Class 10 Hindi A: CBSE Sample Question Paper- Term I (2021-22) - 2 Notes | Study CBSE Sample Papers For Class 10 - Class 10

Class 10: Class 10 Hindi A: CBSE Sample Question Paper- Term I (2021-22) - 2 Notes | Study CBSE Sample Papers For Class 10 - Class 10

The document Class 10 Hindi A: CBSE Sample Question Paper- Term I (2021-22) - 2 Notes | Study CBSE Sample Papers For Class 10 - Class 10 is a part of the Class 10 Course CBSE Sample Papers For Class 10.
All you need of Class 10 at this link: Class 10

कक्षा 10
समय: 1:30 घण्टा
पूर्णांक: 40

सामान्य निर्देश:
(i) इस प्रश्नपत्र में तीन खंड हैं- खंड-क, खंड-ख और खंड-ग
(ii) इस प्रश्नपत्र में कुल 10 वस्तुपरक प्रश्न पूछे गए हैं। सभी प्रश्नों में उपप्रश्न दिए गए हैं। दिए गए निर्देशों का पालन करते हुए प्रश्नों के उत्तर दीजिए।
(iii) खंड-क में कुल 20 प्रश्न पूछे गए हैं, दिए गए निर्देशों का पालन करते हुए केवल 10 प्रश्नों के ही उत्तर दीजिए।
(iv) खंड-ख में कुल 20 प्रश्न पूछे गए हैं, दिए गए निर्देशों का पालन करते हुए केवल 16 प्रश्नों के ही उत्तर दीजिए।
(v) खंड-ग में कुल 14 प्रश्न पूछे गए हैं। सभी प्रश्न अनिवार्य हैं।
(vi) सही उत्तर वाले गोले को भली प्रकार से केवल नीली या काली स्याही वाले बॉल पॉइंट पेन से ही ओ.एम.आर.शीट में भरें।


खंड-क

नीचे दो अपठित गद्यांश दिए गए हैं। किसी एक गद्यांश को ध्यानपूर्वक पढ़िए और उस पर आधारित प्रश्नों के सही विकल्प चुनकर लिखिए
ताजमहल, महात्मा गांधी और दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र-इन तीन बातों से दुनिया में हमारे देश की ऊँची पहचान है। ताजमहल भारत की अंतरात्मा की, उसकी बहुलता की एक धवल धरोहर है। यह सांकेतिक ताज आज खतरे में है। उसको बचाए रखना बहुत जरूरी है।
मजहबी दर्द को गांधी दूर करते गए। दुनिया जानती है, गांधीवादी नहीं जानते हैं। गांधीवादी उस गांधी को चाहते हैं जो कि सुविधाजनक है। राजनीतिज्ञ उस गांधी को चाहते हैं जो कि और भी अधिक सुविधाजनक है। आज उस असुविधाजनक गांधी का पुनः आविष्कार करना चाहिए, जो कि कड़वे सच बताए, खुद को भी और औरों को भी।
अंत में तीसरी बात लोकतंत्र की। हमारी जो पीड़ा है, वह शोषण से पैदा हुई है, लेकिन आज विडंबना यह है कि उस शोषण से उत्पन्न पीड़ा का भी शोषण हो रहा है। यह है हमारा ज़माना। लेकिन अगर हम अपने पर विश्वास रखें और अपने पर स्वराज लाएँ तो हमारा ज़माना बदलेगा। खुद पर स्वराज तो हम अपने अनेक प्रयोगों से पा भी सकते हैं। लेकिन उसके लिए अपनी भूलें स्वीकार करना, खुद को सुधारना बहुत आवश्यक होगा।
प्रश्न.1: संसार में भारत को जाना जाता है।
(क) ताजमहल के सौन्दर्य के आकर्षण के कारण।
(ख) महात्मा गांधी के अहिंसा और सत्य के कारण।
(ग) ताज, महात्मा गांधी और लोकतंत्रीय प्रणाली के कारण।
(घ) अपनी धवल धरोहर के कारण।

सही उत्तर विकल्प है (ग)


प्रश्न.2: लेखक गांधी के किस रूप को अपनाने की बात कहता है।
(क) जो सुविधाजनक हो।
(ख) जो कटु सत्य कहने में पीछे नहीं हटे।
(ग) जो मजहबी दर्द पर मरहम लगाए।
(घ) जो सत्य और अहिंसा का पाठ पढ़ाए। 

सही उत्तर विकल्प है (ख)


प्रश्न.3: लोकतंत्र में भी हमारी पीड़ा का कारण है।
(क) शोषण।
(ख) उपेक्षा।
(ग) सरकारें।
(घ) अविश्वास। 

सही उत्तर विकल्प है (क)


प्रश्न.4: 'खुद पर स्वराज' कैसे लाया जा सकता है।
(क) जब सब जगह अपना राज हो।
(ख) लोकतंत्र को बढ़ावा देकर।
(ग) अपनी गलतियाँ मानकर और स्वयं को सुधार कर।
(घ) भ्रष्टाचार को रोककर। 

सही उत्तर विकल्प है (ग)


प्रश्न.5: गद्यांश के लिए उचित शीर्षक होगा।
(क) धवल धरोहर।
(ख) भारत।
(ग) सौंदर्य प्रतीक ताजमहल।
(घ) हमारी पहचान।

सही उत्तर विकल्प है (घ)


अथवा 

चंपारण सत्याग्रह के बीच जो लोग गांधीजी के संपर्क में आए वे आगे चलकर देश के निर्माताओं में गिने गए। चंपारण में गांधीजी न सिर्फ सत्य और अहिंसा का सार्वाजनिक हितों में प्रयोग कर रहे थे बल्कि हलुवा बनाने से लेकर सिल पर मसाला पीसने और चक्की चलाकर गेहूँ का आटा बनाने की कला भी उन बड़े वकीलों को सिखा रहे थे, जिन्हें गरीबों की अगुवाई की जिम्मेदारी सौंपी जानी थी। अपने इन आध्यात्मिक प्रयोगों के माध्यम से वे देश की गरीब जनता की सेवा करने और उनकी तकदीर बदलने के साथ देश को आजाद कराने के लिए समर्पित व्यक्तियों की एक ऐसी जमात तैयार करना चाह रहे थे जो सत्याग्रह की भट्टी में उसी तरह तपकर निखरे, जिस तरह भट्टी में सोना तपकर निखरता और कीमती बनता है।
गांधीजी की मान्यता थी कि एक प्रतिष्ठित वकील और हज़ामत बनाने वाले हज्जाम के पेशे के लिहाज़ से कोई फर्क नहीं, दोनों की हैसियत एक ही है। उन्होंने पसीने की कमाई को सबसे अच्छी कमाई माना और शारीरिक श्रम को अहमियत देते हुए उसे उचित प्रतिष्ठा व सम्मान दिया था। कोई काम बड़ा नहीं, कोई काम छोटा नहीं, इस मान्यता को उन्होंने स्थापित करना चाहा। मर्यादाओं और मानव-मूल्यों को उन्होंने प्राथमिकता दी ताकि साधन शुद्धता की बुनियाद पर एक ठीक समाज खड़ा हो सके। आज़ाद हिन्दुस्तान आत्मनिर्भर, स्वावलंबी और आत्म-सम्मानित देश के रूप में विश्व बिरादरी के बीच अपनी एक खास पहचान बनाए और फिर उसे बरकरार भी रखे।
प्रश्न.1: गांधीजी बड़े वकीलों को हलुवा बनाना और सिल पर मसाला पीसना क्यों सिखाना चाहते थे?
(क) वे गरीब जनता की सेवा करने में हिचकिचाएंगे नहीं।
(ख) आत्मनिर्भर बनने के लिए जरूरी था।
(ग) सार्वजनिक हित के लिए अतिआवश्यक था।
(घ) सत्याग्रह का अनोखा तरीका था। 

सही उत्तर विकल्प है (क)


प्रश्न.2: गांधीजी आध्यात्मिक प्रयोग क्यों कर रहे थे?
(क) आज़ादी के प्रति समर्पित लोगों का समूह तैयार करने के लिए।
(ख) सोने को कुंदन बनाने के लिए।
(ग) स्वास्थ्य ठीक रखने के लिए।
(घ) अंग्रेजी शासन को अपनी ताकत दिखाने के लिए। 

सही उत्तर विकल्प है (क)


प्रश्न.3: व्यवसाय को लेकर गांभीजी के क्या विचार थे?
(क) उन्होंने पसीने की कमाई को सबसे अच्छी कमाई माना।
(ख) कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं, सभी पेशे एक समान हैं।
(ग) शारीरिक श्रम से ही आजादी मिलेगी।
(घ) सब अपना-अपना काम ठीक से करें।

सही उत्तर विकल्प है (ग)


प्रश्न.4: गांधीजी ने अच्छे समाज के निर्माण के लिए महत्त्व दिया
(क) आत्मनिर्भरता को।
(ख) मर्यादाओं और मानव मूल्यों को।
(ग) अहिंसा को।
(घ) बुनियादी शिक्षा को।

सही उत्तर विकल्प है (ख)


प्रश्न.5: आज़ाद हिन्दुस्तान आत्मनिर्भर, स्वावलंबी और आत्म-सम्मानित बने– यह विचार प्रमाण था गांधीजी की
(क) देशभक्ति का।
(ख) आध्यात्मिकता का।
(ग) बहादुरी का।
(घ) समझदारी का।

सही उत्तर विकल्प है (क)


नीचे दो काव्यांश दिए गए हैं। किसी एक काव्यांश को ध्यानपूर्वक पढ़िए और उस पर आधारित प्रश्नों के उत्तर सही विकल्प चुनकर लिखिए
(i)
जो बीत गई सो बात गई।
जीवन में एक सितारा था,
माना, वह बेहद प्यारा था,
वह डूब गया तो डूब गया।
अंबर के आनन को देखो,
कितने इसके तारे टूटे,
कितने इसके प्यारे छूटे,
जो छूट गए फिर कहाँ मिले;
पर बोलो टूटे तारों पर,
कब अंबर शोक मनाता है?
जो बीत गई सो बात गई।
(ii) 

जीवन में वह था एक कुसुम,
थे उस पर नित्य निछावर तुम,
वह सूख गया तो सूख गया;
मधुबन की छाती को देखो,
सूखी कितनी इसकी कलियाँ,
मुरझाई कितनी वल्लरियाँ
जो मुरझाई फिर कहाँ खिली,
पर बोलो सूखे फूलों पर,
कब मधुबन शोर मचाता है?
जो बीत गई सो बात गई।
प्रश्न.1: आपके विचार से 'जीवन में एक सितारा' किसे माना होगा?
(क) ध्रुव वारे को।
(ख) जो सबसे प्रिय हो।
(ग) आंगन में खिले एक फूल को।
(घ) इनमें से कोई नहीं। 

सही उत्तर विकल्प है (ख)


प्रश्न.2: टूटे तारों का शोक कोन नहीं मनाता है?
(क) आकाश।
(ख) बादल।
(ग) धरा।
(घ) समुद्र। 

सही उत्तर विकल्प है (क)


प्रश्न.3: 'मधुवन' किसका प्रतीकार्थ है?
(क) बगीचे का।
(ख) संसार का।
(ग) जंगल का।
(घ) पहाड़ का। 

सही उत्तर विकल्प है (ख)


प्रश्न.4: 'जो बीत गई सो बात गई' से क्या तात्पर्य है?
(क) बीती बातों पर दुःख नहीं मनाना चाहिए।
(ख) बीते अनुभवों को भूलकर आगे बढ़ना चाहिए।
(ग) बीती वातों को सदैव याद रखना चाहिए।
(घ) (क) व (ख) दोनों । 

सही उत्तर विकल्प है (घ)


प्रश्न.5: 'मधुवन की छाती को देखो सूखी कितनी इसकी कलियाँ' में अलंकार है?
(क) मानवीकरण।
(ख) अनुप्रास।
(ग) यमक।
(घ) अतिश्योक्ति।

सही उत्तर विकल्प है (क)


अथवा

(i)

कोई खंडित, कोई कंठित,
कृश बाहु, पसलियाँ रेखांकित,
टहनी सी टाँगें, बढ़ा पेट,
ये नहीं धात्रियों से रक्षित,
ज्यों स्वास्थ्य सेज हो, ये सुख से
लोटते धूल में चिर परिचित!
पशुओं सी भीत मूक चितवन,
प्राकृतिक स्फूर्ति से प्रेरित मन,
तुण तरुओं-से उग-बढ़, झर-गिर,
(ii)
टेढ़े मेढ़े, विकलांग घृणित!
विज्ञान चिकित्सा से वंचित,
ये ढोते जीवन क्रम के क्षण!
कुल मान न करना इन्हें वहन,
चेतना ज्ञान से नहीं गहन,
जग जीवन धारा में बहते
ये मूक, पंगु बालू के कण!
प्रश्न.1: काव्यांश आपके अनुसार किस विषय पर लिखा गया है?
(क) गाँव के बच्चों में कुपोषण की समस्या।
(ख) गाँव के बच्चों में चेतना ज्ञान का अभाव।
(ग) गाँवों में चिकित्सा सुविधाओं का अभाव।
(घ) गाँव के बच्चों की दयनीय दशा का वर्णन। 

सही उत्तर विकल्प है (घ)


प्रश्न.2: दूसरे पद में कवि कह रहा है कि
(क) गाँव में विज्ञान की शिक्षा नहीं दी जा रही है।
(ख) गाँव में शिशु जन्म हेतु पर्याप्त दाइयाँ नहीं हैं।
(ग) गाँव में बच्चे स्वास्थ्य के प्रति सजग रहकर शारीरिक व्यायाम कर रहे हैं।
(घ) गाँव में बच्चे अपने मित्रों के साथ धूल में कुश्ती जैसे खेल खेल रहे हैं।

सही उत्तर विकल्प है (ख)


प्रश्न.3: गाँव के बच्चों की स्थिति कैसी है?
(क) कुपोषित, खिन्न तथा अशिक्षित हैं।
(ख) क्षीणकाय, किन्तु कुल के मान का ध्यान करने वाले हैं।
(ग) प्राकृतिक वातावरण में रहते हुए स्फूर्ति से भरे हुए हैं।
(घ) पशुओं की तरह बलिष्ठ परन्तु असहाय व मूक हैं।

सही उत्तर विकल्प है (क)


प्रश्न.4: काव्यांश में कवि का रवैया कैसा प्रतीत होता है?
(क) वे बच्चों की दशा के विषय में व्यंग कर मनोरंजन करना चाह रहे हैं।
(ख) वे बच्चों की दशा की ओर लोगों का ध्यान आकर्षित करना चाहते हैं।
(ग) वे तटस्थ रहकर बच्चों की शारीरिक व मानसिक दशा का वर्णन कर रहे हैं।
(घ) वे बच्चों की शारीरिक व मानसिक दशा से संतुष्ट प्रतीत होते हैं।

सही उत्तर विकल्प है (ख)

 

प्रश्न.5: 'तृण-तरुओं से उग-बढ़' इस पंक्ति का अर्थ है
(क) घास-फूस की तरह हल्के हैं, इसलिए तिनकों की तरह उड़ रहे हैं।
(ख) पौधों तथा घास की तरह बिना कुछ खाये पिए बढ़ रहे हैं।
(ग) घास तथा पौधों की तरह पैदा हो रहे हैं तथा मर रहे हैं।
(घ) प्राकृतिक वातावरण में घास व पौधों की तरह फल-फूल रहे हैं।

सही उत्तर विकल्प है (ग)


खंड-ख

प्रश्न.1: 'उसके एक इशारे पर लड़कियाँ कक्षा से बाहर निकलकर नारे लगाने लगीं।' संयुक्त वाक्य में बदलिए।
(क) उसके एक इशारे पर लड़कियाँ जो नारे लगाने लगी, कक्षा से बाहर निकल गई।
(ख) उसके एक इशारे पर लड़कियाँ कक्षा से बाहर निकली और नारे लगाने लगी।
(ग) उसका इशारा मिलते ही जो लड़कियाँ कक्षा से बाहर निकल जाती थी, वे नारे लगाने लगी।
(घ) उपर्युक्त सभी।
 

सही उत्तर विकल्प है (ख)
समानाधिकरण समुच्चय बोधक 'और' से दो स्वतन्त्र वाक्यों के जुड़े होने के कारण विकल्प (ख) संयुक्त वाक्य है जबकि विकल्प (क) व (ग) व्यधिकरण समुच्चय बोधक 'जो' से जुड़े होने के कारण मिश्रवाक्य हैं।


प्रश्न.2: 'उन्होंने जेब से चाकू निकाला और खीरा काटने लगे।' सरल वाक्य में बदलिए।
(क) ज्यों ही उन्होंने जेब से चाकू निकाला त्यों ही खीरा काटने लगे।
(ख) उन्होंने जेब से चाकू निकाला किन्तु खीरा काटने लगे।
(ग) वे जेब से चाकू निकालकर खीरा काटने लगे।
(घ) उन्हें खीरे काटने थे इसलिए उन्होंने जेब से चाकू निकाला। 

सही उत्तर विकल्प है (ग)
अन्य विकल्प समुच्चयबोधक 'ज्यों-त्यों. किन्तु, इसलिए' से जुड़े उपवाक्य होने से सरल वाक्य नहीं हैं क्योंकि सरल वाक्य में एक ही उद्देश्य व एक ही विधेय होता है।


प्रश्न.3: 'हालदार साहब को उधर से गुजरते समय मूर्ति में कुछ अन्तर दिखाई दिया।' मिश्र वाक्य में बदलिए।
(क) जब हालदार साहब उभर से गुजर रहे थे, तब उन्हें मूर्ति में कुछ अन्तर दिखाई दिया।
(ख) हालदार साहव उधर से गुजरे और मूर्ति में उन्हें कुछ अन्तर दिखाई दिया।
(ग) हालदार साहब उधर से गुजरे। मूर्ति में उन्हें कुछ अन्तर दिखाई दिया।
(घ) हालदार साहब को मूवि में हर बार कुछ अनार दिखाई देता इसलिए वे हर बार उधर से गुजरते। 

सही उत्तर विकल्प है (क)
क्योंकि यह व्यधिकरण समुच्चयबोधक 'ज्यों-त्यों' से जुड़े दो उपवाक्य हैं जबकि (ख) व (घ) समानाधिकरण समुच्चयबोधकों से जुड़े होने से संयुक्त वाक्य हैं।


प्रश्न.4: 'बालगोविन भगत जानते थे कि अब बुढ़ापा आ गया है।' आश्रित उपवाक्य छाँटकर उसका भेद भी लिखिए।
(क) बालगोबिन भगत जानते थे-संज्ञा आश्रित उपवाक्य।
(ख) बालगोविन भगत जानते थे-विशेषण आश्रित उपवाक्य।
(ग) अब बुढ़ापा आ गया है-संज्ञा आश्रित उपवाक्य।
(घ) अब बुढ़ापा आ गया-विशेषआश्रित उपवाक्य।

सही उत्तर विकल्प है (ग)
चूँकि यह योजक चिह्न 'कि' से शुरू हो रहा है तथा मुख्य उपवाक्य की संज्ञा के स्थान पर प्रयुक्त हुआ है जबकि (क) व (ख) आश्रित उपवाक्य ना होकर प्रधान उपवाक्य है।


प्रश्न.5: 'बच्चे वैसा ही करते हैं जैसा उन्हें सिखाया जाता है। रचना के आधार पर भेद बताइए।
(क) सरल वाक्य।
(ख) मिश्र वाक्य।
(ग) संयुक्त वाक्य।
(घ) साधारण वाक्य।

सही उत्तर विकल्प है (ख)
व्यधिकरण योजक वैसा-जैसा' से जड़े उपवाक्य होने से मिश्रवाक्य है। जबकि संयुक्त वाक्य में दो स्वतंत्र वाक्य समानाधिकरण समुच्चयबोधकों द्वारा जड़े होते हैं।


प्रश्न.6: 'कूजन कंज में आसपास के पक्षी संगीत का अभ्यास करते हैं' कर्मवाच्य में बदलिए।
(क) कूजन कुंज में आसपास के पक्षियों ने संगीत का अभ्यास किया।
(ख) कूजन कुंज में आसपास के पक्षियों द्वारा संगीत का अभ्यास किया जाता है।
(ग) कूजन कुंज में संगीत का अभ्यास किया जाता है आस-पास के पक्षियों द्वारा।
(घ) कूजन कुंज में पक्षी जो आस-पास रहते हैं संगीत का अभ्यास करते हैं। 

सही उत्तर विकल्प है (ख)
कर्मवाच्य में कर्ता के साथ 'से' या 'द्वारा' लगा होता है जो केवल विकल्प (ख) में 'है' जबकि (क) कर्ता के साथ 'ने' विभक्ति होने से कर्तवाच्य हैं।


प्रश्न.7: 'श्यामा द्वारा सुबह-दोपहर के राग बखूबी गाए जाते हैं।' कर्तृवाच्य में बदलिए।
(क) श्यामा से राग बखूबी गाए जाते हैं सुबह-दोपहर के।
(ख) श्यामा से सुबह-दोपहर के राग बखूबी गाए जा सकते हैं।
(ग) श्यामा सुबह-दोपहर के राग बखूची गावी है।
(घ) श्यामा सुबह-दोपहर के राग बखूबी गा सकती है।

सही उत्तर विकल्प है (ग)


प्रश्न.8: निम्न में से कौन-से वाक्यों में भाववाच्य है? 
(क) दर्द के कारण वह चल नहीं सकती।
(ख) दर्द के कारण उससे चला नहीं जाता।
(ग) दर्द में वह चल नहीं पाती।
(घ) दर्द के कारण वह चल नहीं पाएगी। 

सही उत्तर विकल्प है (ख)


प्रश्न.9: निम्न में से कर्तृवाच्य किस वाक्य में नहीं है?
(क) श्यामा के गीत की तुलना बुलबुल के सुगम संगीत से करते हैं।
(ख) मुझसे मंदिर नहीं जाया गया।
(ग) गायिका ने मधुर गीत गया।
(घ) मरीज ने आज खाना खाया। 

सही उत्तर विकल्प है (ख)
चूँकि विकल्प (ख) में कर्ता (मुझ) के साथ | 'से' विभक्ति का प्रयोग होने से यह कर्तवाच्य नहीं है।


प्रश्न.10: 'बुलबुल रात्रि विश्राम अमरूद की डाल पर करती है।' कर्मवाच्य में बदलिए।
(क) बुलबुल रात्रि विश्राम करती है अमरूद की डाल पर।
(ख) बुलबुल के द्वारा रात्रि विश्राम अमरूद की डाल पर किया जाता है।
(ग) बुलबुल से रात्रि विश्राम अमरूद की डाल पर नहीं किया जाता।
(घ) बुलबुल ने अमरूद की डाल पर रात्रि विश्राम किया।

सही उत्तर विकल्प है (ख)


प्रश्न.11: 'यह साइकिल मेरे बड़े भाई की है। रेखांकित पद का परिचय है
(क) विशेषण, सार्वनामिक, स्त्रीलिंग, एकवचन, 'साइकिल' विशेष्य।
(ख) सर्वनाम, पुरुषवाचक, अन्यपुरुष, एकवचन, 'है' क्रिया का कर्ता।
(ग) संज्ञा, जातिवाचक, एकवचन, नपुंसकलिंग,'है' क्रिया का कर्ता।
(घ) विशेषण, सार्वनामिक, एकवचन, नपुंसकलिंग, 'साहकिल' विशेष्य। 

सही उत्तर विकल्प है (क)


प्रश्न.12: 'माँ की याद आती है।' रेखांकित पद का परिचय है
(क) संज्ञा, व्यक्तिवाचक, स्त्रीलिंग, एकवचन, संबंधकारक।
(ख) संज्ञा, जातिवाचक, स्त्रीलिंग, एकवचन, संबंधकारक।
(ग) संज्ञा, व्यक्तिवाचक, स्त्रीलिंग, बहुवचन, कर्मकारक।
(घ) संज्ञा, जातिवाचक, स्त्रीलिंग, एकवचन, कर्मकारक।

सही उत्तर विकल्प है (ख)
'माँ' संज्ञा (जातिवाचक) हैं। 'माँ' स्त्रीलिंग व एकवचन है। 'की' विभक्ति होने पर सम्बन्धकारक है।


प्रश्न.13: 'मधुर गाने तो सदा ही सुनने को मिलते।' रेखांकित पद का परिचय है
(क) क्रियाविशेषण, कालवाचक, 'मिलते' क्रिया का विशेषण।
(ख) क्रियाविशेषण, रीतिवाचक, 'मिलते' क्रिया का विशेषण।
(ग) विशेषण, कालवाचक, 'सुनना',विशेष्य।
(घ) विशेषण, रौतिवाचक, 'सुनना' विशेष्य।
 

सही उत्तर विकल्प है (क)
रेखांकित पद 'सदा ही' मिलते क्रिया की विशेषता बताने के कारण क्रिया विशेषण है। चूंकि यह क्रिया के काल का बोध करा रहा है अतः कालवाचक क्रिया विशेषण है।


प्रश्न.14: 'सूर्योदय हुआ और पक्षी चहचहाने लगे।
(क) सम्बन्धबोधक अव्यय।
(ख) समुच्चयबोधक अव्यय।
(ग) विस्मयबोधक अव्यय।
(घ) निपात। 

सही उत्तर विकल्प है (ख)


प्रश्न.15: 'रवि रोज सवेरे दौड़ता है।' रेखांकित पद का परिचय है
(क) व्यक्तिवाचक संज्ञा पुरिलग, एकवचन, कर्ताकारक।
(ख) जातिवाचक संज्ञा, पुल्लिग, एकवचन, कर्ताकारक।
(ग) सर्वनाम, पुरुषवाचक, पुल्लिग, एकवचन, कर्मकारक।
(घ) सर्वनाम, व्यक्तिवाचक, पुल्लिंग, एकवचन, कर्मकारक।

सही उत्तर विकल्प है (क)
रेखांकित पद व्यक्ति विशेष का नाम होने के। कारण व्यक्तिवाचक संज्ञा है। 'रवि' पुरुष होने से पुल्लिंग है। 'दौड़ने' की क्रिया को 'रवि' द्वारा किए जाने से वह कर्ताकारक है।


प्रश्न.16: 'रति' किस रस का स्थायी भाव है?
(क) शांत।
(ख) हास्य।
(ग) वीभत्स।
(घ) शृंगार।

सही उत्तर विकल्प है (घ)


प्रश्न.17: संचारी भावों की संख्या कितनी होती है?
(क) 30
(ख) 33
(ग) 45
(घ) 48 

सही उत्तर विकल्प है (ख)
जो भाव स्थायी भाव को पुष्ट करते हैं उन्हें संचारी भाव कहते हैं। निर्वेद, आवेग, दैन्य, श्रम, मद, जड़ता आदि कुल 33 संचारी भाव हैं।


प्रश्न.18: घृणित वस्तुओं को देखकर अथवा उनके बारे में सुनकर मन में जो भाव उत्पन्न होता है, उससे किस रस की उत्पत्ति होती है?
(क) भयानक।
(ख) रौद्र।
(ग) वीभत्स।
(घ) करुण।

सही उत्तर विकल्प है (ग)


प्रश्न.19: 'करुण' रस का स्थायी भाव क्या है?
(क) वीर।
(ख) हास्य।
(ग) श्रृंगार।
(घ) शोक।

सही उत्तर विकल्प है (घ)


प्रश्न.20: निम्नलिखित पंक्तियों में रस पहचानकर लिखिए:
मैं सत्य कहता हूँ सखे! सुकुमार मत जानो मुझे,
यमराज से भी युद्ध को प्रस्तुत सदा मानो मुझे।
(क) वीभत्स रस।
(ख) श्रृंगार रस
(ग) हास्य रस।
(घ) वीर रस।

सही उत्तर विकल्प है (घ)


खंड-ग

निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के सही विकल्प चुनकर लिखिए 
नहीं साहब। ये लँगड़ा क्या जाएगा फ़ौज में। पागल है पागल ! वो देखो, वो आ रहा है। आप उसी से बात कर सो। फोटो-वोटो उपवा दो उसका कहीं। हालदार साहब को पान वाले द्वारा एक देशभक्त का इस तरह मजाक उड़ाया जाना अच्छा नहीं लगा। मुड़कर देखा तो अवाक रह गए। एक बेहद बड़ा मरियल-सा सँगड़ा आदमी सिर पर गाँधी टोपी और ऑया पर काला चश्मा लगाए एक छोटी-सी संदूकची और दूसरे हाथ में एक बॉस पर ही बहुत-से चश्मे लिए अभी-अभी एक गली से निकला था और अब एक बन्द दुकान के सहारे अपना बॉस टिका रहा था। तो इस बेचारे की दुकान भी नहीं ! फेरी सगाता है। हासदार साहब चक्कर में पड़ गए। पूछना चाहते थे, इस कंटन क्यों कहते हैं? क्या यही उसका वास्तविक नाम है? लेकिन पान वाले ने सारु बता दिया था कि अब वह इस बारे में और बात करने को तैयार नहीं।
प्रश्न.1: प्रस्तुत गद्यांश में देशभक्त किसे कहा गया है?
(क) हालदार साहब का।
(ख) कैप्टन चश्में वाले को।
(ग) सामान्य आदमी को।
(घ) लेखक को। 

सही उत्तर विकल्प है (ख)
कैप्टन चश्मेवाला नेताजी की चश्माविहीन मूर्ति को नेताजी का अपमान मान उस पर चश्मा लगाता था तथा उसके मन में देशभक्तों व देश के प्रति आदर का भाव था।


प्रश्न.2: पान वाले की कौन-सी बात हालदार साहब को अच्छी नहीं लगी?
(क) मूर्ति बनाने वाले का अपमान।
(ख) हालदार साहब पर हँसना।
(ग) मूर्तिकार के कार्य पर टीका-टिप्पणी।
(घ) एक देशभक्त का मजाक उड़ाना।

सही उत्तर विकल्प है (घ)
कैप्टन एक देशभक्त था। पाने वाले द्वारा कैप्टन को पागल व लँगड़ा कहना और उसका मजाक उड़ाना हालदार साहब को अच्छा नहीं लगा।


प्रश्न.3: चश्मे वाला एक बन्द दुकान के सहारे अपना बांस क्यों टिका रहा था?
(क) उसकी अपनी कोई दुकान नहीं थी।
(ख) उसे किसी से बात करनी थी।
(ग) यह दुकान बाज़ार के बीचों-बीच थी।
(घ) वह उसके जानकार की दुकान थी।
 

सही उत्तर विकल्प है (क)
चश्मे वाले की अपनी कार दुकान नहीं थी। वह बॉस पर चश्मे टांग कर फेरी लगाता था।


प्रश्न.4: हालदार साहब पान वाले से कैप्टन चश्मे वाले के बारे में क्या पूछना चाहते थे?
(क) चश्मेवाला फेरी क्यों लगाता है?
(ख) वह चश्मे कब से बेच रहा है?
(ग) इसे कैप्टन क्यों कहते हैं?
(घ) वह कहाँ रहता है? 

सही उत्तर विकल्प है (ग)
हालदार साहब सोचते थे कि चश्मे बाला नेताजी की आजाद हिन्द फौज का सिपाही है या कोई स्वतंत्रता सेनानी। अत: वह पानेवाले से चश्मेवाले को कैप्टन कहे जाने का कारण जानना चाहता था।


प्रश्न.5: हालदार साहब किस कारण कैप्टन के बारे में और जानकारी प्राप्त नहीं कर सके?
(क) पानवाले ने इस बारे में बात करने से मना कर दिया।
(ख) पानवाला कैप्टन के बारे में अधिक नहीं जानता था।
(ग) हालदार साहब के पास समय की कमी थी।
(घ) कैप्टन ने जानकारी देने से मना कर दिया। 

सही उत्तर विकल्प है (क)


निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर सही विकल्प चुनकर लिखिए
प्रश्न.6: बेटे की मृत्यु के पश्चात् बालगोबिन भगत का आखिरी निर्णय क्या था?
(क) पतोहू का पुनर्विवाह करवाना।
(ख) पतोर को शिक्षा दिलवाना।
(ग) पतोहू को घर से निकालना।
(घ) पतोहू से घृणा करना। 

सही उत्तर विकल्प है (क)
अपने जवान बेटे की मृत्यु के बाद बालगोबिन भगत नहीं चाहते थे कि उनकी पतोहू अपना जीवन विधवा बन कर काटे तथा सभी वैवाहिक सुखों से वंचित रहे।


प्रश्न.7: लेखक रामवृक्ष बेनीपुरी जी बालगोबिन भगत की किस विशेषता पर अत्यधिक मुग्ध थे? 
(क) पहनावे पर।
(ख) व्यवहार पर।
(ग) मधुर गान पर।
(घ) कार्य कुशलता पर।

सही उत्तर विकल्प है (ग)


निम्नलिखित काव्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के सही विकल्प चुनकर लिखिए 
नाथ सम्भुधनु भंजनिहारा। होइहि केउ एक दास तुम्हारा।।
आयेसु काह कहिअ किन मोही। सुनि रिसाइ बोले मुनि कोही।।
सेवकु सो जो करै सेवकाई। अरिकरनी करि करिअ लराई।।
सुनहु राम जेहि सिवधनु तोरा। सहसबाहु सम सो रिपु मोरा।।
सो बिलगाउ बिहाइ समाजा। न त मारे जैहहिं सब राजा।।
सुनि मुनि बचन लखन मुसुकाने। बोले परसुधरहि अपमाने।।
बहु भनुली तोरी लरिकाई। कबहुँ न असि रिस कीन्हि गोसाई।।
येहि धनु पर ममता केहि हेतू। सुनि रिसाइ कह भृगुकुलकेतू।।
रे नृप बालक काल अस बोलत तोहि न संभार।
धनुही सम त्रिपुरारी धनु बिदित सकल संसार।।
प्रश्न.8: परशुराम के क्रोध को शांत करने के लिए राम ने उनसे क्या कहा?
(क) धनुष तोड़ने वाला कोई राजकुमार है।
(ख) धनुष तोड़ने वाला आपका कोई सेवक होगा।
(ग) धनुष तोड़ने वाला आपका कोई मित्र होगा।
(घ) यह धनुष अपने आप टूट गया। 

सही उत्तर विकल्प है (ख)
परशुराम के क्रोधित होने पर राम ने उन्हें शांत करने के उद्देश्य से धनुष तोड़ने वाले को परशुराम का दास बताकर उन्हें महामंडित करने का प्रयास किया।


प्रश्न.9: स्वयंवर में जो धनुष टूट गया था, वह किसका धनुष था?
(क) राजा जनक का।।
(ख) राम का।
(ग) विष्णु जी का।
(घ) परशुराम जी के आराध्य शिवजी का। 

सही उत्तर विकल्प है (घ)


प्रश्न.10: शिव-धनुष टूटने पर परशुराम क्रोधित क्यों हुए?
(क) परशुराम जी शिव-भक्त थे और उन्हें शिव-धनुष प्रिय था।
(ख) उन्हें सीता स्वयंवर में आमन्त्रित नहीं किया गया था।
(ग) वे क्षत्रिय कुल के विद्रोही थे।
(घ) परशुराम जी क्रोधी स्वभाव के थे।

सही उत्तर विकल्प है (क)
परशुराम शिव के भक्त तथा शिष्य थे। उन्हें शिव को वस्तु प्रिय थी। शिव-धनुष का टूटना उन्हें अपने गुरु का अपमान लगा।


प्रश्न.11: 'भृगुकुलकेतू' किसे कहा गया है?
(क) लक्ष्मण को।
(ख) राजा जनक को।
(ग) परशुराम को।
(घ) विश्वामित्र को।

सही उत्तर विकल्प है (ग)


प्रश्न.12: शिव-धनुष तोड़ने वाले की तुलना परशुराम ने अपने किस शत्रु से की है?
(क) कर्ण।
(ख) सहसबाहु।
(ग) घटोत्कच।
(घ) दुर्योधन।

सही उत्तर विकल्प है (ख)


निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर सही विकल्प चुनकर लिखिए
प्रश्न.13: गोपियों के अनुसार किसने राजनीति की शिक्षा प्राप्त कर ली है?
(क) कंस ने।
(ख) नंद ने।
(ग) श्री कृष्ण ने।
(घ) उद्धव ने।
 

सही उत्तर विकल्प है (ग)
गोपियों के अनुसार कृष्ण पहले से चतुर थे और गुरु संदीपन से राजनीति की शिक्षा प्राप्त कर और अधिक चतुराई सीख गए हैं।


प्रश्न.14: 'सूरदास के पद' के आधार पर बताइए कि गोपियों ने व्यंग्य कसते हुए किसे भाग्यशाली कहा है?
(क) श्री कृष्ण को।
(ख) उद्धव को।
(ग) सूरदास को।
(घ) स्वयं को।

सही उत्तर विकल्प है (ख)
उद्धव श्रीकृष्ण के मित्र थे और उन्हें मथुरा में रहते थे फिर भी उनका मन श्रीकृष्ण के प्रेम में अनुरक्त नहीं था इसलिए गोपियाँ उन पर व्यंग्य कर उन्हें भाग्यशाली कहती हैं।

The document Class 10 Hindi A: CBSE Sample Question Paper- Term I (2021-22) - 2 Notes | Study CBSE Sample Papers For Class 10 - Class 10 is a part of the Class 10 Course CBSE Sample Papers For Class 10.
All you need of Class 10 at this link: Class 10

Related Searches

MCQs

,

ppt

,

Objective type Questions

,

Free

,

Summary

,

mock tests for examination

,

pdf

,

study material

,

Class 10 Hindi A: CBSE Sample Question Paper- Term I (2021-22) - 2 Notes | Study CBSE Sample Papers For Class 10 - Class 10

,

Previous Year Questions with Solutions

,

practice quizzes

,

Class 10 Hindi A: CBSE Sample Question Paper- Term I (2021-22) - 2 Notes | Study CBSE Sample Papers For Class 10 - Class 10

,

Important questions

,

Viva Questions

,

past year papers

,

Semester Notes

,

shortcuts and tricks

,

Exam

,

Sample Paper

,

video lectures

,

Extra Questions

,

Class 10 Hindi A: CBSE Sample Question Paper- Term I (2021-22) - 2 Notes | Study CBSE Sample Papers For Class 10 - Class 10

;