Test: Environmental Engineering- 2


Test Description

20 Questions MCQ Test Mock Test Series of SSC JE Civil Engineering (Hindi) | Test: Environmental Engineering- 2

Test: Environmental Engineering- 2 for Civil Engineering (CE) 2022 is part of Mock Test Series of SSC JE Civil Engineering (Hindi) preparation. The Test: Environmental Engineering- 2 questions and answers have been prepared according to the Civil Engineering (CE) exam syllabus.The Test: Environmental Engineering- 2 MCQs are made for Civil Engineering (CE) 2022 Exam. Find important definitions, questions, notes, meanings, examples, exercises, MCQs and online tests for Test: Environmental Engineering- 2 below.
Solutions of Test: Environmental Engineering- 2 questions in English are available as part of our Mock Test Series of SSC JE Civil Engineering (Hindi) for Civil Engineering (CE) & Test: Environmental Engineering- 2 solutions in Hindi for Mock Test Series of SSC JE Civil Engineering (Hindi) course. Download more important topics, notes, lectures and mock test series for Civil Engineering (CE) Exam by signing up for free. Attempt Test: Environmental Engineering- 2 | 20 questions in 12 minutes | Mock test for Civil Engineering (CE) preparation | Free important questions MCQ to study Mock Test Series of SSC JE Civil Engineering (Hindi) for Civil Engineering (CE) Exam | Download free PDF with solutions
1 Crore+ students have signed up on EduRev. Have you?
Test: Environmental Engineering- 2 - Question 1

सीवेज में नाइट्रेट का पता लगाने के लिए, मिलान रंग क्या मिलाकर प्राप्त किया जाता है?

Detailed Solution for Test: Environmental Engineering- 2 - Question 1

सीवेज नमूने में मौजूद नाइट्राइट या नाइट्रेट की मात्रा रंग मिलान विधि द्वारा मापी जा सकती है।

नाइट्राइट के लिए रंग, सल्फोनिलिक अम्ल और नेफ्थामाइन मिलाकर विकसित किया जाता है जबकि नाइट्रेट के लिए रंग, फेनोल-डी-सल्फोनिक अम्ल और पोटेशियम हाइड्रॉक्साइड मिलकर विकसित किया जाता है। अपशिष्ट जल में विकसित रंग अंततः ज्ञात सांद्रता के मानक रंगों से तुलना किये जाते है।

Test: Environmental Engineering- 2 - Question 2

क्लोरीन की कीटाणुनाशन दक्षता ________ द्वारा बढ़ाई जाती है।

i) संपर्क के समय में कमी

ii) पानी के तापमान में कमी

iii) पानी के तापमान में वृद्धि

सही उत्तर है-

Detailed Solution for Test: Environmental Engineering- 2 - Question 2

कम तापमान पर, जीवाणु नाशन दर धीमी हो जाती है और उच्च मात्रा की आवश्यकता होती है। स्वतंत्र उपलब्ध क्लोरीन के मुकाबले संयुक्त क्लोरीन के साथ कम तापमान का प्रभाव अधिक होता है।

जल उपचार क्लोरिनेशन की दक्षता निर्धारित करने में क्लोरीन की मात्रा के साथ साथ संपर्क समय भी महत्वपूर्ण है। पानी में मौजूद सूक्ष्मजीवों के साथ अभिक्रिया करने के लिए क्लोरिन द्वारा लिए गए समय को संपर्क समय कहा जाता है, जो उस समय के बराबर होगा जब, क्लोरीन पानी में मिलाया जाता है और जब उपभोक्ता द्वारा उस पानी का उपयोग किया जाता है। सम्पर्क समय जितना लम्बा होगा, कीटाणुनाशन प्रक्रिया भी उतनी ही कार्यक्षम होगी। कीटाणुनाशन के लिए क्लोरीन का उपयोग करते समय पर्याप्त कीटाणुनाशन के लिए 30 मिनट का न्यूनतम संपर्क समय आवश्यक होता है।

Test: Environmental Engineering- 2 - Question 3

संकेन्द्रण समय इस प्रकार परिभाषित किया गया है:

Detailed Solution for Test: Environmental Engineering- 2 - Question 3

वह अवधि जिसके बाद जलग्रह क्षेत्र अपवाह में बदलना शुरू हो जाए उसे संकेन्द्रण समय कहा जाता है। संकेन्द्रण समय अपवाह (Tc) द्वारा जल विभाजक के हाइड्रोलिक रूप से सबसे दूरस्थ बिंदु से निकास द्वारा तक की दूरी तय करने में लिया गया समय है। संकेन्द्रण समय प्रवेशिका समय और दूरी तय करने में लिए गए समय का योग है।

सीवर में,

प्रवेशिका समय = वर्षा के पानी द्वारा जल विभाजक के सबसे दूरस्थ बिंदु से सीवर के प्रवेशिका तक दूरी तय करने में लिया गया समय

यात्रा का समय = सीवर के पानी का किसी निश्चित किये गए बिंदु तक दूरी तय करने में लिया गया समय

Test: Environmental Engineering- 2 - Question 4

एक सक्रिय कार्बन विशेष रूप से उपचारित कार्बन है जिसमे अशुद्धियों को अवशोषित और आकर्षित करने का गुण है। निम्नलिखित में से कौन सा सक्रिय कार्बन का गुणधर्म नहीं है?

A. यह गर्म पानी की क्लोरीन की मांग को कम करता है

B. यह स्‍कंदन को तेज करता है

C. इसकी अधिक मात्रा हानिकारक है

Detailed Solution for Test: Environmental Engineering- 2 - Question 4

सक्रिय कार्बन के लाभ:

i) इसके अवशोषक गुण के कारण यह स्वाद, रंग और गंध को हटा देता है

ii) यह फिनोल प्रकार की अशुद्धता को हटा देता है

iii) जब स्कंदक में उपयोग किया जाता है, तो यह स्कंदन में सहायता करता है

iv) यह पानी की क्लोरीन की मांग को कम कर देता है क्योंकि सक्रिय कार्बन द्वारा निकाले गए जैविक पदार्थ को ऑक्सीकृत करने के लिए क्लोरीन की कुछ मात्रा का उपयोग किया जाता है

v) इसकी अधिक मात्रा हानिकारक नहीं है

Test: Environmental Engineering- 2 - Question 5

निम्नलिखित फ़िल्टरों में से कौन सा गुरुत्वाकर्षण फ़िल्टर हैं:

Detailed Solution for Test: Environmental Engineering- 2 - Question 5

फ़िल्टर मूल रूप से गुरुत्वाकर्षण फिल्टर और दबाव फ़िल्टर के रूप में वर्गीकृत किये जाते हैं।

गुरुत्वाकर्षण फिल्टर में, मिट्टी के माध्यम से गुजरने वाला शीर्ष, मिट्टी माध्यम के जल शीर्ष द्वारा प्रदान किया जाता है, लेकिन दबाव निस्पंदन में, आवश्यक शीर्ष बाहर से लगने वाले दाब द्वारा प्रदान किया जाता है।

धीमी रेत फिल्टर और तीव्र रेत फ़िल्टर गुरुत्वाकर्षण फिल्टर के उदाहरण हैं।

नोट: धीमी रेत फ़िल्टर की तीव्र रेत फ़िल्टर की तुलना में अधिक अशुद्धि प्रतिशत हटाता है लेकिन तीव्र रेत फ़िल्टर की फ़िल्टर करने की दर धीमी रेत फ़िल्टर की तुलना में अधिक है।

Test: Environmental Engineering- 2 - Question 6

अनाक्सिकरण स्थिरांक के लिए उपयुक्त व्यंजक का चुनाव कीजिये:

Detailed Solution for Test: Environmental Engineering- 2 - Question 6

अनाक्सिकरण स्थिरांक (KD) इस प्रकार होता है:

T= oC में अपशिष्ट जल का तापमान

Test: Environmental Engineering- 2 - Question 7

समय में वृद्धि के साथ, खुले वातावरण में ताजा स्थिर अपशिष्ट जल की क्षारीयता:

Detailed Solution for Test: Environmental Engineering- 2 - Question 7

ताजा अपशिष्ट जल नमूने की क्षारीयता, क्षारीय है लेकिन समय बीतने के बाद यह अवायवीय या नाइट्रीकरण प्रक्रिया में जीवाणु क्रिया के कारण अम्लीय हो जाती है। जैसे ही समय बीतता जाता है, जैविक गतिविधि बढ़ जाती है जिसके कारण H+ आयनों (अम्लता का मुख्य कारण) को बढ़ा देती है जिससे अपशिष्ट जल की क्षारीयता में कमी आती है।

Test: Environmental Engineering- 2 - Question 8

यदि सीवेज प्रदूषण का निपटान करने के लिए आवश्यक तनुकरण कारक 200 है, तो नदी में इसे निपटाने से पहले निम्नलिखित उपचारों में से कौन सा उपचार आवश्यक है:

Detailed Solution for Test: Environmental Engineering- 2 - Question 8

नदियों में अपशिष्ट जल निकासी के लिए तनुकरण के मानक:

Test: Environmental Engineering- 2 - Question 9

किसी अपशिष्ट कचरे का BOD5 170 mg/L है एवं इसका प्रवाह 2000 घन मीटर प्रति दिन है। यदि घरेलू सीवर का BOD 80 ग्राम/व्यक्ति/दिन है। तो अपशिष्ट का जनसंख्या तुल्यांक क्या होगा?

Detailed Solution for Test: Environmental Engineering- 2 - Question 9

जनसंख्या तुल्यांक इस प्रकार होगा-

PE = (किलोग्राम/दिन) में कुल BOD/ घरेलू सीवर अवशिष्ट

 = 340000 ग्राम/दिन

Test: Environmental Engineering- 2 - Question 10

पाइप जोड़ों में या पाइपलाइन में किसी भी बिंदु पर रिसाव का परीक्षण _______ द्वारा किया जाता है।

Detailed Solution for Test: Environmental Engineering- 2 - Question 10

पाइप जोड़ों में या पाइपलाइन में किसी भी बिंदु पर रिसाव का परीक्षण दो तरीकों से किया जाता है:

1) जल परीक्षण: यह परीक्षण दो मैनहोल के बीच किया जाता है। इस विधि में सीवर पूरी तरह से भरने तक पानी को ऊपरी मैनहोल से सीवर लाइन में बहने दिया जाता है।

फिर, ऊपरी मैनहोल में पानी की गहराई को सीवर लाइन के ऊपर 1 मीटर तक बढ़ाया जाता है और किसी भी स्वेदन अवलोकन कर के रिसाव का पता लगाने के लिए निरीक्षण किया जाता है।

2) वायु परीक्षण: यह परीक्षण बड़े व्यास सीवर के लिए किया जाता है। इस विधि में दबाव गेज का उपयोग इसके अनुमत मान के साथ दबाव पात को मापने के लिए किया जाता है, यदि पाइप लाइन में दबाव पात अनुमत मान से नीचे है, तो यह रिसाव का संकेत है। साबुन विलयन लगाकर रिसाव का पता लगाया जाता है, जो रिसाव के बिंदु पर बुलबुले दिखाएगा।

Test: Environmental Engineering- 2 - Question 11

एक पारिस्थितिक तंत्र में कार्बनिक पदार्थ में टूटने वाले जीवों को क्या कहा जाता है?

Detailed Solution for Test: Environmental Engineering- 2 - Question 11

विघटन करने वाले जीव वो जीव हैं जो मृत या क्षय होने वाले जीवों का अपघटन करते हैं, और ऐसा करने में, वे अपघटन की प्राकृतिक प्रक्रिया को पूरा करते हैं। शाकाहारी और हिंसक जानवर की तरह, विघटन करने वाले परपोषी होते हैं, जिसका अर्थ है कि वे विकास और वृद्धि के लिए अपनी ऊर्जा, कार्बन और पोषक तत्व प्राप्त करने के लिए कार्बनिक सबस्ट्रेट का उपयोग करते हैं। 

Test: Environmental Engineering- 2 - Question 12

जल आपूर्ति वितरण प्रणाली में संतुलित कुण्ड प्रदान करने का उद्देश्य क्या है?

Detailed Solution for Test: Environmental Engineering- 2 - Question 12

कुंड की दो मुख्य श्रेणियां हैं: (a) कुंडों को बाड़े में बंद करना जिसमे एक नदी प्राकृतिक रूप से बहती है, और (b) उन कुंडो की मरम्मत या संतुलन करना जिनको कृत्रिम रूप से पम्प किया जाता है अथवा अथवा बनाया जाता हैआम तौर पर, मांग के साथ आपूर्ति को संतुलित करने के लिए सेवा या संतुलन कुंडों की आवश्यकता होती है। ये कुंड आयतन में अपेक्षाकृत कम हैं क्योंकि उनके द्वारा आवश्यक भंडारण कुछ घंटों या कुछ दिनों के लिए प्रवाह को संतुलित करने के लिए किया जाता है। गैर-बाढ़ महीनों के दौरान उपयोग के लिए नदी के बाढ़ प्रवाह के एक हिस्से को जमा करने या भंडारण कुंड का उद्देश्य है।

Test: Environmental Engineering- 2 - Question 13

एक अपशिष्ट जल नमूने में 25°C पर 10-5.6 mmol/L  OH- आयन है। इस नमूने का pH मान कितना होगा? 

Detailed Solution for Test: Environmental Engineering- 2 - Question 13

pOH = -log [OH-]

pOH = -log (10-5.6 × 10-3)

pOH = -log (10-8.6)

pOH = 8.6

परन्तु, pH + pOH = 14

pH =14 – 8.6

pH = 5.4

Test: Environmental Engineering- 2 - Question 14

यदि पानी के नमूने की कुल कठोरता और क्षारीयता क्रमशः 400mg/L, CaCO3 के रूप में और 250 mg/L, CaCO3   के रूप में है, तो कार्बोनेट कठोरता और गैर-कार्बोनेट कठोरता के मान क्या हैं?

Detailed Solution for Test: Environmental Engineering- 2 - Question 14

कार्बोनेट कठोरता क्षारीयता और कुल कठोरता से कम होती है।

इसलिए कार्बोनेट कठोरता = 250 mg/l और गैर कार्बोनेट कठोरता = 400-250 = 150 mg/l

Test: Environmental Engineering- 2 - Question 15

एक गहरी ट्यूबवेल से पानी को दिया जाने उपचार है-

Detailed Solution for Test: Environmental Engineering- 2 - Question 15

1.ट्यूबवेल का पानी ठोस से मुक्त होता है।

2. छिद्रों में से रिसन होने के बाद जल 

 माध्यम से गुजरने के बाद जल गहरे ट्यूबवेल में पहुँचता है। इसलिए इसमें कम निलंबित कण होते हैं, लेकिन इसमें रोगजनक हो सकते हैं इसलिए विसंक्रमण की आवश्यकता होती है।

Test: Environmental Engineering- 2 - Question 16

फोटोकैमिकल अभिक्रिया के कारण निम्नलिखित में से कौन से प्रदूषक या प्रदूषक युग्म का निर्माण हुआ है?

Detailed Solution for Test: Environmental Engineering- 2 - Question 16

फोटोकैमिकल धुआं तब उत्पन्न होता है जब जीवाश्म ईंधन के दहन से प्रदूषक सूर्य की रोशनी के साथ अभिक्रिया करते हैं। सूर्य की रोशनी की ऊर्जा प्रदूषक को अन्य जहरीले रसायनों में परिवर्तित करती है। फोटोकैमिकल धुआं बनाने के लिए, वायु में अन्य प्रदूषक होने चाहिए, विशेष रूप से नाइट्रस ऑक्साइड और अन्य अस्थिर कार्बनिक यौगिकों (VOCs)। जब नाइट्रस ऑक्साइड और VOCs सूर्य की रोशनी के साथ सम्पर्क में आते हैं, तो ओजोन और पेरोक्सीसिटाइल नाइट्रेट जैसे गौण प्रदूषक बनते हैं।

Test: Environmental Engineering- 2 - Question 17

प्लास्टिक और रबर कचरे के निपटान के लिए निम्न में से कौन सी विधियां सबसे उपयुक्त है?

Detailed Solution for Test: Environmental Engineering- 2 - Question 17

तापांशन ऑक्सीजन की अनुपस्थिति में उच्च तापमान पर कार्बनिक पदार्थ का तापरसायन अपघटन है। निर्जलीय तापांशन का इस्तेमाल प्लास्टिक कचरे से डीजल के समान तरल ईंधन का उत्पादन किया जा सकता है, जिसमें पारंपरिक डीजल की तुलना में उच्च सिटेन मान और अल्प सल्फर सामग्री होती है।

खाद बनाना एक प्राकृतिक जैविक प्रक्रिया है, जिसे नियंत्रित वायवीय स्थितियों (ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है) के अंतर्गत किया जाता है। इस प्रक्रिया में, बैक्टीरिया और कवक सहित विभिन्न सूक्ष्मजीव, कार्बनिक पदार्थ को सरल पदार्थों में तोड़ देते हैं। खाद निर्माण प्रक्रिया की प्रभावशीलता कंपोस्टिंग तंत्र यानी ऑक्सीजन, तापमान, नमी, सामग्री में अस्थिरता, जैविक पदार्थ और सूक्ष्मजीव संदूषण आबादी के आकार और गतिविधि के भीतर मौजूद पर्यावरणीय परिस्थितियों पर निर्भर है।

दहन एक अपशिष्ट उपचार प्रक्रिया है जिसमें अपशिष्ट पदार्थों में कार्बनिक पदार्थों का दहन शामिल होता है। अपशिष्ट पदार्थों का जलन कचरे को राख, फ्लाई गैस और ऊष्मा में परिवर्तित करता है।

गड्ढों की भराई ऐसे स्थान हैं जहां पर्यावरण से अपशिष्ट अलग किया जाता है जब तक कि यह सुरक्षित न हो। इसे सुरक्षित तब माना जाता है जब इनका जैविक, रासायनिक और भौतिक रूप से पूरी तरह निम्‍नीकृत कर दिया गया हो 

Test: Environmental Engineering- 2 - Question 18

यदि पानी के नमूने की कुल कठोरता और क्षारीयता क्रमशः 200 mg/L, CaCO3 के रूप में और 260 mg/L, CaCO3   के रूप में है, तो कार्बोनेट कठोरता और गैर-कार्बोनेट कठोरता के मान क्या हैं?

Test: Environmental Engineering- 2 - Question 19

'वायु बंधन' ______ में होता है।

Detailed Solution for Test: Environmental Engineering- 2 - Question 19

जल से मुक्त हवा की उपस्थिति के कारण निस्पंदक का अवरुद्धन करना । निस्पंदक माध्यम में प्रवेश करने वाली वायु निस्पंदन और प्रतिक्षिप्त प्रक्रिया दोनों के लिए हानिकारक है। ऐसा तब होता है जब निस्पंदक माध्यम द्वारा प्रदान किए गए प्रतिरोध के कारण ऋणात्मक शीर्ष उच्च हो जाता है और निर्वात गैसों को विघटित कर देता है 

Test: Environmental Engineering- 2 - Question 20

पानी की स्थायी कठोरता को किस प्रकार हटाया जा सकता है?

Detailed Solution for Test: Environmental Engineering- 2 - Question 20

जल शीतलन के लिए जिओलाइट प्रक्रिया इस कारण से व्यावसायिक सफल बन गई है क्योंकि  जिओलाइट को आसानी से फिर से उत्पन्न किया जा सकता है। जब Ca2+ और Mg2+  आयनों में कठोर पानी होता है एवं सोडियम जिओलाइट आधार से गुजरता है, सोडियम आयन कैल्शियम और मैग्नीशियम आयनों द्वारा प्रतिस्थापित हो जाते है। जिओलाइट प्रक्रिया पानी से स्थायी कठोरता को हटाने के लिए सबसे अच्छी प्रक्रिया है।

नोट: अस्थायी कठोरता को जल उबालकर भी हटाया जा सकता है।  

Use Code STAYHOME200 and get INR 200 additional OFF
Use Coupon Code
Information about Test: Environmental Engineering- 2 Page
In this test you can find the Exam questions for Test: Environmental Engineering- 2 solved & explained in the simplest way possible. Besides giving Questions and answers for Test: Environmental Engineering- 2, EduRev gives you an ample number of Online tests for practice