कंक्रीट की अपेक्षित कार्य-मात्रा कितनी होगी?

Solution:

प्रति दिन एक कामगार अथवा कुशल श्रमिक द्वारा की गई काम की क्षमता को प्रति दिन काम की मात्रा के रूप में श्रमिक द्वारा किये गए कार्य उत्पादन के रूप में जाना जाता है।

QUESTION: 18

चौखट को _______ में मापा जाता है।

Solution:

i) दरवाजे और खिड़की अथवा चौखट के फ्रेम को घन मीटर में मापा जाता है।

ii) दरवाजे या खिड़की के लीव अथवा शटर वर्ग मीटर में मापे जाते हैं।

iii) लकड़ी के कार्य जैसे लकड़ी बीम, बरगाह, स्तम्भ, लकड़ी की छत के जोड़, चौखट आदि घन मीटर में मापे जाते हैं।

QUESTION: 19

निम्नलिखित में से कौन सा इमारत के प्रसार क्षेत्र में शामिल नहीं है?

Solution:

परिसंचरण क्षेत्र में बरामदा , पैसेज, गलियारे, बालकनी, प्रवेश कक्ष, पोर्च, सीढ़ी आदि का फर्श क्षेत्र शामिल हैं, जिसका प्रयोग इमारत का उपयोग करने वाले व्यक्तियों के चलने-फिरने के लिए किया जाता है।

परिसंचरण क्षेत्र में निम्नलिखित मद शामिल हैं:

i) बरामदा तथा बालकनी

ii) पैसेज और गलियारे

iii) प्रवेश कक्ष

iv) सीढ़ी और ममटी

v) लिफ्टों के लिए शाफ़्ट

QUESTION: 20

किसी विशेष परियोजना के लिए निविदा सूचना में निम्नलिखित मदों में से कौन सा शामिल नहीं है?

Solution:

निविदा सूचना में शामिल मद इस प्रकार हैं:

i) काम का विवरण

ii) काम की अनुमानित लागत

iii) निविदा की तिथि और समय

iv) अग्रिम धन राशि

v) सुरक्षा धन

vi) पूरा होने का समय

QUESTION: 21

30 cm तक की ऊंचाई तक स्कर्टिंग को________ में मापा जाएगा।

Solution:

30 cm तक की ऊंचाई तक स्कर्टिंग को रनिंग मीटर में मापा जाएगा और 30 cm से अधिक स्कर्टिंग या दाडो को उसके परिष्करण के आधार पर वर्ग मीटर में मापा जाता है।

QUESTION: 22

20 m लंबाई और 573 m की त्रिज्या वाली श्रृंखला की वक्रता की डिग्री (डिग्री में) कितनी होगी ?

Solution:

20 लंबाई की श्रृंखला के लिए,

वक्रता की डिग्री (D) इस प्रकार होगी:

नोट:

3लंबाई की श्रृंखला के लिए,

वक्रता की डिग्री (D) इस प्रकार होगी:

QUESTION: 23

100 श्रृंखला वाली चेन के साथ मापी गयी रेखा की लंबाई को 2000 श्रृंखला पाया गया। यदि चेन 0.5 श्रृंखला छोटी थी, तो रेखा की वास्तविक लंबाई ज्ञात कीजिये।

Solution:

माना रेखा की वास्तविक लम्बाई = L

चेन की वास्तविक अथवा निर्दिष्ट लंबाई (l) = 100 श्रृंखला

रेखा की गलत मापी गई लंबाई (L') = 2000 श्रृंखला

चेन की गलत लंबाई (L') = 100 - 0.5 = 99.5 श्रृंखला

l’ × L’ = l × L

QUESTION: 24

यदि ढलान 1 : 10 है तो 30 m लंबी श्रृंखला के लिए कर्ण अनुज्ञा (Cm) कितनी होगी?

Solution:

30 m लंबी श्रृंखला के लिए कर्ण अनुज्ञा (Cm) इस प्रकार होगी:

QUESTION: 25

एक 134 m के लाइट हाउस के शीर्ष से दृश्य क्षितिज की त्रिज्या कितनी होगी?

Solution:

दृश्य क्षितिज की दूरी इस प्रकार होगी:

H = दृश्य क्षितिज की उंचाई (मीटर में)

D = दृश्य क्षितिज की दूरी (km)

QUESTION: 26

500 m की दूरी के लिए कितना अपवर्तन सुधार (m में) आवश्यक है?

Solution:

अपवर्तन सुधार इस प्रकार होता है:

जहाँ,

d = दूरी (मीटर में)

R = पृथ्वी की त्रिज्या = 6370 km

QUESTION: 27

मिट्टी के नमूने में तरल सीमा 50%, प्लास्टिक सीमा 25%, संकोचन सीमा 20% और नमी सामग्री 35% है। इसका स्थिरता सूचकांक कितना होगा?

Solution:

तरल सीमा, W= 50%

प्लास्टिक सीमा, WP = 25%

नमी सामग्री, W = 35%

स्थिरता सूचकांक,

QUESTION: 28

मिट्टी की अति शिथिल अवस्था में रिक्ति अनुपात तथा इसके प्राकृतिक रिक्ति अनुपात (e) एवं अति शिथिल अवस्था में तथा पूर्ण सघन अवस्था में रिक्ति अनुपात के बीच अंतर के अनुपात को किस रूप में जाना जाता है?

Solution:

अति शिथिल अवस्था में रिक्ति अनुपात  = emax

सघन अवस्था में रिक्ति अनुपात = emin

प्राकृतिक रिक्ति अनुपात = e

इसलिए, मिट्टी की अति शिथिल अवस्था में रिक्ति अनुपात तथा इसके प्राकृतिक रिक्ति अनुपात (e) एवं अति शिथिल अवस्था में तथा पूर्ण सघन अवस्था में रिक्ति अनुपात के बीच अंतर के अनुपात को​ सापेक्ष घनत्व कहा जाता है।

सापेक्ष घनत्व द्वारा,मोटे कणों वाली मिट्टी की सहायता से क्षेत्रफल संघनन की गणना की जाती है।

QUESTION: 29

ठोस सघन रेत का सापेक्ष घनत्व लगभग ________ के बराबर होता है।

Solution:

ठोस सघन रेत के सापेक्ष घनत्व को प्रयोगात्मक रूप से 0.95 के रूप में देखा जाता है।

QUESTION: 30

जब संतृप्ति की डिग्री शून्य होती है, तब विचाराधीन मिट्टी का द्रव्यमान _______ का प्रतिनिधित्व करता है।

Solution:
QUESTION: 31

समेकन निपटान निम्न में से किस व्यंजक द्वारा दर्शाया जाता है?

Solution:

समेकन निपटान इस प्रकार से दिया जाता है,

जहाँ C= संपीड़न सूचकांक का गुणांक है

QUESTION: 32

यदि रिक्ति अनुपात 0.67 है, जल की मात्रा 0.188 है और विशिष्ट गुरुत्व 2.68 है, मिट्टी की संतृप्ति की डिग्री कितनी होगी?

Solution:

रिक्ति अनुपात, e = 0.67

जल की मात्रा, w = 0.188

विशिष्ट गुरुत्व, G = 2.68

जैसा कि हम जानते हैं, eSr = wG

जहाँ S= संतृप्ति की डिग्री है

QUESTION: 33

एक नम रेत 15 सेमी की गहराई अधिकृत करती है और जब पूर्ण रूप से संतृप्त होती है तो यह 12 सेमी गहराई अधिकृत कर लेती है, तो नम रेत का स्थुलन क्या होगा?

Solution:


QUESTION: 34

संसक्त मिट्टी के मामले में, शीर्ष पर सक्रिय मिट्टी का दबाव कितना होगा? 

Solution:

 

संसक्त  मिट्टी के मामले में, शीर्ष पर सक्रिय मिट्टी का दबाव इस प्रकार होगा​:

जहाँ Ka = सक्रिय मिट्टी दबाव गुणांक

इसलिए, सक्रिय मिट्टी दबाव की तीव्रता 

QUESTION: 35

वह उपकरण जो शुष्क, अनपवाहित और समेकित शुष्क परीक्षण आयोजित करने के लिए उपयुक्त है-

Solution:
QUESTION: 36

एक चिकनी कुबड़ के लिए उपक्रांतिक प्रवाह में व्यापक शीर्ष बाँध के रूप में कार्य करने के लिए, तल से ऊपर कुबड़ की उंचाई ΔZ निम्नलिखित में से किसको संतुष्ट करेगा?

(E1 = कूबड़ की विशिष्ट शीर्ष धारा

EC =क्रांतिक गहराई पर विशिष्ट शीर्ष yc)

(घर्षण प्रभावों को नगण्य मानते हुए)

Solution:

यदि प्रवाह उपक्रांतिक है, तो कूबड़ के बाद विशिष्ट ऊर्जा ΔZ (कूबड़ की ऊंचाई) द्वारा कम हो जाएगी।

Ec ≤ E1 – ΔZ 

⇒ ΔZ ≤ E1 – Ec

QUESTION: 37

पेल्टन टरबाइन की विशिष्ट गति ______ सीमा में है।

Solution:

विशिष्ट गति: ऐसे समान टर्बाइन जो कि 1 मीटर के शीर्ष में कार्यरत है और 1 किलोवाट शक्ति उत्पन्न करता है, उनकी गति के रूप में इसे परिभाषित किया जाता है। विशिष्ट गति विभिन्न टर्बाइन के प्रदर्शन की तुलना करने में उपयोगी होती है। विशिष्ट गति विभिन्न प्रकार की टर्बाइन के लिए भिन्न होती है और मॉडल और वास्तविक टर्बाइन के लिए समान होती है। 

1. पेल्टन  व्हील टर्बाइन (एकल जेट) की विशिष्ट गति सीमा 10-35 की है

2. पेल्टन  व्हील टर्बाइन (बहुविध जेट) की विशिष्ट गति सीमा 35-60 की है

3. फ्रांसिस टरबाइन की विशिष्ट गति सीमा 60-300 की है।

4. कपलान टरबाइन की विशिष्ट गति 300 से अधिक है।

QUESTION: 38

एक क्षैतिज आयताकार चैनल में बनी एक हाइड्रोलिक उफ़ान में अनुक्रम-गहराई अनुपात 2 है। अतिक्रांतिक धारा की फ्राउड संख्या कितनी होगी?

Solution:

निम्नलिखित सम्बन्ध के उपयोग द्वारा:

जहाँ,

y2 = उफ़ान के पश्चात गहराई

y1 = पूर्व उफ़ान गहराई

F1 = उफ़ान से पहले फ्रायड संख्या

QUESTION: 39

तरल की गहराई में वृद्धि के साथ दबाव पर क्या प्रभाव पड़ेगा?

Solution:
QUESTION: 40

फ्रांसिस टर्बाइन की अपेक्षा कैपलन टर्बाइन का/के क्या फायदा/फायदे है/हैं?

1. कम घर्षण हानि

2. पार्ट भार दक्षता उच्च होती है

3. अधिक सघन और आकार में छोटे होते है

नीचे दिए गए विकल्प प्रयुक्त करके सही उत्तर का चुनाव कीजिए।

Solution:
  • फ्रांसिस टर्बाइन में ब्लेड ज्यादा होते हैं इसलिए इसमें ठोस और द्रव के बीच का सतह संपर्क बहुत ज्यादा होता है और इसलिए रनर में हानि ज्यादा होती है। कैपलन टर्बाइन में ब्लेड कम होने की वजह से ठोस और द्रव के बीच का सतह संपर्क कम होता है और इसलिए रनर में हानि ज्यादा नहीं होती है
  • फ्रांसिस टर्बाइन में शाफ़्ट ऊर्ध्वाधर या क्षैतिज लगायी जा सकती है। कैपलन टर्बाइन में शाफ़्ट केवल ऊर्ध्वाधर दिशा में ही लगायी जाती है
  • फ्रांसिस टर्बाइन में रनर वेंस (धावक फलक) शाफ़्ट के साथ स्थापित किए हुए होते हैं, अतः इन्हें समायोजित नहीं किया जा सकता, जबकि कैपलन टर्बाइन में रनर वेंस (धावक फलक) संयोज्य होते हैं
  • फ्रांसिस टर्बाइन में सामान्यतः (100-500) मीटर की सीमा में मध्यम हेड की आवश्यकता होती है। कैपलन टर्बाइन में निम्न हेड आवश्यक होता है जो कि सामान्यतः 100 मीटर से कम होता है
  • फ्रांसिस टर्बाइन में मध्यम प्रवाह दर आवश्यक होती है। कैपलन टर्बाइन में अत्याधिक प्रवाह दर आवश्यक होती है
  • कैपलन टर्बाइन में पार्ट भार दक्षता अपेक्षाकृत उच्च होता है
QUESTION: 41

सूची I के साथ सूची II का मिलान कीजिए और दिए गए विकल्पों की सहायता से सही उत्तर का चुनाव कीजिए।

Solution:

प्रश्न में दी गयी तालिका से हम यह निष्कर्ष निकाल सकते हैं कि सूची 2 विशेषता है और सूची 1 उसके अनुप्रयोग हैं।



QUESTION: 42

चेजी समीकरण का उपयोग किसके निर्धारण के लिए किया जाता है?

Solution:

चेजी समीकरण का उपयोग खुले चैनल के औसत प्रवाह वेग की गणना के लिए किया जा सकता है।

  • C चेजी का गुणांक है
  • R हाइड्रोलिक त्रिज्या है (क्षेत्रफल / परिधि)
  • I पाइप की प्रति इकाई लंबाई शीर्ष हानि है (hf / L)
QUESTION: 43

एक दो-आयामी प्रवाह को वेग घटक u = 2x और v = - 2y द्वारा दर्शाया जाता है। बिंदुओं (1, 1) और (2, 2) के बीच निर्वहन कितना होगा?

Solution:

 ………(i)
    ………(ii)

(i) का समाकलन करने पर , हमें प्राप्त होगा,

ψ = – 2xy + f(y)                                 ………(iii)

y के सापेक्ष  (iii)  का अवकलन करने पर हमे प्राप्त होगा,

     ………(iv)

(ii) और  (iv) का समीकरण करने पर, हमें प्राप्त होगा,

f’(y) = 0

 (v) का समाकलन करने पर , हमें प्राप्त होगा,

f(y) = C

जहाँ C एक संख्यात्मक स्थिरांक है जो शून्य के रूप में लिया जा सकता है,

 (iii) से, हमें प्राप्त होगा,

ψ = - 2 xy

(1, 1) पर ; ψ1 = -2 इकाई

(2, 2) पर ; ψ2 = - 8 इकाई

= 8 – 2

= 6 इकाई

QUESTION: 44

एक चैनल में समान प्रवाह निम्नलिखित कथनों द्वारा दर्शाया जा सकता है:

Solution:

चैनल के साथ गहराई, ढलान और वेग स्थिर रहते हैं। जल की सतह ढलान, ऊर्जा रेखा की ढलान और तल ढलान सभी एक दूसरे के समान होंगी।

QUESTION: 45

रोलिंग भूमि पर पानी के छिड़काव की विधि कौन सी है?

Solution:

स्वतंत्र बाढ़ में, क्षेत्र में के समोच्च या ढलान के ऊपर अथवा नीचे खाई बनाई जाती है। यह विधि निकट बढ़ती फसलों, चरागाह आदि के लिए उपयुक्त है। यह विधि अनियमित स्थलाकृति की रोलिंग भूमि पर उपयुक्त है, जहां अन्य विधियां उपयुक्त नहीं होती हैं।

सीमा बाढ़ में, भूमि को कई पट्टिकाओं में विभाजित किया जाता है, जो छोटे तटबंध द्वारा अलग कि जाती है, इन्हे सीमा कहते हैं।

नियंत्रण बाढ़, सामान्य बाढ़ के समान है सिवाय इसके कि जल को लघु और सपाट तटबंध के द्वारा नियंत्रित किया जाता है। यह विधि अधिक पारगम्य मिट्टी और कम पारगम्य मिट्टी के लिए उपयुक्त है।

कुंड बाढ़ विधि में, भूमि की सतह का केवल एक-पांचवें से एक-आधा हिस्सा ही आर्द्र होता है। इस विधि में, वाष्पीकरण हानि बहुत कम है।

QUESTION: 46

ब्लैनी-क्रिडल विधि का उपयोग किस लिए किया जाता है?

Solution:

ब्लैनी-क्रिडल विधि का उपयोग वाष्पन-उत्सर्जन अर्थात फसल द्वारा पानी के उपभोग्य उपयोग को निर्धारित करने के लिए किया जाता है।

यह वाष्पन-उत्सर्जन (पानी के उपभोग्य उपयोग) को मापने की सबसे पुरानी विधियों में से एक है।

QUESTION: 47

180 sq.km के जलग्रहण क्षेत्र के शीर्ष बाढ़ निर्वहन का आकलन डिकेन के सूत्र द्वारा किया जाता है, जिसका गुणांक C = 16 है। शीर्ष बाढ़ निर्वहन कितना होगा?

Solution:

जलग्रहण क्षेत्र A = 180 km2

डिज़ाइन निर्वहन,

A = जलग्रहण क्षेत्र (km2)

C = 16

Q = 786.27 m3/s

QUESTION: 48

निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये : एक कृत्रिम जलमार्ग पार जल निकासी निर्माण है जिसमें

1. जल निकासी चैनल के ऊपर एक नहर बनाई जाती है

2. नहर पर से जल निकासी चैनल बनाया जाता है

3. दोनों जल निकासी चैनल और नहर एक ही स्तर पर होते हैं

इनमें से कौन सा कथन सही है?

Solution:

एक कृत्रिम जलमार्ग और सिफॉन कृत्रिम जलमार्ग एक क्रॉस जल निकास निर्माण है जिसमें प्राकृतिक जल निकास पर नहर इस प्रकार से बनाई जाती है जिससे की निकास जल नहर के नीचे या तो स्वतंत्र रूप से बहता है या साइफन दाब के अधीन बहता है। 

सुपर मार्ग और सिफॉन क्रॉस जलनिकास निर्माण हैं जिसमें निकास नहर के ऊपर से बहती है जिसमे नहर का जल निकास के नीचे या तो स्वतंत्र रूप से बहता है या साइफन दाब के अधीन बहता है  लेवल क्रॉसिंग एक पार निकास निर्माण है जिसमें नहर का पानी और निकास का पानी को एक दूसरे के साथ मिश्रित हो जाता है ।

एक स्तर क्रॉसिंग आमतौर पर तब प्रदान किया जाता है जब एक बड़ी नहर और एक विशाल जल निकासी (जैसे एक धारा या नदी) एक दूसरे के साथ एक ही स्तर पर व्यावहारिक रूप से संपर्क करती है।

QUESTION: 49

गेहूं, जौ, सन और अन्य छोटे अनाज जैसी फसलों के लिए उपभोग्य उपयोग गुणांक लगभग कितना है?

Solution:

वाष्पन-उत्सर्जन (उपभोग्य उपयोग) और पैन वाष्पीकरण का अनुपात उपभोग्य उपयोग गुणांक कहलाता है।

यह भिन्न-भिन्न फसलों के लिए अलग-अलग होता है और विभिन्न स्थानों पर एक ही फसल के लिए भी अलग-अलग होता है।

विभिन्न फसलों को 8 समूहों में विभाजित किया गया है:

गेहूं, जौ, सन और अन्य छोटे अनाज जैसी फसलें समूह D में निहित हैं और इन फसलों के लिए उपभोग्य उपयोग गुणांक का अधिकतम मूल्य 0.90 है।

खरबूजे, प्याज, गाजर और अंगूर जैसी फसलें समूह C में निहित हैं, इन फसलों के लिए उपभोग्य उपयोग गुणांक का अधिकतम मूल्य 0.60 है।

QUESTION: 50

पानी के नमूने का मैलापन किस पर निर्भर करता है?

Solution:

पानी के नमूने का मैलापन निलंबित और कलिलीय ठोस की सांद्रता और घनत्व पर निर्भर करता है।

मैलापन विघटित ठोस पर निर्भर नहीं है क्योंकि विघटित ठोस आयनिक रूप में होते हैं।

QUESTION: 51

Solution:

BODइस प्रकार दिया गया है-

BOD5 = 0.68×Lo

जहाँ,

Lo = नमूने का परम BOD

QUESTION: 52

IS 1172: 1992 के अनुसार 250 बिस्तर वाले अस्पताल में प्रति बिस्तर प्रति दिन पानी की आवश्यकता कितनी होगी?

Solution:

IS 1172: 1993 के अनुसार, निवासस्थान के अतिरिक्त इमारतों के लिए पानी की आवश्यकता निम्नानुसार है:

QUESTION: 53

निम्नलिखित में से कौन सा प्रभाव पानी में लौह ऑक्साइड की उपस्थिति के कारण नहीं है?

Solution:

पृथ्वी पर लौह मुख्य रूप से अघुलनशील फेरिक ऑक्साइड के रूप में पाया जाता है। लौह पानी के स्वाद को खराब करता है, कपड़े में विवर्णन करता है और जल साधनों में पपड़ी जमाता है।

i) चूंकि इसमें बहु सयोंजी धनायन हैं जो पानी में कठोरता के लिए जिम्मेदार हैं।

ii) पानी के साथ लौह ऑक्साइड की अभिक्रिया से CO2 की सांद्रता में वृद्धि होगी जो पानी में संक्षारण के लिए जिम्मेदार है।

iii) लौह ऑक्साइड का रंग लाल होता है, इसलिए यह पानी का रंग लाल कर देता है।

iv) लौह ऑक्साइड की उपस्थिति पानी में विषाक्त प्रभाव का कारण नहीं बनती है।

QUESTION: 54

विद्युत्स्थैतिक अवक्षेपक का उपयोग _______ को अलग करने के लिए प्रदूषण नियंत्रण उपकरण के रूप में उपयोग किया जाता है।

Solution:

विद्युत्स्थैतिक अवक्षेपक अभिकणों के लिए सबसे व्यापक रूप से उपयोग किए जाने वाले संग्रह उपकरणों में से एक है। एक विद्युत्स्थैतिक अवक्षेपक (ESP) एक अभिकण संग्रह उपकरण है जो एक प्रेरित विद्युत्स्थैतिक आवेश के बल का उपयोग करके बहने वाली गैसीय धारा (जैसे हवा) से कणों को हटा देता है।

ESP को उच्च तापमान और दबाव पर संचालित किया जा सकता है, और इसकी विद्युत आवश्यकता कम होती है। एक विद्युत्स्थैतिक अवक्षेपक एक प्रकार का निस्पंदन (शुष्क मार्जक) होता है जो धूएँ की नाल से निकासी से पहले निकलने वाले धुएं से सूट और राख को हटाने के लिए स्थैतिक बिजली का उपयोग करता है।

QUESTION: 55

सीमेंट कंक्रीट फुटपाथ के लिए सबसे उपयुक्त कैम्बर का आकार क्या है?

Solution:

कैम्बर सड़क की सतह से बारिश के पानी को निकालने के लिए सड़क की अनुप्रस्थ दिशा में प्रदान की गई ढलान है। आम तौर पर सड़क के केंद्र में उच्चतम बिंदु वाले किनारों के संबंध में केरिजवे के केंद्र को उठाकर सीधी सड़कों पर कैम्बर प्रदान किया जाता है।

कंक्रीट फुटपाथ के मामले में कैम्बर की सीधी ढलान का निक्षेपण और रख-रखाव आसान है। परवलयिक आकार के कैम्बर का निर्माण और उनका रख रखाव मुश्किल है। इसमें किनारे तीव्र ढलान वाले होते हैं जिनका उपयोग करना असुविधाजनक होता है। हालांकि, बेहतर जल निकासी के लिए इसे बिटुमिनस फुटपाथ में रखा जाता है।

QUESTION: 56

भारतीय रोड कांग्रेस द्वारा अनुशंसित बहु-लेन फुटपाथों के लिए कैरिजवे की चौड़ाई कितनी होती है?

Solution:

RC द्वारा अनुशंसित लेन के प्रकार के लिए कैरिजवे की चौड़ाई इस प्रकार है:-

QUESTION: 57

राजमार्गों पर एक आरामदायक यात्रा के लिए, अपकेंद्री अनुपात _______ से अधिक नहीं होना चाहिए।

Solution:

अपकेंद्री अनुपात इस प्रकार होगा: 

V = डिजाइन वेग

R = वक्र की त्रिज्या

राजमार्गों के लिए, अपकेंद्री अनुपात = ¼ = 0.25

रेलमार्गों के लिए, अपकेंद्री अनुपात = 1/8 = 0.125

QUESTION: 58

IRC के अनुसार, क्रेम्ब रबर संशोधित बिटुमेन के लिए न्यूनतम प्रत्यास्था प्राप्ति कितनी होनी चाहिए?

Solution:

IRC के अनुसार,

क्रेम्ब रबर संशोधित बिटुमेन के लिए न्यूनतम प्रत्यास्था प्राप्ति 50% होनी चाहिए।

QUESTION: 59

इस्पात संरचना आदर्श रूप से संघात लोड के लिए उपयुक्त हैं, क्योंकि इनका ________ उच्च है।

Solution:

कठोरता को भंग का प्रतिरोध करने के लिए धातु की क्षमता के रूप में परिभाषित किया जाता है। यह केवल नमनीय सामग्री के लिए महत्वपूर्ण है।

मृदु इस्पात एक नमनीय सामग्री है जिसमें उच्च भंग विकृति होती है, सामग्री में भंग, संघात लोड के तहत होता है और जिस सामग्री में उच्च भंग विकृति होती है उसकी कठोरता का मान भी उच्च होता है।

QUESTION: 60

जब लोड रेखा रिवेट समूह के केंद्रक के संरेखी है, तो रिवेट किसके अधीन होते हैं?

Solution:
QUESTION: 61

बीम के किसी भी बिंदु पर, खंड के जड़त्वाघूर्ण को _____ द्वारा  विभाजित करके खंड मापांक प्राप्त किया जा सकता है।

Solution:
QUESTION: 62

केली बॉल उपकरण का उपयोग किस लिए किया जाता है?

Solution:

निम्नलिखित कथन का अध्यनन कीजिये:

i) अवपात परीक्षण ,संघनन कारक परीक्षण, केली बॉल उपकरण, वी-बी कंसिस्टोमीटर का उपयोग कार्यशीलता को मापने के लिए किया जाता है।

ii) विकट के उपकरण का उपयोग सीमेंट की स्थिरता को मापने के लिए किया जाता है।

iii) सार्वभौमिक परीक्षण मशीन का उपयोग ताकत मापने के लिए किया जाता है।

QUESTION: 63

इनमें से कौन सा कथन सही है?

Solution:

वायु संरोहण का कंक्रीट की संपीड़न शक्ति और इसकी कार्यशीलता पर प्रभाव पड़ता है। वायुरोधी कंक्रीट जल-सीमेंट अनुपात में ज्यादा वृद्धि के बिना कंक्रीट की कार्यशीलता को बढ़ाता है।

कंक्रीट की वांछित संपीड़न शक्ति और कार्यशीलता को एक साथ बनाए रखने के लिए, आम तौर पर उच्च शक्ति कंक्रीट के मामले में, अधिमिश्रण का उपयोग किया जाता है। वायु संरोहण कारक संपीड़न शक्ति में काफी कमी किए बिना कार्यशीलता में वृद्धि करने वाला एक कंक्रीट अधिमिश्रण है।

QUESTION: 64

कंक्रीट के समेकन में कब सुधार किया जा सकता है?

Solution:

समेकन, कंक्रीट स्थापन के दौरान रिक्तियों के निकास द्वारा, आमतौर पर कम्पन द्वारा, अपकेन्द्रीयकरण, छड द्वारा, टेम्पिंग द्वारा अथवा इन सभी विधियों के सयुंक्त रूप से उपयोग द्वारा ताजा मिश्रित कंक्रीट या मसाले में ठोस कणों निकटम रूप से व्यवस्थित करने की प्रक्रिया है। उपरोक्त किसी भी विधि द्वारा स्थापन से पहले इसे संशोधित किया जा सकता है।

QUESTION: 65

निम्नलिखित में से किसकी जलयोजन ऊष्मा सबसे कम है?

Solution:

सभी यौगिकों में से C2S की जलयोजन ऊष्मा सबसे कम है।

QUESTION: 66

कंक्रीट में स्थायित्व की सबसे प्रभावी आवश्यकताओं के विषय में निम्नलिखित में से कौन सा सही है?

Solution:

अल्प पानी सीमेंट अनुपात से कम हुई रिक्तियों के कारण सीमेंट की शक्ति और स्थिरता उच्च होती है। कंक्रीट के इंजीनियरिंग व्यवहार के लिए सीमेंट का प्रकार भी जिम्मेदार है।

QUESTION: 67

वी-बी परीक्षण का परिणाम इस प्रकार व्यक्त किया गया है:-

Solution:

वी-बी कान्सिस्टॉमीटर परीक्षण उस कंक्रीट के लिए प्रयोग किया जाता है जिसकी कार्यशीलता कम होती है, जिसके लिए अवपात 50 mm तक सीमित होता है।

किये गए प्रयासों के समय का माप सेकेंड में किया जाता है। सेकंड में मापे गये कार्य की मात्रा को रिमौल्डिंग प्रयास के रूप में जाना जाता है। पूर्ण रिमौल्डिंग के लिए आवश्यक समय कार्यशीलता का एक माप है और जो वी-बी सेकंड में व्यक्त किया जाता है।

QUESTION: 68

निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

जब स्थापन समय निर्धारित करने के लिए सीमेंट का परीक्षण किया जाता है; मापने पर यह  त्वरित स्थापन दर्शाता है। इस घटना को उच्च _____ की उपस्थिति के कारण सीमेंट के "फ्लैश सेट" के रूप में जाना जाता है।

1. सीमेंट में ट्राइकेलशियम एल्यूमिनेट (C3A)

2. सीमेंट में ट्राइकेलशियम सिलिकेट (C3S)

इनमें से कौन सा कथन सही है?

Solution:

ट्राई -कैल्शियम एल्यूमिनेट पानी के साथ बहुत तेजी से अभिक्रिया करता है और घोल की तत्काल कठोरता का कारण बनता है। इस प्रक्रिया को फ़्लैश सेट के रूप में जाना जाता है। इस तरह की तेज अभिक्रिया को रोकने के लिए जिप्सम को सीमेंट में डाला जाता है।

QUESTION: 69

कठोर मौजूदा कंक्रीट संरचना की ताकत निर्धारित करने के लिए निम्नलिखित में से किसे नियोजित किया जाता है?

Solution:

प्रतिक्षेप हथौड़ा और पराध्वनिक स्पन्द वेग कठोर कंक्रीट के गुणों का आकलन करने के लिए प्रयुक्त दो विधियां हैं।

दोनों परीक्षण गैर विध्वंसक परीक्षण हैं।

QUESTION: 70

निम्नलिखित में से कंक्रीट में कौन सी भूमिका फ्लाई एश नहीं निभाती है?

Solution:

पोर्टलैंड सीमेंट कंक्रीट (PCC) में फ्लाई एश के उपयोग के कई फायदे हैं और ताजा और कठोर दोनों स्थितियों में कंक्रीट प्रदर्शन में सुधार होता है। कंक्रीट में फ्लाई एश का उपयोग प्लास्टिक कंक्रीट की कार्यशीलता में सुधार करता है, और कठोर कंक्रीट की शक्ति और स्थायित्व में सुधार करता है। फ्लाई एश का उपयोग भी लागत प्रभावी है। जब फ्लाई एश कंक्रीट में मिलाया जाता है, तो पोर्टलैंड सीमेंट की मात्रा कम हो जाती है

ताजा कंक्रीट में फ्लाई एश के लाभ:

बेहतर कार्यशीलता: फ्लाई एश के गोलाकार कण कंक्रीट मिश्रण के भीतर लघु बॉल बियरिंग्स के रूप में कार्य करते हैं, इस प्रकार एक स्नेहन प्रभाव प्रदान करते हैं, अर्थात कार्यशीलता में सुधार होता है।

जलयोजन की घटी हुई ऊष्मा: फ्लाई एश को सीमेंट की समान मात्रा में बदलने पर कंक्रीट की जलयोजन की ऊष्मा कम हो सकती है।

पानी की मांग में कमी: फ्लाई एश द्वारा सीमेंट को प्रतिस्थापित करने पर दिए गए अवपात के लिए पानी की मांग कम हो जाती है। जब कुल सीमेंट के लगभग 20 प्रतिशत पर फ्लाई एश का उपयोग किया जाता है, तो पानी की मांग लगभग 10 प्रतिशत तक कम हो जाती है।

कठोर कंक्रीट में फ्लाई एश के लाभ:

संशोधित परम शक्ति: उपलब्ध चूने के साथ फ्लाई एश की अभिक्रिया द्वारा उत्पादित अतिरिक्त आबंध समय के साथ शक्ति प्राप्त करने के लिए फ्लाई एश कंक्रीट की अनुमति देता है।

घटी हुई पारगम्यता: अतिरिक्त सीमेंट यौगिकों के उत्पादन के साथ पानी की मात्रा में कमी कंक्रीट की छिद्र की अंतःक्रियाशीलता को कम करती है, इस प्रकार पारगम्यता में कमी आती है।

बेहतर स्थायित्व: स्वतंत्र चूने में कमी और सीमेंट यौगिकों में परिणामी वृद्धि, पारगम्यता में कमी के साथ कंक्रीट के स्थायित्व में वृद्धि करती है।

नोट: कंक्रीट में फ्लाई एश के मिलाने से हाइड्रेशन के लिए उपलब्ध कंक्रीट में कमी आएगी, इस प्रकार यह कंक्रीट की शक्ति प्राप्ति को कम कर देता है।

QUESTION: 71

गलत कथन का चुनाव कीजिये?

Solution:

रेत का स्थूलन: नमी सामग्री में वृद्धि के कारण  रेत की मात्रा में वृद्धि रेत स्थूलन के रूप में जानी जाती है। पानी की एक परत रेत कणों के चारों ओर बनती है जो कणों को एक-दूसरे से दूर कर देती है जिसके फलस्वरूप मात्रा में वृद्धि होती है।

रेत का स्थूलन 4.6% नमी सामग्री पर अधिकतम होता  है।

रेत में नमी के पांच से आठ प्रतिशत की वृद्धि में रेत की मात्रा में 20 से 40 प्रतिशत तक की वृद्धि की जा सकती है।

कंक्रीट बनाने के लिए सामग्री के मापन को बैचिंग के रूप में जाना जाता है। आम तौर पर कंक्रीट की बैचिंग दो तरीकों से की जाती है:

i) आयतन बैचिंग

ii) भार बैचिंग

आयतन बैचिंग, बैचिंग का आदर्श तरीका नहीं है। गीली रेत का आयतन समान भार वाली शुष्क रेत से अधिक होता है। इसे रेत का स्थूलन कहा जाता है। इसलिए, यह आवश्यक गणना की गई मात्रा को अव्यवस्थित कर देता है। अतः, यही कारण है कि आयतन बैचिंग के दौरान रेत के स्थूलन प्रभाव पर विचार करना महत्वपूर्ण है।

QUESTION: 72

कंक्रीट के निर्माण में कितने अवयवों का उपयोग किया जाता है?

Solution:

कंक्रीट के निर्माण में चार अवयवों का उपयोग किया जाता है:

i) सीमेंट

ii) रेत

iii) समुच्चय

iv) जल

QUESTION: 73

कंक्रीट उत्पादन में शामिल संचालन का सही क्रम क्या है?

Solution:

प्रचयन विशेषतः भार विधि द्वारा किया जाता है और कंक्रीट उत्पादन में शामिल संचालन का सही क्रम इस प्रकार है:

i) प्रचयन

ii) मिश्रण

iii) लादन

iv) परिवहन

नोट: प्रचयन वह प्रक्रिया है, जिसमें सीमेंट, समुच्चय, जल इत्यादि जैसी सामग्री या मात्रा का अनुपात कंक्रीट मिश्रण तैयार करने के लिए भार या मात्रा के आधार पर मापा जाता है।

QUESTION: 74

पृथक्करण का जोखिम किसके लिए अधिक है:

Solution:

आर्द्र मिश्रण में चूँकि पानी की मात्रा अधिक है अतः पृथक्करण की संभावना भी अधिक है। यदि अधिकतम आकार समुच्चय या मोटी पिसाई का बड़ा अनुपात है, तो पृथक्करण हो सकता है।

QUESTION: 75

समुच्चय को दीर्घीकृत कहा जाता है, यदि इसकी लम्बाई _____ है।

Solution:

समुच्चय को दीर्घीकृत तब माना जाएगा यदि इसकी बड़ी लम्बाई इसके औसत विमा से 9/5 गुणा अधिक हो।दीर्घीकृत समुच्चय फुटपाथ डिज़ाइन के लिए अनुपयुक्त हैं। दीर्घीकृत समुच्चय को लम्बाई गेजसे मापा जा सकता है।

QUESTION: 76

सूक्षमता मापांक है:

Solution:

समुच्चय का सूक्षमता मापांक एक सूचकांक संख्या द्वारा समुच्चय में कणों के औसत आकार का प्रतिनिधित्व करता है। इसकी गणना मानक छलनी के साथ छलनी विश्लेषण द्वारा की जाती है। सूक्षमता मापांक का उपयोग आमतौर यह पता लगाने के लिए किया जाता है, कि समुच्चय कितना मोटा अथवा महीन है।

सूक्षमता मापांक का अधिक मान इंगित करता है, कि समुच्चय मोटा है और इसका का काम मान यह दर्शाता है कि समुच्चय महीन है।

QUESTION: 77

सम्मुच्चय के संघर्षण के प्रतिरोध को किस प्रकार जाना जाता है?

Solution:

​घर्षण प्रतिरोध का उपयोग समुच्चय की कठोरता के गुण को मापने के लिए किया जाता है एवं यह निर्धारित करने के लिए किया जाता है की वह विभिन्न फुटपाथ निर्माण कार्यों के लिए उपयुक्त हैं या नहीं। लॉस एंजिलस घर्षण परीक्षण कठोरता गुण मापने के लिए एक पसंदीदा परिक्षण है और भारत में मानकीकृत किया गया है (IS: 2386 भाग -IV)। लॉस एंजिलस घर्षण परीक्षण का उपयोग समुच्चय और इस्पात बॉल जो घर्षण आवेश के रूप में होती है, के बीच सापेक्ष घर्षण के कारण संघर्षण प्रतिशत को मापने के लिए किया जाता है​।

QUESTION: 78

2.6 के सूक्ष्मता मापांक के समुच्चय को 6.8 के सूक्ष्मता मापांक के मोटे समुच्चय को मिलाकर 5.4 का सयुंक्त सूक्ष्मता मापांक प्राप्त करने के लिए सूक्ष्मता मापांक की प्रतिशत क्या होगी?

Solution:

सूक्ष्मता मापांक की प्रतिशत इस प्रकार होगी:

QUESTION: 79

IS 456:1978 के अनुसार डिज़ाइन उद्देश्यों के लिए फ्लेक्सुर में पतन पर अपनी विशेष शक्ति और कंक्रीट में तनाव के बीच का अनुपात क्या लिया जाता है?

Solution:

IS 456:1978 के अनुसार,

संरचनाओं में कंक्रीट की संपीडन शक्ति को इसकी विशेष शक्ति के 0.67 गुना माना जाएगा। 1.5 के आंशिक सुरक्षा कारक को इसके अतिरिक्त लागू किया जाएगा।

अनुपात = पतन के समय कंक्रीट में तनाव/कंक्रीट की विशेष शक्ति

QUESTION: 80

कंक्रीट के तन्य क्षेत्रों में सुदृढीकरण के रूप में  मृदु इस्पात छड़ों को चुनने का कारण क्या है?

Solution:

कंक्रीट के तन्य क्षेत्रों में सुदृढीकरण के रूप में  मृदु इस्पात छड़ों को चुनने का कारण ​रैखिक विस्तार का गुणांक कंक्रीट के समान है क्योंकि कंक्रीट और इस्पात का अपरूपण उपयुक्त आबंध के लिए सही होना चाहिए।

QUESTION: 81

दो-तरफे स्लैब को इस प्रकार से डिज़ाइन किया गया है कि, वह किनारों पर सरल रूप से समर्थित है और कोनों को ऊपर उठाने से रोकने के लिए इसमें कोई प्रावधान नहीं है, यह किस के द्वरा बनाया जाता है?

Solution:

दो-तरफे स्लैब को इस प्रकार से डिज़ाइन किया गया है कि, वह किनारों पर सरल रूप से समर्थित है और कोनों को ऊपर उठाने से रोकने के लिए इसमें कोई प्रावधान नहीं है, इसे रैंकिन ग्रासहॉफ सूत्र द्वारा बनाया जाता है।

QUESTION: 82

स्लैब में न्यूनतम सुदृढीकरण (मृदु बार के मामले में) का मान क्या है?

Solution:

QUESTION: 83

एकल प्रबलित अनुभाग के लिए IS 456:2000 के संदर्भ में सही विकल्प चुनिए?

Solution:
QUESTION: 84

एक लिंटेल पर लोड समान रूप से वितरित माना जाता है, यदि इसके ऊपर स्थित चिनाई की ऊंचाई, इस ऊंचाई पर है।

Solution:

लिंटेल एक क्षैतिज सदस्य होता है जो दरवाजे, खिड़कियों आदि जैसे ओपनिंग पर स्थापित किया जाता है। यह इसके ऊपर स्थित अधिरचना के भार का वहां करता है और आधार प्रदान करता है।

लिंटेल को डिजाइन करते समय, यह माना जाता है कि लिंटेल पर भार समान रूप से वितरित है, यदि इसके ऊपर स्थित चिनाई, प्रभावी अवधि के 1.25 गुना की ऊंचाई पर स्थित है।

QUESTION: 85

यदि नाममात्र अपरूपण तनाव कंक्रीट की डिज़ाइन अपरूपण शक्ति से कम है, तो:

Solution:

निम्नलिखित के लिए न्यूनतम अपरूपण सुदृढीकरण प्रदान किया जाता है:

(i) यदि कंक्रीट अस्तर फट जाता है और तनाव इस्पात का आबंध नष्ट हो जाता है,तो बीम की अकस्माक विफलता को रोकने के लिए

(ii) भंगुर अपरूपण विफलता को रोकने के लिए,जो बिना अपरूपण सुदृढीकरण के हुई हो

(iii) संकोचन, तापीय तनाव और बीम में आंतरिक दरारों के कारण हुई तनाव विफलता को रोकने के लिए

(iv) जिस स्थान पर कंक्रीट डाला गया है वहां पर सुदृढीकरण को रोके रखने के लिए

(v) संपीड़न इस्पात के बराबरी के प्रभाव के साथ अनुभाग प्रभावशाली हो जाता है

QUESTION: 86

एक कैंटिलीवर बीम की अवधि 3.5 मीटर है। विक्षेपण मानदंडों के अनुसार बीम की प्रभावी गहराई कितनी होनी चाहिए?

Solution:

विक्षेपण आवश्यकताओं के लिए:

तीन विभिन्न समर्थन स्थितियों के लिए, प्रभावी गहराई से अवधि के अनुपात के विभिन्न आधारभूत मान 10 मीटर तक की अवधि के लिए निर्धारित हैं, जिन्हें किसी भी या सभी चार विभिन्न स्थितियों के तहत संशोधित किया जाना चाहिए: (i) 10 मीटर से ऊपर की अवधि के लिए, (ii) तनाव इस्पात सुदृढ़ीकरण की मात्रा और प्रतिबल पर निर्भर करते हुए, (iii) संपीड़न सुदृढ़ीकरण की मात्रा और (iv) फ्लैंज किए हुए बीम पर निर्भर करता है।

तो, इस स्थिति में: अवधि / प्रभावी गहराई (d) = 7

d= 3500/7= 500 mm

QUESTION: 87

एक तनित सामग्री में एक बिंदु पर, x-दिशा में लम्बवत तनाव 120 N/mm2 है और  y-दिशा में लम्बवत तनाव 80 N/mmहै। एक समतल में 30° पर 120 N/mmके समतल का लम्बवत तनाव कितना होगा?

Solution:
QUESTION: 88

यंग का प्रत्यास्थता गुणांक निम्न में से किसके अनुपात के रूप में परिभाषित किया गया है?

Solution:

यंग का प्रयास्थ्ता गुणांक लम्बवत तनाव और लम्बवत विकृति का अनुपात होता है।

अपरूपण गुणांक या दृढ़ता गुणांक अपरूपण तनाव और अपरूपण विकृति का अनुपात होता है।

प्वासों अनुपात (Possion's ratio) पार्श्व विकृति और लम्बवत तनाव का अनुपात होता है।

प्रत्यास्थता का आयतन प्रत्यास्थता गुणांक आयतनीय तनाव और आयतनीय विकृति का अनुपात होता है।

QUESTION: 89

अवधि L वाला एक सरल समर्थित बीम AB, छोर A से दूरी a पर बाह्य आघूर्ण M के अधीन है, तो प्रतिक्रियाएं ​RA और Rज्ञात करें​।

Solution:
QUESTION: 90

एक निकाय N घूर्णन प्रति मिनट पर T N - m बलाघूर्ण का संचारण करता है, तो संचारित शक्ति (वाट में) क्या होगी?

Solution:

शक्ति को काम की दर के रूप में परिभाषित किया जाता है।

QUESTION: 91

शाफ़्ट A का व्यास d है और शाफ़्ट B का व्यास 2d है। खंड B से खंड A के ध्रुवीय मापांक का अनुपात _______ होगा।

Solution:


QUESTION: 92

अवधि L का एक प्रेरित केंटिलीवर छोर A पर स्थिर है और छोर B पर सरल समर्थित है। मध्यअवधि पर केन्द्रित भार W के कारण B पर प्रतिक्रिया क्या होगी?

Solution:
QUESTION: 93

निचे दिखाए गए बीम के लिए हिन्ज का विक्षेपण क्या होगा? (EI = स्थिरांक)

Solution:
QUESTION: 94

यंग के मापांक E और संदलन सामर्थ्य fc वाले स्तम्भ के लिए युलर के सिद्धांत को लागु करने के लिए सिमित क्षीणता अनुपात ज्ञात करें।

Solution:

यूलर के सिद्धांत के अनुसार, क्रांतिक भार,

जहाँ, A = अनुप्रस्थ-काट क्षेत्रफल


QUESTION: 95

एक परवलयिक आर्च में भिन्न स्तर पर A और B स्प्रिंग हिन्ज दिए हुए हैं। A से शीर्ष बिंदु C की ऊंचाई h1 है और B से h2 है। यदि अवधि L ​है, ​AC की क्षैतिज दूरी _______ है​।

Solution:
QUESTION: 96

सामान्यरूप से द्वि-आयामी तनावग्रस्त तत्व में, सामान्य तनाव px = 120 N/mm2, py = 80 N/mmहैं और अपरूपण तनाव ​15 N/mmहै​। ​अधिकतम अपरूपण तनाव ______ है​।

Solution:

अधिकतम अपरूपण तनाव,

QUESTION: 97

एक इस्पात ट्यूब में पीतल की एक छड़ संलग्न है और दोनों सिरों पर मजबूती से बाँध दी गई है। यदि पीतल का तापीय विस्तार गुणांक इस्पात की तुलना में अधिक है, जब तापमान बढ़ता है तब उत्पन्न हुए तनाव की प्रकृति कैसी होगी?

Solution:
QUESTION: 98

5 m की केन्द्रीय वृद्धि के साथ 25 m की अवधि का गोलाकार आर्च शीर्ष और स्प्रिन्गिंग पर हिन्ज किया जाता है। यह बाएं समर्थन से 5 m पर 100 kN के बिंदु भार का वहन करता है। इस स्थिति में क्षैतिज थ्रस्ट क्या होगा?

Solution:
QUESTION: 99

नीचे दिए गए पोर्टल फ्रेम में सदस्य BA का वितरण कारक क्या है?​

Solution:


QUESTION: 100

नीचे दिखाए गए बीम के लिए गतिकी अनिश्चितता का परिमाण क्या है? (लिंक पर कोई भारण नहीं है)

Solution:

गतिकी अनिश्चितता का परिमाण इस प्रकार दिया गया है:

Dk = 3j - r+ r- nr

जहाँ,

j = जोड़ों की संख्या

re = बाहरी समर्थन प्रतिक्रियाएं

rr = मुक्त प्रतिक्रियाएं

= 3 x 5 – 5 + 2 – 4 = 8

Use Code STAYHOME200 and get INR 200 additional OFF
Use Coupon Code

Download free EduRev App

Track your progress, build streaks, highlight & save important lessons and more!

Related tests