Class 10 Hindi A: CBSE Sample Question Paper- Term I (2021-22) - 4 Notes | Study CBSE Sample Papers For Class 10 - Class 10

Class 10: Class 10 Hindi A: CBSE Sample Question Paper- Term I (2021-22) - 4 Notes | Study CBSE Sample Papers For Class 10 - Class 10

The document Class 10 Hindi A: CBSE Sample Question Paper- Term I (2021-22) - 4 Notes | Study CBSE Sample Papers For Class 10 - Class 10 is a part of the Class 10 Course CBSE Sample Papers For Class 10.
All you need of Class 10 at this link: Class 10

कक्षा 10
समय: 1:30 घण्टा
पूर्णांक: 40

सामान्य निर्देश:
(i) इस प्रश्नपत्र में तीन खंड हैं- खंड-क, खंड-ख और खंड-ग
(ii) इस प्रश्नपत्र में कुल 10 वस्तुपरक प्रश्न पूछे गए हैं। सभी प्रश्नों में उपप्रश्न दिए गए हैं। दिए गए निर्देशों का पालन करते हुए प्रश्नों के उत्तर दीजिए।
(iii) खंड-क में कुल 20 प्रश्न पूछे गए हैं, दिए गए निर्देशों का पालन करते हुए केवल 10 प्रश्नों के ही उत्तर दीजिए।
(iv) खंड-ख में कुल 20 प्रश्न पूछे गए हैं, दिए गए निर्देशों का पालन करते हुए केवल 16 प्रश्नों के ही उत्तर दीजिए।
(v) खंड-ग में कुल 14 प्रश्न पूछे गए हैं। सभी प्रश्न अनिवार्य हैं।
(vi) सही उत्तर वाले गोले को भली प्रकार से केवल नीली या काली स्याही वाले बॉल पॉइंट पेन से ही ओ.एम.आर.शीट में भरें।

खंड-क

नीचे दो अपठित गद्यांश दिए गए हैं। किसी एक गद्यांश को ध्यानपूर्वक पढ़िए और उस पर आभारित प्रश्नों के सही विकल्प चुनकर लिखिए
दार्शनिक अरस्तू ने कहा है-"प्रत्येक व्यक्ति को उचित समय पर, उचित व्यक्ति से, उचित मात्रा में, उचित उद्देश्य के लिए, उचित ढंग से व्यवहार करना चाहिए।" वास्तव में प्रत्येक प्राणी का संबंध एक-एक क्षण से रहता है, किन्तु व्यक्ति उसका महत्त्व नहीं समझता। अधिकतर व्यक्ति सोचते हैं कि कोई अच्छा समय आएगा तो काम करेंगे। इस दुविधा और उधेड़बुन में वे जीवन के अनेक अमूल्य क्षणों को खो देते हैं। किसी व्यक्ति को बिना हाथ-पाँव हिलाए संसार की बहुत बड़ी सम्पत्ति छप्पर फाड़कर कभी नहीं मिलती। समय उन्हीं के रथ के घोड़ों को हॉकता है, जो भाग्य के भरोसे बैठना पौरुष का अपमान समझते हैं। जो व्यक्ति श्रम और समय का पारखी होता है, लक्ष्मी भी उसी का वरण करती है। समय की कीमत न पहचानने वाले समय बीत जाने पर सिर धुनते रह जाते हैं। समय निरंतर गतिमान है। इसलिए हमें समय का मूल्य समझना चाहिए। साथ ही समयानुसार काम भी करना चाहिए। सफल जीवन की यही कुंजी है।
प्रश्न.1: जीवन के अमूल्य क्षणों को किस प्रकार के व्यक्ति खो देते हैं?
(क) प्रत्येक क्षण के महत्त्व को न समझने वाले।
(ख) अच्छे समय की प्रतीक्षा करने वाले।
(ग) दुविधा और उधेड़बुन में लगे रहने वाले।
(घ) उपर्युक्त सभी। 

सही उत्तर विकल्प है (घ)


प्रश्न.2: भाग्य के भरोसे बैठना पौरुष का अपमान कहा गया है क्योंकि
(क) ऐसा व्यक्ति जीवन में प्रगति कर सकता है।
(ख) ऐसा व्यक्ति जीवन में उन्नति कर सकता है।
(ग) ऐसा व्यक्ति जीवन में पौरुष का अपमान कर सकता है।
(घ) ऐसा व्यक्ति जीवन में प्रगति नहीं कर सकता।

सही उत्तर विकल्प है (घ)


प्रश्न.3: लक्ष्मी किसे प्राप्त होती है?
(क) कायर व्यक्ति को।
(ख) भाग्य के भरोसे बैठने वाले को।
(ग) परिश्रम करने वाले को।
(घ) श्रम और समय के पारखी व्यक्ति को। 

सही उत्तर विकल्प है (घ)


प्रश्न.4: सफल जीवन की कुंजी क्या है?
(क) समय का मूल्य न पहचानना।
(ख) समय का गतिशील होना।
(ग) समय का मूल्य पहचान कर समय पर कार्य करना।
(घ) इनमें में से कोई नहीं। 

सही उत्तर विकल्प है (ग)


प्रश्न.5: उपर्युक्त गद्यांश के लिए उपयुक्त शीर्षक दीजिए।
(क) समय का महत्त्व।
(ख) समय और जीवन।
(ग) समय का उपयोग।
(घ) ये सभी।

सही उत्तर विकल्प है (क)


अथवा

विश्व स्वास्थ्य-संगठन के अध्ययनों और संयुक्त राष्ट्र की मानव-विकास रिपोर्टो ने भारत के बच्चों में कुपोषण की व्यापकता के साथ-साथ बाल मृत्यु-दर और मातृ मृत्यु-दर का ग्राफ काफी ऊँचा रहने के तथ्य भी बार-बार ज़ाहिर किए हैं। यनिसेफ की रिपोर्ट बताती है कि लड़कियों की दशा और भी खराब है।
पाकिस्तान और अफगानिस्तान के बाद, बालिग होने से पहले लड़कियों को ब्याह देने के मामले दक्षिण एशिया में सबसे ज्यादा भारत में होते हैं। मातृ मृत्यु-दर और शिशु मृत्यु-दर का एक प्रमुख कारण यह भी है। यह रिपोर्ट ऐसे समय जारी हुई है जब बच्चों के अधिकारों से संबंधित वैश्विक घोषणा-पत्र के पच्चीस साल पूरे हो रहे हैं। इस घोषणा-पत्र पर भारत और दक्षिण एशिया के अन्य देशों ने भी हस्ताक्षर किए थे। इसका यह असर ज़रूर हुआ कि बच्चों की सेहत, शिक्षा, सुरक्षा से संबंधित नए कानून बने, मंत्रालय या विभाग गठित हुए, संस्थाएँ और आयोग बने। घोषणा-पत्र से पहले की तुलना में कुछ सुधार भी दर्ज हुआ है। पर इसके बावजूद बहुत सारी बातें विचलित करने वाली हैं। मसलन, देश में हर साल लाखों बच्चे गुम हो जाते हैं। लाखों बच्चे अब भी स्कूलों से बाहर हैं। श्रम शोषण के लिए विवश बच्चों की तादाद इससे भी अधिक है। वे स्कूल में पिटाई और घरेलू हिंसा के शिकार होते रहते हैं।
परिवार के स्तर पर देखें तो संतान का मोह काफी प्रबल दिखाई देगा, मगर दूसरी ओर, बच्चों के प्रति सामाजिक संवेदनशीलता बहुत क्षीण है। कमजोर तबकों के बच्चों के प्रति तो बाकी समाज का रवैया अमूमन असहिष्णुता का ही रहता है। क्या ये स्वस्थ समाज के लक्षण हैं?
प्रश्न.1: विभिन्न रिपोर्टों में क्या नहीं बताया गया है?
(क) बच्चे घोर कुपोषण का शिकार हैं।
(ख) बाल मृत्यु-दर और मातृ मृत्यु-दर भी काफी ज्यादा है।
(ग) भारत की स्थिति अन्य देशों के मुकाबले अच्छी है।
(घ) लड़कियों की दशा भी शोचनीय है। 

सही उत्तर विकल्प है (ग)


प्रश्न.2: मातृ मृत्यु-दर और शिशु मृत्यु-दर अधिक होने का मुख्य कारण क्या है?
(क) लड़कियों का विवाह कच्ची उम्र में करवा देना।
(ख) अधिकारों की जानकारी का अभाव।
(ग) अधिक बच्चों का होना।
(घ) माता-पिता का बच्चों पर ध्यान न देना।

सही उत्तर विकल्प है (क)


प्रश्न.3: भारत ने जिस वैश्विक घोषणा-पत्र पर हस्ताक्षर किए उसका क्या प्रभाव पड़ा?
(क) केवल आयोग बनाए गए।
(ख) बच्चों की सेहत, शिक्षा, सुरक्षा आदि के कानून बने।
(ग) बच्चों को बेहतर सुरक्षा मिल गई।
(घ) बाल मजदूरी की घटनाएँ कम हुई।

सही उत्तर विकल्प है (ख)


प्रश्न.4: आज भी भारत में बच्चों की स्थिति कैसी है?
(क) सभी बच्चों को शिक्षा अवश्य दी जाती है।
(ख) कोई बच्चा श्रम-शोषण के लिए विवश नहीं है।
(ग) कोई भी बच्चा गायब नहीं होता।
(घ) विद्यालय और घर पर भी पिटाई होती है।  

सही उत्तर विकल्प है (घ)


प्रश्न.5: गद्यांश का उपयुक्त शीर्षक होगा
(क) वंचित बचपन।
(ख) आजकल के बच्चे।
(ग) यूनिसेफ़ की रिपोर्ट।  
(घ) लड़कियों की खराब दशा।

सही उत्तर विकल्प है (क)


नीचे दो काव्यांश दिए गए हैं। किसी एक काव्यांश को ध्यानपूर्वक पढ़िए और उस पर आधारित प्रश्नों के उत्तर सही विकल्प चुनकर लिखिए
(i)
ओ महमूदा मेरी दिल जिगरी
तेरे साथ मैं भी छत पर खड़ी हूँ
तुम्हारी रसोई तुम्हारी बैठक और गाय-घर में
पानी घुस आया
उसमें तैर रहा है घर का सामान
तेरे बाहर के बाग का सेब का दरख्त
टूटकर पानी के साथ बह रहा है
अगले साल इसमें पहली बार सेब लगने थे
तेरी बल खाकर जाती कश्मीरी कढ़ाई वाली चप्पल
हुसैन की पेशावरी जूती
बह रहे हैं गंदले पानी के साथ
तेरी ढलवाँ छत पर बैठा है
घर के पिंजरे का तोता
वह फिर पिंजरे में आना चाहता है
महमूदा मेरी बहन
इसी पानी में बह रही है तेरी लाडली गऊ
इसका बछड़ा पता नहीं कहाँ है
तेरी गऊ के दूध भरे थन
अकड़ कर लोहा हो गए हैं

(ii)
जम गया है दूध
सब तरफ पानी ही पानी
पूरा शहर डल झील हो गया है
महमूदा, मेरी महमूदा
मैं तेरे साथ खड़ी हूँ
मुझे यकीन है छत पर जरूर
कोई पानी की बोतल गिरेगी
कोई खाने का सामान का या दूध की थैली
मैं कुरबान उन बच्चों की माँओं पर
जो बाढ़ में से निकलकर
बच्चों की तरह पीड़ितों को
सुरक्षित स्थान पर पहुँचा रही हैं
महमूदा हम दोनों फिर खड़े होंगे
मैं तुम्हारी कमलिनी अपनी धरती पर.......
उसे चूम लेंगे अपने सूखे होठों से
पानी की इस तबाही से फिर निकल आएगा
मेरा चाँद जैसा जम्मू
मेरा फूल जैसा कश्मीर।
प्रश्न.1: घर में पानी घुसने का कारण है
(क) नल और नाली की खराबी।
(ख) बाँध का टूटना।
(ग) प्राकृतिक आपदा।
(घ) नदी में रुकावट। 

सही उत्तर विकल्प है (ग)


प्रश्न.2: महमूदा की बहन को विश्वास नहीं है
(क) छत पर पानी की बोतल गिरेगी।
(ख) कुछ खाने-पीने की सहायता पहुँचेगी।
(ग) कोई हेलीकॉप्टर उन्हें बचाने छत पर आएगा।
(घ) इस मुसीबत से निकल जाएँगे। 

सही उत्तर विकल्प है (ग)


प्रश्न.3: 'मेरा चाँद जैसा जम्मू मेरा फूल जैसा कश्मीर' का भावार्थ है
(क) जम्मू और कश्मीर में फिर से चाँद दिखने लगेगा।
(ख) जम्मू और कश्मीर का सौंदर्य वापिस लौटेगा।
(ग) जम्मू और कश्मीर स्वर्ग है।
(घ) जम्मू और कश्मीर चाँद और फूल जैसा सुंदर है। 

सही उत्तर विकल्प है (ख)


प्रश्न.4: कवयित्री माताओं पर क्यों न्यौछावर होना चाहती है?
(क) दूसरों को बचाने के कार्य में जुटी हैं।
(ख) बच्चों को सुरक्षित स्थान पर पहुँचा रही हैं।
(ग) स्वयं भूखी रहकर बच्चों की देखभाल करती हैं।
(घ) रसद पहुँचाने का कार्य कर रही हैं।

सही उत्तर विकल्प है (क)


प्रश्न.5: पूरा शहर डल झील जैसा लग रहा है क्योंकि
(क) डल झील का फैलाव बढ़ गया है।
(ख) पूरे शहर में पानी भर गया है।
(ग) पूरे शहर में शिकारे चलने लगे हैं।
(घ) झील में नगर का प्रतिबिंब झलक रहा है।

सही उत्तर विकल्प है (ख)


अथवा

(i)
थोड़े से बच्चों के लिए
एक बगीचा है
उनके पाँव दूब पर पड़ रहे हैं
असंख्य बच्चों के लिए
कीचड़, धूल और गन्दगी से पटी
गलियाँ हैं जिनमें वे
अपना भविष्य बीन रहे हैं
एक मेज है
सिर्फ छह बच्चों के लिए
और उनके सामने
उतने ही अंडे और उतने ही सेब हैं
एक कटोरदान है सौ बच्चों के बीच
और हजारों बच्चे
(ii)
एक हाथ में रखी आधी रोटी को
दूसरे से तोड़ रहे हैं
ईश्वर होता तो इनती देर में देह कोढ़ से गलने लगती
सत्य होता तो वह अपनी न्यायाधीश की
कुर्सी से उतरकर जलती सलाखें आँखों में खुपस लेता,
सुन्दर होता तो वह अपने चेहरे पर
तेजाब पोत अंधे कुएँ में कूद गया होता लेकिन.......
यहाँ दृश्य में
सिर्फ कुछ छपे हुए शब्द हैं
चापलूसी की नाँद में
लपलपाती जुबाने
और मस्तिष्क में काले गणित का
पैबंद है।
प्रश्न.1: दूब पर पड़ने वाले पाँव किन बच्चों के हो सकते हैं?
(क) जो अभी बहुत छोटे हैं।
(ख) जो समृद्ध परिवार से हैं।
(ग) जो शिक्षित परिवार से हैं।
(घ) जो गरीब परिवार से हैं। 

सही उत्तर विकल्प है (ख)


प्रश्न.2: 'वे अपना भविष्य बीन रहे हैं' का तात्पर्य है
(क) कूड़ा बीनकर गरीब बच्चे अपना जीवन चलाते हैं।
(ख) वे कूड़े में रहते हैं।
(ग) असंख्य बच्चे सुख नहीं पाते।
(घ) गलियों में बच्चे अपना भविष्य बनाते हैं। 

सही उत्तर विकल्प है (क)


प्रश्न.3: 'एक मेज है/सिर्फ छह बच्चों के लिए/और उनके सामने/उतने ही अंडे और उतने ही सेब हैं/एक कटोरदान है सौ बच्चों के बीच/और हज़ारों बच्चे एक हाथ में रखी आधी रोटी को/दूसरे से तोड़ रहे हैं'।
उपर्युक्त पंक्तियों में कवि किस असमानता की बात कर रहा है?
(क) धार्मिक असमानता।
(ख) सामाजिक असमानता।
(ग) आर्थिक असमानता।
(घ) शैक्षिक असमानता। 

सही उत्तर विकल्प है (ग)


प्रश्न.4: कवि किस बात से निराश हो गया है?
(क) नैतिक मूल्य कहीं खो गए हैं।
(ख) असीम सत्ता को लोग पहचानते नहीं।
(ग) न्याय पाने के लिए लम्बी प्रतीक्षा करनी पड़ती है।
(घ) बच्चों की पोशाकों में भी बहुत अन्तर है। 

सही उत्तर विकल्प है (क)


प्रश्न.5: कवि हमें किस वास्तविकता से परिचित करवाना चाहता है?
(क) समाज में असमानताएँ हैं और ईश्वर को चिन्ता नहीं है।
(ख) बातें सिर्फ कागज़ी हैं, चापलूसी और जोड़-तोड़ का धंधा फल-फूल रहा है।
(ग) यदि सत्य होता तो सच में न्यायाधीश अपना काम करते।
(घ) बहुत से बच्चे होटलों में काम करने को मजबूर हैं।

सही उत्तर विकल्प है (ख)


खंड-ख

प्रश्न.1: 'मैंने उस व्यक्ति को देखा जो पीड़ा से कराह रहा था।' संयुक्त वाक्य में बदलिए।
(क) मैंने उस व्यक्ति को देखा वह पीड़ा से कराह रहा था।
(ख) मैंने जैसे ही उस व्यक्ति को देखा वह पीड़ा से कराह रहा था।
(ग) मैंने एक व्यक्ति को देखा और वह पीडा से कराह रहा था।
(घ) मैंने उस व्यक्ति को देखा तो वह देखते ही पीडा से कराहने लगा। 

सही उत्तर विकल्प है (ग)


प्रश्न.2: 'जो व्यक्ति परिश्रमी होता है, वह अवश्य सफल होता है।' सरल वाक्य में बदलिए।
(क) परिश्रमी व्यक्ति अवश्य सफल होता है।
(ख) जो व्यक्ति परिश्रम करता है, वही अवश्य सफल होता है।
(ग) जो व्यक्ति जैसे ही परिश्रम करता है, वैसे ही वह सफल हो पाता है।
(घ) इनमें से कोई नहीं। 

सही उत्तर विकल्प है (क)
चूँकि केवल (क) में ही एक मुख्य क्रिया है। इसमें एक उद्देश्य और एक विधेय है।


प्रश्न.3: 'वह कौन-सी पुस्तक है, जो आपको बहुत पसंद है।' रेखांकित उपवाक्य का भेद बताइए।
(क) आश्रित उपवाक्य।
(ख) संज्ञा आश्रित।
(ग) प्रधान / मुख्य उपवाक्य।
(घ) विशेषण आश्रित उपवाक्य। 

सही उत्तर विकल्प है (ग)
उपर्युक्त वाक्य मिश्रवाक्य है। इसमें रेखांकित वाक्य प्रधान वाक्य है जबकि 'जो' योजक से शुरु होने वाला वाक्य आश्रित उपवाक्य है।


प्रश्न.4: निम्न में से मिश्रवाक्य है
(क) कश्मीरी गेट में निकल्सन कब्रगाह है, वहाँ उनका ताबूत उतारा गया।
(ख) कश्मीरी गेट के निकल्सन कब्रगाह पर उनका ताबूत उतारा गया।
(ग) कश्मीरी गेट के निकल्सन कब्रगाह में उनका ताबूत उतारा गया।
(घ) कश्मीरी गेट में जो निकल्सन कब्रगाह है, वहाँ उनका ताबूत उतारा गया। 

सही उत्तर विकल्प है (घ)


प्रश्न.5: 'मैं जब विद्यालय पहुंचा तो घंटी बज चुकी थी।' रचना के आभार पर वाक्य है
(क) सरल वाक्य।
(ख) मिश्र वाक्य।
(ग) संयुक्त वाक्य।
(घ) साधारण वाक्य।

सही उत्तर विकल्प है (ख)


प्रश्न.6: 'गायिका द्वारा मभुर गीत गाए गए।' वाक्य में कौन-सा वाच्य है?
(क) कर्तृवाच्य।
(ख) कर्मवाच्य।
(ग) भाववाच्य।
(घ) करणवाच्य। 

सही उत्तर विकल्प है (ख)


प्रश्न.7: 'दुकानदार द्वारा उचित मूल्य लिया गया' कर्तृवाच्य में बदलिए।
(क) दुकानदार द्वारा उचित मूल्य लिया जायेगा।
(ख) दुकानदार द्वारा उचित मूल्य लिया जा सकता है।
(ग) दुकानदार उचित मूल्य लेता था।
(घ) दुकानदार ने उचित मूल्य लिया। 

सही उत्तर विकल्प है (घ)
(क) व (ख) में कर्ता के साथ 'द्वारा' लगा होने से कर्तृवाच्य नहीं है जबकि (ग) में वाक्य का काल परिवर्तित हो जाने से वह सही उत्तर नहीं है।


प्रश्न.8: उससे हँसा नहीं जाता।' वाक्य में कौन-सा वाच्य है?
(क) कर्तृवाच्य।
(ख) कर्मवाच्य।
(ग) भाववाच्य।
(घ) करणवाच्य। 

सही उत्तर विकल्प है (ग)
कर्ता के साथ 'से' का प्रयोग होने व क्रिया भाव के अनुसार होने से वाक्य भाववाच्य है।


प्रश्न.9: धर्मगुरु ने कामिल बुल्के की बात मान ली।' कर्मवाच्य में बदलिए।
(क) धर्मगुरु द्वारा कामिल बुल्के की बात मान ली गई।
(ख) धर्मगुरु कामिल बुल्के की बात मानते हैं।
(ग) धर्मगुरु ने बात मान ली कामिल बुल्के की।
(घ) धर्मगुरु से कामिल बुल्के की बात मानी जाएगी। 

सही उत्तर विकल्प है (क)
(ख) कर्तृवाच्य (क्रिया कर्ता के अनुसार होने के कारण) सही नहीं है जबकि (ग) व्याकरणिक दृष्टि से सही नहीं है। (घ) में काल परिवर्तित हो गया है। केवल (क) में कर्ता के साथ 'द्वारा' का प्रयोग होने व क्रिया कर्मानुसार होने से सही है।


प्रश्न.10: "फिर कभी देखा जाएगा।' में वाच्य भेद बताइए।
(क) कर्तृवाच्य।
(ख) कर्मवाच्य।
(ग) भाववाच्य।
(घ) करणवाच्य।

सही उत्तर विकल्प है (ग)


प्रश्न.11: 'पानवाला नया पान खा रहा था।' रेखांकित पद का परिचय है
(क) विशेषण, गुणवाचक, नपुसंकलिंग, एकवचन, 'पान' विशेष्य।
(ख) विशेषण, गुणवाचक, स्त्रीलिंग, एकवचन, पान' विशेष्य।
(ग) विशेषण, गुणवाचक, पुल्लिंग, एकवचन, पान' विशेष्य।
(घ) विशेषण, गुणवाचक, स्त्रीलिंग, बहुवचन, पान' विशेष्य। 

सही उत्तर विकल्प है (ग)
रेखांकित पद संज्ञा ‘पान' की विशेषता बताता है। अतः विशेषण (गुणवाचक) है। 'नया' पुल्लिग शब्द है तथा एकवचन है। 'नया' का बहुवचन 'नए' होगा।


प्रश्न.12: 'सुभाष पालेकर ने प्राकृतिक खेती की जानकारी अपनी पुस्तकों में दी है।' रेखांकित पद का परिचय है
(क) क्रिया, सकर्मक, एकवचन, स्त्रीलिंग, वर्तमान काल, कर्तृवाच्य।
(ख) क्रिया, सकर्मक, एकवचन, पुल्लिग, वर्तमान काल, कर्तृवाच्य।
(ग) क्रिया, अकर्मक, एकवचन, स्त्रीलिंग, वर्तमान काल, कर्तृवाच्य।
(घ) क्रिया, अकर्मक, एकवचन, पुल्लिंग, वर्तमान काल, कर्तृवाच्य। 

सही उत्तर विकल्प है (क)


प्रश्न.13: 'सुभाष पालेकर ने प्राकृतिक खेती की जानकारी अपनी पुस्तकों में दी है।' रेखांकित पद का परिचय है
(क) संज्ञा, व्यक्तिवाचक, द्विवचन, स्त्रीलिंग, कर्म कारक।
(ख) संज्ञा, जातिवाचक, द्विवचन, पुल्लिंग, कर्म कारक।
(ग) संज्ञा, व्यक्तिवाचक, बहुवचन, स्त्रीलिंग, कर्म कारक।
(घ) संज्ञा, जातिवाचक, बहुवचन, स्त्रीलिंग, कर्म कारक।

सही उत्तर विकल्प है (घ)
रेखांकित पद संज्ञा है। चूंकि इसमें पुस्तक का कोई नाम नहीं है। अतः यह जातिवाचक संज्ञा है। 'पुस्तकों' का वचन बहुवचन होगा। चूँकि हिन्दी में द्विवचन नहीं होता अतः (घ) सही है।


प्रश्न.14: 'हिन्दुस्तान वह सब कुछ है जो आपने समझ रखा है, लेकिन वह इससे भी बहुत ज्यादा है।' रेखांकित पद का परिचय है
(क) संज्ञा, जातिवाचक, एकवचन, पुल्लिग, कर्ता, 'है', क्रिया का कर्ता।
(ख) संज्ञा, व्यक्तिवाचक, बहुवचन, पुल्लिग, 'ज्यादा है', क्रिया का कर्ता।
(ग) संज्ञा, व्यक्तिवाचक, एकवचन, पुल्लिग, कर्ता, 'है', क्रिया का कर्ता।
(घ) संज्ञा, जातिवाचक, बहुवचन, पुल्लिग, कर्ता, 'ज्यादा है', क्रिया का कर्ता। 

सही उत्तर विकल्प है (ग)
रेखांकित पद देश विशेष का नाम होने के कारण व्यक्तिवाचक संज्ञा है। जिसकी क्रिया 'है' है। इसका वचन एकवचन है।


प्रश्न.15: 'हिन्दुस्तान वह सब कुछ है जो आपने समझ रखा है, लेकिन वह भी इससे भी बहुत ज्यादा है। 'रेखांकित पद का परिचय
(क) सर्वनाम, पुरुषवाचक, एकवचन/बहुवचन, कर्ताकारक, 'समझ रखा है' क्रिया से सम्बन्धित, पुल्लिग/स्त्रीलिंग।
(ख) सर्वनाम, अनिश्चयवाचक, एकवचन/बहुवचन, कर्ताकारक, 'समझ रखा है' क्रिया से सम्बन्धित, पुल्लिंग/स्त्रीलिंग।
(ग) सर्वनाम, पुरुषवाचक, एकवचन/बहुवचन, कर्मकारक, पुल्लिंग/स्त्रीलिंग।
(घ) सर्वनाम, निजवाचक, एकवचन/बहुवचन, कर्मकारक, पुल्लिंग/स्त्रीलिंग।

सही उत्तर विकल्प है (क)
रेखांकित पद संज्ञा के स्थान पर प्रयुक्त होने से सर्वनाम है तथा कथन का श्रोता होने के कारण मध्यम पुरुषवाचक सर्वनाम है। यह 'समझ रखा है' क्रिया का कर्ता है।


प्रश्न.16: भय की अधिकता में किस रस की निष्पत्ति होती है?
(क) वीर रस।
(ख) करुण रस।
(ग) भयानक रस।
(घ) रौद्र रस। 

सही उत्तर विकल्प है (ग)
उत्साह की अधिकता से वीर रस, शोक की अधिकता से रौद्र रस की निष्पत्ति होती है।


प्रश्न.17: 'निर्वेद' किस रस का स्थायी भाव है?
(क) शांत रस।
(ख) करुण रस।
(ग) हास्य रस।
(घ) श्रृंगार रस। 

सही उत्तर विकल्प है (क)
शांत रस का स्थायी भाव निर्वेद है, जबकि करुण रस का स्थायी भाव शोक, शृंगार रस का रति, हास्य रस का हास है।


प्रश्न.18: 'तनकर भाला यूँ बोल उठा राणा! मुझको विश्राम न दे। मुझको वैरी से हृदय-क्षोभ तू तनिक मुझे आराम न दे।' उपर्युक्त काव्य पंक्तियों में निहित रस है
(क) वीर रस।
(ख) शांत रस।
(ग) करुण रस।
(घ) रौद्र रस। 

सही उत्तर विकल्प है (क)
युद्ध में वीरता और उत्साह से सम्बन्धित भाव से युक्त होने के कारण वीर रस है।


प्रश्न.19: किस रस को 'रसराज' भी कहा जाता है?
(क) शांत रस।
(ख) करुण रस।
(ग) हास्य रस।
(घ) श्रृंगार रस। 

सही उत्तर विकल्प है (घ)


प्रश्न.20: 'वीभत्स रस' का स्थायी भाव है?
(क) उत्साह।
(ख) शोक।
(ग) जुगुप्सा।
(घ) हास।

सही उत्तर विकल्प है (ग)


खंड-ग
निम्नलिखित गद्यांश पर आधारित प्रश्नों के उत्तर के लिए सही विकल्प चुनिए
बालगोबिन भगत की संगीत-साधना का चरम उत्कर्ष उस दिन देखा गया, जिस दिन उनका बेटा मरा। इकलौता बेटा था वह ! कुछ सुस्त और बोदा-सा था, किन्तु इसी कारण बालगोबिन भगत उसे और भी मानते। उनकी समझ में ऐसे आदमियों पर ही ज्यादा नजर रखनी चाहिए या प्यार करना चाहिए, क्योंकि ये निगरानी और मुहब्बत के ज्यादा हकदार होते हैं। बड़ी साध से उसकी शादी कराई थी, पतोहू बड़ी ही सुभग और सुशील मिली थी। घर की पूरी प्रबन्धिका बनकर भगत को बहुत कुछ दुनियादारी से निवृत्त कर दिया था उसने। उनका बेटा बीमार है, इसकी खबर रखने की लोगों को कहाँ फुरसत ! किन्तु मौत तो अपनी ओर सबका ध्यान खींचकर ही रहती है।
प्रश्न.1: बालगोबिन भगत के अनुसार कैसे लोग, निगरानी और मुहब्बत के हकदार होते हैं?
(क) जो बहुत बुद्धिमान होते हैं।
(ख) जो खूबसूरत होते हैं।
(ग) जो परिश्रमी होते हैं।
(घ) जो शारीरिक तथा मानसिक रूप से शिथिल होते हैं।

सही उत्तर विकल्प है (घ)
बालगोबिन के अनुसार शारीरिक व मानसिक रूप से कमजोर लोग वातावरण व परिस्थितियों से सहजता से सामंजस्य नहीं बैठा पाते अत: उनके साथ सदैव स्नेहपूर्ण व्यवहार करना चाहिए।


प्रश्न.2: भगत की पुत्रवभू में क्या गुण था?
(क) वह सुन्दर व सुशील थी।
(ख) वह घर के प्रबन्ध में कुशल थी।
(ग) घर की जिम्मेदारी को संभालने वाली थी।
(घ) ये सभी।

सही उत्तर विकल्प है (घ)
बालगोबिन का पुत्र सुस्त और बोदा था लेकिन उनकी पुत्रवधू बहुत ही सुभग और सुशील होने के साथ सुगृहिणी थी।


प्रश्न.3: 'निवृत्त' शब्द में से उपसर्ग व मूल शब्द अलग कीजिए
(क) नि + वृत्त।
(ख) निवृ + त्त।
(ग) न + इवृत्त।
(घ) निर् + वत्त।

सही उत्तर विकल्प है (क)


प्रश्न.4: बालगोबिन भगत का पुत्र कैसा था?
(क) सुस्त और बोदा।
(ख) सुस्त और क्रोधी।
(ग) फुर्तीला और बलवान।
(घ) लम्बा-चौड़ा और हँसमुख।

सही उत्तर विकल्प है (क)
बालगोबिन भगत का बेटा शारीरिक व मानसिक रूप से कमजोर था इसलिए घर व खेतों की पूरी जिम्मेदारी उन्हीं पर थी लेकिन सुघढ़ पुत्रवधू के आने पर उसने घर संभाल लिया।


प्रश्न.5: बालगोबिन भगत के कितने बेटे थे?
(क) चार।
(ख) तीन।
(ग) दो।
(घ) एक।

सही उत्तर विकल्प है (घ)


प्रश्न.6: हालदार साहब दुःखी क्यों थे?
(क) शहीदों के त्याग-बलिदान की हँसी उड़ाने वाली कौम के भविष्य के बारे में सोचकर।
(ख) नेताजी की प्रतिमा पर चश्मा न लगा होने के कारण।
(ग) भारत में बढ़ती हुई अराजकता के बारे में सोचकर।
(घ) देश में बढ़ती आतंकवादी घटनाओं पर विचार करके। 

सही उत्तर विकल्प है (क)
हालदार साहब को नेताजी की प्रतिमा पर चश्मा न होने की बात खटकती थी लेकिन शहीदों के त्याग और बलिदान की हँसी उड़ाने वाली तथा अपने स्वार्थों की पूर्ति को बिकने के लिए तैयार रहने वाली कौम को देख उन्हें दुःख होता है।


प्रश्न.7: 'नेताजी का चश्मा' कहानी किसके बारे में है?
(क) नेताजी सुभाषचन्द्र बोस के बारे में।
(ख) नेताजी की प्रतिमा के बारे में।
(ग) नेताजी की प्रतिमा पर लगे चश्मे के बारे में।
(घ) हालदार साहब के बारे में।

सही उत्तर विकल्प है (ग)
कहानी नेताजी की मूर्ति पर चश्मा ना होने, कैप्टन द्वारा चश्मा लगाने और बार-बार बदलने, कैप्टन के मरने पर मूर्ति के चश्माविहीन होने तथा बच्चों द्वारा सरकंडे का चश्मा लगाए जाने की है।


निम्नलिखित काव्यांश पर आभारित प्रश्नों के उत्तर के लिए सही विकल्प चुनकर लिखिए
बिहसि लखनु बोले मृदु बानी। अहो मुनीसु महाभट मानी॥
पुनि-पुनि मोहि देखाव कुठारू। चहत उड़ावन फूँकि पहारू॥
इहाँ कुम्हड़बतिया कोउ नाहीं। जे तरजनी देखि मरि जाहीं॥
देखि कुठारु सरासन बाना। मैं कछु कहा सहित अभिमाना॥
भृगुसुत समुझि जनेउ बिलोकी। जो कुछ कहहु सह रिस रोकी॥
सुर महिसुर हरिजन अरु गाई। हमरे कुल इन्ह पर न सुराई।
बधे पापु अपकीरति हारें। मारतहू पा परिअ तुम्हारें।
कोटि कुलिस सम बचनु तुम्हारा। व्यर्थ धरहु धनु बान कुठारा॥
प्रश्न.8: 'कुम्हड़बतिया' का उदाहरण क्यों दिया गया है?
(क) कुम्हड़े या काशीफल का फल सहजता से नहीं टूट जाता है।
(ख) काशीफल बहुत ही कमजोर होता है।
(ग) काशीफल के फल के समान कमजोर समझ रहे हैं।
(घ) उपर्युक्त में से कोई नहीं। 

सही उत्तर विकल्प है (ग)
परशुराम बार-बार लक्ष्मण को डरा-धमका रहे थे इसलिए लक्ष्मण ने कहा कि वे कुम्हड़े के फल के समान कमजोर नहीं हैं।


प्रश्न.9: लक्ष्मण ने पशुराम की किस चेष्टा पर क्यों व्यंग्य किया?
(क) उन्हें बार-बार तलवार दिखाकर डराने की।
(ख) उन्हें बार-बार धनुष बाण दिखाकर डराने की।
(ग) उन्हें बार-बार फरसा दिखाकर डराने की।
(घ) उन्हें बार-बार नरक का भोगी बनने का भय दिखाकर डराने की। 

सही उत्तर विकल्प है (ग)


प्रश्न.10: ब्राह्मण से युद्ध करना लक्ष्मण क्यों उचित नहीं मानते?
(क) ब्राह्मणों से युद्ध करना घाटे का सौदा नहीं है।
(ख) ब्राह्मणों का वध करने से पुण्य मिलता है।
(ग) ब्राह्मणों से पराजित होने पर अपयश मिलता है तथा परिवार की परम्परा भी नहीं है।
(घ) उपर्युक्त में से कोई नहीं। 

सही उत्तर विकल्प है (ग)
चूँकि उनके कुल की परम्परा थी कि ब्राह्मण पूज्य होते हैं अत: उनका वध करने में नर्क मिलेगा तथा एक क्षत्रिय का ब्राह्मण से हार जाना घोर अपमानजनक है।


प्रश्न.11: परशुराम को मारने पर अपयश और पाप की संभावना लक्ष्मण को क्यों थी?
(क) क्षत्रिय कुल में ब्राह्मण को अवध्य माना जाता था।
(ख) ब्राह्मण को मारने पर पाप नहीं लगता था।
(ग) हारने पर अपयश के भागी नहीं होते थे।
(घ) इनमें से कोई नहीं। 

सही उत्तर विकल्प है (क)


प्रश्न.12: क्षत्रिय कुल में किन-किन पर वीरता नहीं दिखाई जाती?
(क) भैंस, गाय, भक्त और ब्राह्मण पर।
(ख) गाय, भक्त, ब्राह्मण और देवताओं पर।
(ग) बैल, गाय, ब्राह्मण और देवताओं पर।
(घ) ब्राह्मण, भक्त, बैल और देवताओं पर।

सही उत्तर विकल्प है (ख)
वेदों के अनुसार गाय, ब्राह्मण, देवताओं और देशभक्त पर प्रहार करना व वध करना मना है। क्षत्रिय का दायित्व है कि वह इनकी रक्षा करे।


प्रश्न.13: गोपियों ने योग को कैसी व्याधि बताया है?
(क) वंशानुगत व्याधि।
(ख) छूत की व्याधि।
(ग) पहले न कभी देखी-सुनी हुई।
(घ) मौसमी व्याधि। 

सही उत्तर विकल्प है (ग)


प्रश्न.14: गोपियों ने उद्धव को क्या संदेश दिया?
(क) वे योग का संदेश स्वीकार कर उसका पालन करेंगी।
(ख) वे अब श्रीकृष्ण को कभी स्मरण नहीं करेंगी।
(ग) वे श्रीकृष्ण से मिलने मथुरा आएँगी।
(घ) वे श्रीकृष्ण से एकनिष्ठ प्रेम करती हैं।

सही उत्तर विकल्प है (घ)
गोपियों ने उद्धव को संदेश दिया कि वे किसी भी कीमत पर योग का संदेश स्वीकार नहीं करेंगी क्योंकि श्रीकृष्ण उनके मन में गहराई से समाए हैं, वे उन्हें नहीं भूल सकतीं।

The document Class 10 Hindi A: CBSE Sample Question Paper- Term I (2021-22) - 4 Notes | Study CBSE Sample Papers For Class 10 - Class 10 is a part of the Class 10 Course CBSE Sample Papers For Class 10.
All you need of Class 10 at this link: Class 10

Related Searches

Free

,

Class 10 Hindi A: CBSE Sample Question Paper- Term I (2021-22) - 4 Notes | Study CBSE Sample Papers For Class 10 - Class 10

,

Class 10 Hindi A: CBSE Sample Question Paper- Term I (2021-22) - 4 Notes | Study CBSE Sample Papers For Class 10 - Class 10

,

Class 10 Hindi A: CBSE Sample Question Paper- Term I (2021-22) - 4 Notes | Study CBSE Sample Papers For Class 10 - Class 10

,

Previous Year Questions with Solutions

,

mock tests for examination

,

Summary

,

video lectures

,

Objective type Questions

,

MCQs

,

practice quizzes

,

pdf

,

Viva Questions

,

shortcuts and tricks

,

study material

,

Semester Notes

,

Exam

,

Extra Questions

,

past year papers

,

Sample Paper

,

Important questions

,

ppt

;