Test: Surveying- 2


20 Questions MCQ Test Mock Test Series of SSC JE Civil Engineering (Hindi) | Test: Surveying- 2


Description
Attempt Test: Surveying- 2 | 20 questions in 12 minutes | Mock test for Civil Engineering (CE) preparation | Free important questions MCQ to study Mock Test Series of SSC JE Civil Engineering (Hindi) for Civil Engineering (CE) Exam | Download free PDF with solutions
QUESTION: 1

किसी स्थान पर वास्तविक मेरिडियन और चुंबकीय के बीच क्षैतिज कोण को __________कहा जाता है।

Solution:

अवनति: वास्तविक मेरिडियन और चुंबकीय के बीच क्षैतिज कोण को अवनति कहा जाता है।

स्थानिक आकर्षण: स्थानिक आकर्षण वह घटना है जिसके द्वारा चुंबकीय सुई को लगातार एक स्थान पर चुंबकीय उत्तर दिशा की तरफ इंगित करने से रोका जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि ये चुंबकीय दिशा सूचक अन्य चुंबकीय वस्तुओं जैसे कि बिजली की तारें, रेल, इस्पात और लौह संरचनाएं, इस्पात टेप इत्यादि से प्रभावित होता है।

चुंबकीय असर: वह क्षैतिज कोण जो एक रेखा चुंबकीय मेरिडियन के साथ बनाती है और जिसे चुंबकीय उत्तर रेखा से मापा जाता है उसे चुंबकीय असर कहा जाता है। यह समय के साथ बदलता है। एक रेखा के चुंबकीय मेरिडियन क्षेत्र में प्रिज्म दिशा सूचक का उपयोग करके मापा जा सकता है।

दिगंश: एक रेखा का दिगंश भौगोलिक या वास्तविक मेरिडियन से दक्षिणावर्त मापा गया क्षैतिज कोण है।

QUESTION: 2

समतल तालिका का सिद्धांत क्या है?

Solution:

समतल तालिका सर्वेक्षण, सर्वेक्षण का एक आलेखीय विधि है जिसमें क्षेत्र का अवलोकन और आलेखन एक साथ किया जाता है। समतल तालिका सर्वेक्षण इस सिद्धांत पर आधारित है कि आलेखन के दौरान बनाई गई रेखाएं हमेशा जमीन पर मौजूद उसी रेखा के समानांतर होती हैं अर्थात समतल तालिका सर्वेक्षण का सिद्धांत समांतरता है।

QUESTION: 3

निम्नलिखित में से कौन सा सर्वेक्षण एक मालिक से दूसरे मालिक तक भू सम्पति हस्तांतरण  से संबंधित सूचना एकत्र करने के लिए  नियोजित किया जाता है?

Solution:

भू-कर-संबंधी सर्वेक्षण: यह सर्वेक्षण संपत्ति रेखाओं के निर्धारण, भूमि क्षेत्रफल की गणना, या एक मालिक से दूसरे मालिक को भूमि संपत्ति के हस्तांतरण के लिए नियोजित किया जाता है। उन्हें नगर पालिकाओं और राज्य और संघीय अधिकार क्षेत्र की सीमाओं को निर्धारित करने के लिए भी बनाया जाता है।

मूल रूप से, भू-कर-संबंधी सर्वेक्षण, सर्वेक्षण का एक भाग है जो ज़मीन की मालिकी के कानूनों और संपत्ति सीमाओं को परिभाषित करता है।

भूगणितीय सर्वेक्षण वह सर्वेक्षण है जिसमें पृथ्वी की वक्रता पर सर्वेक्षण क्षेत्र में विचार किया जाता है।

नगर सर्वेक्षण: ये सड़कों, जल आपूर्ति प्रणालियों, सीवरों और अन्य कार्यों के निर्माण के लिए नियोजित किये जाते हैं।

QUESTION: 4

समतल तालिका सर्वेक्षण में, केन्द्रीकरण के कारण त्रुटि _______ से विभाजित पैमाने अधिक नहीं होनी चाहिए।

Solution:

समतल तालिका सर्वेक्षण के माध्यम से आलेखन केन्द्रीकरण के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। केन्द्रीकरण में त्रुटि के कारण वस्तुओं की स्थिति के आलेखन में त्रुटि उत्पन्न होती है।इसलिए, केन्द्रीकरण में शामिल कार्यों को सावधानीपूर्वक करने की आवश्यकता होती है। केन्द्रीकरण के कारण त्रुटि 40 से विभाजित पैमाने से अधिक नहीं होनी चाहिए।

QUESTION: 5

वर्नियर का अल्पतमांक क्या है?

Solution:

वर्नियर कैलिपर का उपयोग करके मापी जानी वाली न्यूनतम लम्बाई को अल्पतमांक कहा जाता है।

QUESTION: 6

श्रृंखला सर्वेक्षण में पार्श्विक माप जिनको श्रृंखलाओं से लेकर वस्तुओं तक मापा जाता है, क्या कहलाता है?

Solution:

समंजन: भूतल की विशेषताओं का पता लगाने के लिए श्रृंखला रेखाओं के पार्श्व माप को समंजन कहा जाता है।

पश्चावलोकन: ज्ञात ऊंचाई के एक बिंदु से पीछे की ओर किया जाने वाला मापन या पठन, जिसका उपयोग सर्वेक्षण उपकरण की ऊंचाई की गणना करने के लिए उपयोग किया जाता है, उसे पश्चावलोकन कहा जाता है।

QUESTION: 7

समतलन की प्रक्रिया जिसमें प्रत्येक चरण में केवल पश्चावलोकन और पूर्वावलोकन का पठन लिया जाता है उसे ______ कहा जाता है।

Solution:

फ्लाई समतलन तब किया जाता है जब बेंचमार्क स्टेशन से बहुत दूर हो। ऐसे मामले में, एक अस्थायी बेंचमार्क को कार्य स्टेशन पर स्थित किया जाता है जो मूल बेंचमार्क पर ही आधारित होता है। यहां तक कि यह अत्यधिक सटीक नहीं है इसका उपयोग अनुमानित स्तर निर्धारित करने के लिए किया जाता है। फ्लाई समतलन के हर चरण में  केवल केवल पश्चावलोकन और पूर्वावलोकन का पठन लिया जाता है।

रेसिप्रोकल समतलन: जब अन्तः दृश्य बिंदुओं के बीच में समतलन उपकरण का पता लगाना सम्भव ना हो तब पारस्परिक समतलन किया जाता है। यह स्थिति तालाबों या नदियों आदि के मामले में उपयुक्त है। पारस्परिक समतलन के मामले में, उपकरण को पहले स्टेशन के नजदीक रखा जाता है और दूसरे स्टेशन की तरफ देखा जाता है।

पार्श्वचित्र समतलन आम तौर पर सड़क, रेल या नदियों आदि जैसे लाइनों के साथ बिंदुओं की ऊंचाई को खोजने के लिए अपनाया जाता है। इस प्रकार के समतलन में , मध्यवर्ती स्टेशनों का पठन लिया जाता है और प्रत्येक स्टेशन का कम हुआ स्तर ज्ञात किया जाता है।

QUESTION: 8

त्रुटि का वह प्रकार जिसमें समान स्थितियों के अंतर्गत हमेशा समान आकार और समान चिह्न रहता है?

Solution:

व्यवस्थित त्रुटियां सर्वेक्षण उपकरण, अवलोकन विधियों और कुछ पर्यावरणीय कारकों के कारण होती हैं। उसी मापन की स्थितियों के तहत, इन त्रुटियों में परिमाण और दिशा समान (धनात्मक या ऋणात्मक) होगी क्योंकि व्यवस्थित त्रुटियां पुनरावृत्तीय होती हैं और मापन की श्रृंखला में जमा होती हैं, इन्हे संचयी त्रुटियों के रूप में भी जाना जाता है।

यादृच्छिक (या आकस्मिक) त्रुटियां अवलोकन की शर्तों या परिस्थितियों से सीधे संबंधित नहीं होती हैं। एक माप या माप की श्रृंखला के लिए, यह सभी संभावित व्यवस्थित त्रुटियों के समाप्त होने के बाद शेष त्रुटि है।

QUESTION: 9

वक्रता में संशोधन के लिए कौन सा सूत्र प्रयोग किया जाता है?

जहाँ d, km में दूरी है और  Cc मीटर में है।

Solution:

वक्रता में संशोधन ऋणात्मक होता है जो निम्नानुसार है-

Cc = -0.07849 d2

जहाँ,

d, km में दूरी है

Cc मीटर में है

QUESTION: 10

निम्नलिखित में से कौन सा सबसे उपयुक्त अच्छी तरह से अनुकूलित त्रिभुज है?

Solution:

एक समबाहु त्रिभुज सबसे उपयुक्त त्रिभुज होगा क्योंकि इसके सभी कोण 60° के होते हैं और सभी भुजाएं समान होती हैं। समद्विबाहु त्रिभुज भी अच्छी तरह से अनुकूलित त्रिभुज है, लेकिन उनके आंतरिक कोण एक विशेष स्थिति में 30°  से कम हो सकते हैं।

त्रिभुज का वह आकार जिसमें कोणीय माप में कोई त्रुटि है,गणना की जाने वाली भुजा पर सबसे कम प्रभाव डाले, उसे अनुकूलित त्रिभुज कहते हैं। अच्छी तरह से अनुकूलित त्रिभुजोंको प्राथमिकता दी जाती है क्योंकि उनके शीर्ष बिंदु बहुत स्पष्ट होते हैं और एक 'बिंदु ' द्वारा भी प्राप्त किये जा सकते है। ऐसे मामले में, आलेखित बिंदु के सापेक्ष विस्थापन की कोई संभावना नहीं होती है।

अच्छी तरह से अनुकूलित त्रिभुज के लिए शर्त: कोण 30° से 120° के बीच होना चाहिए। 

QUESTION: 11

यदि किसी अभियंता के रेखांकन का स्केल 1 cm = 5 m है, तो अंश स्केल 1: x होगा, जहां x _______है।

Solution:

अभियंता का स्केल इस प्रकार दिया गया है:

1 cm = 5 m

अब,

प्रतिरूप अंश = 1/500

इसलिए  x = 500

QUESTION: 12

एक श्रृंखला रेखा के साथ 45° के कोण को किसके साथ सेट किया जा सकता है?

Solution:

1. 45° के लिए → फ्रेंच वर्ग

2. 90° के लिए → प्रकाशीय वर्ग

3. खुला अनुप्रस्थ स्टाफ़ आमतौर पर लंबे समंजन को सेट करने के लिए उपयोग किया जाता है

QUESTION: 13

सीधी रेखा के साथ श्रुंखलन के दौरान, सर्वेक्षण दल के नेता के पास तीन तीर होते हैं जबकि अनुयायी के पास पांच तीर होते हैं, प्रारंभिक बिंदु से अनुयायी की दूरी _________ होगी।

Solution:
QUESTION: 14

यदि R वक्रता की त्रिज्या है और l एक पारगमन वक्र पर आरम्भ से दूरी है, तो आदर्श पारगमन के लिए-

Solution:

परिवर्तनशील त्रिज्या के वक्र को पारगमन वक्र के रूप में जाना जाता है। इस तरह के वक्र की त्रिज्या अनंत से कुछ निश्चित मान के बीच में होती है।आदर्श पारगमन वक्र की आवश्यकता के अनुसार, एकसमान दर पर अपकेंद्री बल में वृद्धि के साथ उत्तम उन्नयन को समान रूप से बढ़ाया जाना चाहिए।

यहां W, v और g स्थिरांक हैं,

QUESTION: 15

 3° के कोण वाले बिंदु से गुज़रने वाली रेखा को क्या कहा जाता है?

Solution:

समदिक्पातीय रेखा: वह रेखा जो समान झुकाव बिंदुओं से गुज़रती हो समदिक्पातीय रेखा कहलाती है।

शून्य दिक्पाती रेखा: शून्य झुकाव से गुज़रने वाली एक रेखा को शून्य दिक्पाती रेखा के रूप में जाना जाता है।

QUESTION: 16

जैसा कि स्टाफ पठन पर लागू होता है, वक्रता और अपवर्तन के लिए सुधार क्रमशः ________ होते हैं।

Solution:

वक्रता स्टाफ पठन में वृद्धि करती है, इसलिए इसका सुधार ऋणात्मक होगा। वायुमंडल से गुज़रने के दौरान प्रकाश की किरणें नीचे की तरफ मुड़ जाती हैं और वक्र पथ पर गति करती है,इसलिए सुधार धनात्मक होता है।

वक्रता के कारण सुधार = -0.0785D2

अपवर्तनके कारण सुधार = 0.0112D2

संयुक्त रूप से सुधार = -0.0673D2

QUESTION: 17

निम्नलिखित में से कौन सा कथन सही है?

Solution:

समतलन में, अगर पश्चावलोकन दूरदर्शिता से कम है, तो पश्चावलोकन स्टेशन पूर्वावलोकन स्टेशन से अधिक होगा। पारस्परिक समतलन में, अपवर्तन के कारण हुई त्रुटि से, वक्रता समाप्त हो जाती है। समतलन में परिवर्तन बिंदु पर एक पश्चावलोकन और एक पूर्वावलोकन लिया जाता है।

वक्रता के प्रभाव के कारण, वस्तुएं अपने वास्तविक दृश्य से निचे दिखती हैं।

QUESTION: 18

समलम्बाकार विधि का उपयोग कर खुदाई की मात्रा (गहन मीटर में) की गणना करें,यदि 20 m के अंतराल पर तटबंध के तीन खण्डों का अनुप्रस्थ-काट क्षेत्रफल 40 वर्ग मीटर, 50 वर्ग मीटर और 80 वर्ग मीटर है।

Solution:

h(आंतरिक) = 20 m

A1 = 40 m2

A2 = 50 m2

A3 = 80 m3

समलम्बाकार विधि का उपयोग करते हुए-

Volume of earth work 

V = 2200 m3

QUESTION: 19

उपकरण जो समतलन तालिका में क्षैतिज और ऊर्ध्वाधर दूरी को बदले बिना सीधे क्षैतिज और ऊर्ध्वाधर दूरी प्राप्त करने के लिए उपयोग किया जाता है, उसे ______ कहा जाता है।

Solution:

दूरबीन एल्डैड: इसमें एक दूरबीन होती है जिसका उपयोग देखने के लिए किया जाता है। दूरबीन एक स्टेडिया डायाफ्राम के साथ लगाया जाता है और क्षैतिज और ऊर्ध्वाधर ऊंचाई की गणना के लिए टैकोमीटर के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

प्लैनीमीटर: यह एक मापने वाला यंत्र है जिसका उपयोग अनियन्त्रित दो आयामी आकार के क्षेत्रफल को निर्धारित करने के लिए किया जाता है।

प्रवणतामापी: यह गुरुत्वाकर्षण के संबंध में किसी वस्तु के ढलान (या झुकाव), ऊंचाई या अवसाद के कोणों को मापने के लिए एक यंत्र है।

QUESTION: 20

समतल तालिका सर्वेक्षण में तीन-बिंदु की समस्या के समाधान में, त्रुटि का अभिसरण निम्न में से किस माध्यम से प्राप्त होता है?

Solution:

तीन बिंदु समस्या में, यदि समतल तालिका का अभिविन्यास उचित नहीं है, तो तीन बिंदुओं के माध्यम से रेसेक्टोर्स का प्रतिच्छेदन एक बिंदु पर नहीं मिलेगा, लेकिन यह एक त्रिभुज बनायेगा, जिसे त्रुटि के त्रिभुज के रूप में जाना जाता है। त्रुटि के त्रिभुज का आकार अभिविन्यास में कोणीय त्रुटि की मात्रा पर निर्भर करता है। त्रुटि का यह त्रिभुज परीक्षण और त्रुटि विधि से एक बिंदु तक कम हो जाएगा।

Use Code STAYHOME200 and get INR 200 additional OFF
Use Coupon Code