आधुनिक भारत (History) - UPSC Previous Year Questions Notes | EduRev

अध्यायवार प्रश्न पत्र UPSC Topic Wise Previous Year Question

UPSC : आधुनिक भारत (History) - UPSC Previous Year Questions Notes | EduRev

The document आधुनिक भारत (History) - UPSC Previous Year Questions Notes | EduRev is a part of the UPSC Course अध्यायवार प्रश्न पत्र UPSC Topic Wise Previous Year Question.
All you need of UPSC at this link: UPSC

प्रश्न.1. निम्नलिखित युग्मों पर विचार कीजिएः
आधुनिक भारत (History) - UPSC Previous Year Questions Notes | EduRev
उपर्युक्त में से कौन-सा/से युग्म सही सुमेलित है/हैं? [2019]

(क) केवल 1
(ख) केवल 1 और 2
(ग) केवल 2 और 3
(घ) 1, 2 और 3
उत्तर. 
(घ)
उपाय: 1923 ई. में ‘स्वामी सहजानदं सरस्वती’ ने ‘बिहार किसान सभा’ गठन किया, अखिल भारतीय किसान सभा की स्थापना 11 अप्रैल, 1936 ई. को लखनऊ में किसान नेताओं ‘स्वामी सहजानंद सरस्वती’ की अध्यक्षता में की थी। ई. वी. रामास्वामी एक तमिल राष्ट्रवादी, राजनेता और सामाजिक कार्यकर्ता थे। इन्होंने ‘आत्म सम्मान आन्दोलन’ या ‘द्रविड आन्दोलन’ प्रारंभ किया था। जबकि अखिल भारतीय अस्पृश्यता विरोधी लीग के नायक महात्मा गाँधी थे।

प्रश्न.2. ‘चार्टर एक्ट, 1813’ के संबंध में, निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिएः
(1) इसने भारत में ईस्ट इंडिया कम्पनी के व्यापार एकाधिपत्य को, चाय का व्यापार तथा चीन के साथ व्यापार को छोड़कर, समाप्त कर दिया।
(2) इसने कम्पनी द्वारा अधिकार में लिए गए भारतीय राज्यक्षेत्रों पर ब्रिटिश राज (क्राउन) की सम्प्रभुता को सुदृढ़ कर दिया ।
(3) भारत का राजस्व अब ब्रिटिश संसद के नियंत्रण में आ गया था।
उपर्युक्त में से कौन-से कथन सही हैं? [2019]
 
(क) केवल 1 और 2
(ख) केवल 2 और 3
(ग) केवल 1 और 3
(घ) 1, 2 और 3
उत्तर.
(क)
उपाय: 1793 के चार्टर अधिनियम के बाद एक और महत्त्वपूर्ण 1813 का अधिनियम पारित किया गया। इस अधिनियम द्वारा कपंनी का एकाधिकार समाप्त कर दिया गया यद्यपि उसके चीन के व्यापार का तथा चाय के व्यापार का एकाधिकार चलता रहा। कंपनी के भागीदारों की बहुत हानि नहीं थी क्योंकि उन्हें भारतीय राजस्व से 10.5% लाभांश मिलने लगा था। कपंनी काे और अगले 20 वर्ष के लिए भारतीय प्रदेशों तथा राजस्व पर नियंत्रण का एकाधिकार दे दिया गया यद्यपि यह स्पष्ट कर दिया गया कि इससे इस प्रदेश का क्राउन के प्रभुत्व पर कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पडे़गा।

प्रश्न.3. स्वतंत्र भारत में भूमि सुधारों के संदर्भ में, निम्नलिखित में से कौन-सा कथन सही है?   [2019]
(क) हदबंदी कानून पारिवारिक जोत पर केंद्रित थे, न कि व्यक्तिगत जोत पर।
(ख) भूमि सुधारों का प्रमुख उद्देश्य सभी भूमिहीनों को कृषि भूमि प्रदान करना था।
(ग) इसके परिणामस्वरूप नकदी फसलों की खेती, कृषि का प्रमुख रूप बन गई।
(घ) भूमि सुधारों ने हदबंदी सीमाओं को किसी भी प्रकार की छूट की अनुमति नहीं दी।

उत्तर. (ख)
उपाय: देश की स्वतंत्रता के समय भूमि का स्वामित्व केवल कुछ ही लोगों के हाथाें में केंद्रित था। स्वतंत्र भारत की सरकार का मुख्य ध्यान देश मे समान भू वितरण करना था। 1950 से 60 के दशक में भू स्वामित्व के कानून विभिन्न राज्याें में अधिनियमित किए गए जिन्हें 1972 में केंद्र सरकार के निर्देश पर संशोधित किया गया। इन संसोधन का मुख्य उद्देश्य सभी भूमिहीन काे कृषि भूमि प्रदान करना था। इन उद्देश्यों के अन्तर्गत सरकार ने पूर्व से चली आ रही जमींदारी, रैयतवाड़ी, महलवाड़ी इत्यादि व्यवस्थाओं को समाप्त कर दिया है।

प्रश्न.4. निम्नलिखित घटनाओं पर विचार कीजिए:
(1) भारत के किसी राज्य में सर्वप्रथम लोकतांत्रिक रूप से चुनी गई साम्यवादी दल की सरकार।
(2) भारत का उस समय का सबसे बड़ा बैंक ‘इम्पीरियल बैंक ऑफ इंडिया’ जिसका नाम बदलकर ‘भारतीय स्टेट बैंक’ रखा गया।
(3) एयर इंडिया का राष्ट्रीयकरण किया गया और यह राष्ट्रीय वाहक बन गया।
(4) गोवा स्वतंत्र भारत का अंग बन गया।
निम्नलिखित में से कौन-सा उपर्युक्त घटनाओं का सही कालानुक्रम है?  [2018]

(क) 4-1-2-3
(ख) 3-2-1-4
(ग) 4-2-1-3
(घ) 3-1-2-4
उत्तर
. (ख)
उपाय: 

  1. भारत के किसी राज्य में सर्वप्रथम लोकतांत्रिक रूप से चुनी गयी साम्यवादी दल की सरकार 1957-59
 2.   भारत का उस समय का सबसे बड़ा बैंक ‘इम्पीरियल बैंक ऑफ इण्डिया’ जिसका नाम बदलकर ‘भारतीय स्टेट बैंक’ रखा गया 1955
 3. एयर इण्डिया का राष्ट्रीयकरण किया गया और यह राष्ट्रीय वाहक बन गया 1953
 4. गोवा स्वतंत्र भारत का अगं बन गया 1987


प्रश्न.5. निम्नलिखित विदेशी यात्रियों में से किसने भारत के हीरों और हीरे की खदानों की विस्तृत रूप से चर्चा की? [2018]
(क) फ्रांस्वा बर्नियर
(ख) ज्याँ-बैप्टिस्ट टेवर्नियर
(ग) ज्याँ द थेवेना
(घ) एबे बार्थेलेमी कारे

उत्तर. (ख)
उपाय: ज्याँ-बैप्टिस्ट टेवर्नियर 17वीं शताब्दी का एक प्रसिद्ध यूरोपीय यात्री था। टेवर्नियर एक जौहरी था, जाे साइप्रस, माल्टा, तुर्की, सीरिया, इराक, ईरान, अफगानिस्तान, पाकिस्तान, भारत, श्रीलंका और इंडोनेशिया देशों की एक से अधिक बार यात्रा की थी। सन् 1676 ई. में इसने अपनी दाे खण्डाें काे ज्याँ-बैप्टिस्ट टेवर्नियर (अपनी छः यात्राएँ) नाम से प्रकाशित किया। इस पुस्तक में सबसे यादगार अध्यायाें में से वे हैं, जाे टेवर्नियर ने भारत के हीराें और हीरे की खदानाें तथा इसके साथ ही कोहिनूर हीरे की भी विस्तृत रूप से चर्चा की है।

प्रश्न.6. निम्नलिखित में से कौन 1948 में स्थापित ‘‘हिन्द मज़दूर सभा’’ के संस्थापक थे?   [2018]
(क) बी. कृष्ण पिल्लई, ई.एम.एस. नम्बूदिरिपाद और के.सी. जाॅर्ज
(ख) जय प्रकाश नारायण, दीन दयाल उपाध्याय और एम.एन. राॅय
(ग) सी.पी. रामस्वामी अय्यर, के. कामराज और वीरेशलिंगम पंतुलु
(घ) अशोक मेहता, टी.एस. रामानुजम और जी.जी. मेहता

उत्तर. (घ)
उपाय: हिन्द मजदूर सभा की स्थापना 29 दिसम्बर, 1948 मे समाजवादियों फॉरवर्ड ब्लाकॅ के अनयुायियों तथा स्वतंत्रत यून्यनिस्टों द्वारा कलकत्ता में किया गया। इसके संस्थापक सदस्याें में बसावन सिंह, अशोक मेहता, आर. एस. रूइकर, मनीबेन कारा, शिवनाथ बनर्जी तथा टी.एस. रामानुजम प्रमुख थे। आर. एस. रूइकर काे इसका अध्यक्ष तथा अशोक मेहता काे इसका जनरल सेक्रेटरी बनाया गया था।

प्रश्न.7. निम्नलिखित में से किससे/किनसे भारत में अंग्रेज़ी शिक्षा की नींव पड़ी?
(1) 1813 का चार्टर एक्ट
(2) जनरल कमेटी ऑफ पब्लिक इंस्ट्रक्शन, 1823
(3) प्राच्यविद् एवं आग्लविद् विवाद
नीचे दिए गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिएः [2018]

(क) केवल 1 और 2
(ख) केवल 2
(ग) केवल 1 और 3
(घ) 1, 2 और 3
उत्तर.
(घ)
उपाय: ईस्ट इण्डिया कम्पनी ने शिक्षा के क्षेत्र में दोहरी नीति अपनाई। इसने पूर्वी (प्राच्य) शिक्षा प्रणाली को हतोत्साहित किया तथा पश्चिमी शिक्षा एवं अंग्रेजी भाषा काे महत्त्व दिया। 1813 के चार्टर अधिनियम द्वारा भारत में शिक्षा प्रसार के लिए प्रतिवर्ष 1 लाख रुपये खर्च करने का प्रावधान काे अपनाया। ब्रिटिश संसद में 1813 चार्टर अधिनियम पर शिक्षा से संबंधित लंबी बहस हुई तथा यह मामला अगले 20 वर्षो तक जारी रहा। अंततः आवंटित धन के अलावा एक पैसा भी शिक्षा पर खर्च नहीं किया जा सकता है। भारत में शिक्षा के विकास के मुद्दे पर समकालीन ब्रिटिश विद्वानों को दो वर्गों में बाँटा गया - (i) प्राच्यवादी (Orientalist), ये भारतीय भाषाओं के माध्यम से प्राच्य विषयाें की वकालत किये तथा (ii) आंग्लवादी (Anglicists)], ये अंग्रेजी भाषा के माध्यम से पश्चिमी विज्ञान और साहित्य के विकास की वकालत किये। 1829 में लाॅर्ड बेंटिक ने अंग्रेजी भाषा के माध्यम पर जोर दिया। 1835 की शुरुआत में जनरल कमेटी ऑफ पब्लिक इंस्ट्रक्शन के 10 सदस्याें काे दाे बराबर समूहाें में विभाजित कर दिया गया। समिति के अध्यक्ष सहित पांच सदस्य लाॅर्ड मैकाले ने सार्वजनिक शिक्षा के माध्यम के रूप में अंग्रेजी काे अपनाने के पक्ष में थे, जबकि पांच अन्य प्रादेशिक भाषाओं के पक्ष में थे। अंततः अनेक गतिरोध के पश्चात् बेंटिक काे 7 मार्च, 1835 काे पारित प्रस्ताव मिला और घोषणा कि अब से सरकारी धन का उपयोग पश्चिमी भाषा के माध्यम से विज्ञान और पश्चिमी साहित्य पर जायेगा।

प्रश्न.8. वुड डिस्पैच के बारे में निम्नलिखित में से कौन-से कथन सत्य हैं?
(1) सहायता अनुदान व्यवस्था (ग्रांट्स-इन-एड) शुरू की गई।
(2) विश्वविद्यालयों की स्थापना की सिफारिश की गई।
(3) शिक्षा के सभी स्तरों पर शिक्षण माध्यम के रूप में अंग्रेजी की सिफारिश की गई।
नीचे दिए गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिए: [2018]

(क) केवल 1 और 2
(ख) केवल 2 और 3
(ग) केवल 1 और 3
(घ) 1, 2 और 3
उत्तर.
(क)
उपाय: वुड घोषणा पत्र ‘बोर्ड ऑफ कन्ट्राेल’ के प्रधान चार्ल्स वुड द्वारा 19 जुलाई, 1854 काे जारी किया गया था। इस घोषणा पत्र में भारतीय शिक्षा पर एक व्यापक योजना प्रस्तुत की गई थी, जिसे ‘वुड का डिस्पैच’ कहा गया। इस घोषणा पत्र काे भारतीय शिक्षा का ‘मेग्ना कार्टा’ भी कहा जाता है। प्रस्ताव में पाश्चात्य शिक्षा के प्रसार को सरकार ने अपना उद्देश्य बनाया। उच्च शिक्षा को अंग्रेजी भाषा के माध्यम से दिए जाने पर बल दिया गया, परन्तु साथ ही देसी भाषा के विकास काे भी महत्व दिया गया। ग्राम स्तर पर देशी भाषा के माध्यम से अध्ययन के लिए प्राथमिक पाठशालायें स्थापित हुई और इनके साथ ही जिलों मे हाईस्कूल स्तर के ‘एंग्लो वर्नाक्यूलर’ काॅलेज खोले गये। घोषणा पत्र में सहायता अनुदान दिये जाने पर बल भी दिया गया था। प्रस्ताव के अनुसार ‘लन्दन विश्विद्यालय’ के आदेश पर कलकत्ता, बम्बई एवं मद्रास में एक-एक विश्विद्यालय की स्थापना की व्यवस्था की गई, जिसमें एक कुलपति, उप कुलपति, सीनेट एवं विधि सदस्यों की व्यवस्था की गई।

प्रश्न.9. भारत में औपनिवेशिक शासन के दौरान शैक्षणिक संस्थाओं के सन्दर्भ में, निम्नलिखित युग्मों पर विचार कीजिए:
आधुनिक भारत (History) - UPSC Previous Year Questions Notes | EduRev
उपर्युक्त युग्मों में से कौन-सा/से सही सुमेलित है/हैं? [2018]
(क) 1 और 2
(ख) केवल 2
(ग) 1 और 3
(घ) केवल 3
उत्तर.
(ख)
उपाय: सही सुमेलन है -
आधुनिक भारत (History) - UPSC Previous Year Questions Notes | EduRev

प्रश्न.10. निम्नलिखित में से कौन-सी घटना सबसे पहले हुई? [2018]
(क) स्वामी दयानंद ने आर्य समाज की स्थापना की।
(ख) दीनबंधु मित्र ने नीलदर्पण का लेखन किया।
(ग) बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय ने आनंदमठ का लेखन किया।
(घ) सत्येन्द्रनाथ टैगोर इंडियन सिविल सर्विस परीक्षा में सफलता पाने वाले प्रथम भारतीय बने।

उत्तर. (ख)
उपाय: 
आधुनिक भारत (History) - UPSC Previous Year Questions Notes | EduRev

प्रश्न.11. आर्थिक तौर पर, 19वीं शताब्दी में भारत पर अंग्रेज शासन का एक परिणाम था   [2018]
(क) भारतीय हस्त-शिल्पों के निर्यात में वृद्धि
(ख) भारतीयों के स्वामित्व वाले कारखानों की संख्या में वृद्धि
(ग) भारतीय कृषि का वाणिज्यीकरण
(घ) नगरीय जनसंख्या में तीव्र वृद्धि

उत्तर. (ग)
उपाय: ब्रिटिश शासन के दौरान भारतीय कृषि का वाणिज्यीकरण हुआ। यद्यपि कृषि वस्तुओं मे बाजार और व्यापार काफी संगठित था और पूर्व ब्रिटिश काल मे ये बडे़ पैमाने पर था, लेकिन ब्रिटिश काल में बाजार वृद्धि ने गुणात्मक एवं मात्रात्मक अन्तर को चिन्हित किया।

प्रश्न.12. लाॅर्ड वेलेज़ली द्वारा लागू की गई सहायक संधि व्यवस्था के बारे में निम्नलिखित में से कौन-सा कथन लागू नहीं होता? [2018]
(क) दूसरों के खर्च पर एक बड़ी सेना बनाए रखना
(ख) भारत को नेपोलियन के खतरे से सुरक्षित रखना
(ग) कंपनी के लिए एक नियत आय का प्रबन्ध करना
(घ) भारतीय रियासतों के ऊपर ब्रिटिश सर्वोच्चता स्थापित करना

उत्तर. (ग)
उपाय: ब्रिटिश भारत के गर्वनर जनरल लाॅर्ड वेलेजली (1798-1805) ने सहायक संधि का सिद्धांत (The doctrine of subsidiary alliance) प्रस्ततु किया था, जिसका उद्देश्य भारत मे अंग्रेजी सत्ता की श्रेष्ठता स्थापित करने तथा फ़्रांसीसियों के भय को समाप्त करना था। सहायक संधि करने वाले बड़े राज्याें के लिए यह आवश्यक था कि वे किसी अंग्रेज सैन्य अधिकारी द्वारा नियंत्रित एक सैन्य टुकड़ी को अपने राज्य में रखें तथा बदले में पूर्ण प्रभुसत्ता वाले क्षेत्र कम्पनी काे दें। छोटे स्तर के राज्य बदले में नकद धन दिया करते थे। सहायक संधि स्वीकार करने वाले राज्यों को हर प्रकार के शत्रुओं से रक्षा करना था तथा नेपोलियन जैसे खतरे से भारत को सुरक्षित करना था।

प्रश्न.13. 18वीं शताब्दी के मध्य इंग्लिश ईस्ट इंडिया कम्पनी के द्वारा बंगाल से निर्यातित प्रमुख पण्यपदार्थ (स्टेपल कमोडिटीज़) क्या थे? [2018]
(क) अपरिष्कृत कपास, तिलहन और अफ़ीम
(ख) चीनी, नमक, जस्ता और सीसा
(ग) ताँबा, चाँदी, सोना, मसाले और चाय
(घ) कपास, रेशम, शोरा और अफ़ीम

उत्तर. (घ)
उपाय: 1750 के दशक मे भारत से यूरोप, एशिया और अफ्रीका  में Fine Cotton तथा रेशम का निर्यात किया जाता था। 1780 से 1860 की अवधि के दौरान भारत प्रसंस्कृति वस्तुओं के निर्यातक से परिवर्तित होकर कच्चे माल का निर्यातक हाे गया। यह निर्मित वस्तुओं का एक खरीदार बन गया। 18वीं शताब्दी के मध्य कपास, रेशम, शोरा और अफीम कम्पनी के द्वारा बंगाल से निर्यातित प्रमुख पण्य पदार्थ थे।

प्रश्न.14. भारत के सांस्कृतिक इतिहास के सन्दर्भ में, निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
(1) त्यागराज की अधिकांश कृतियाँ भगवान कृष्ण की स्तुति के भक्ति गीत हैं।
(2) त्यागराज ने अनेक नए रागों का सृजन किया।
(3) अन्नमाचार्य और त्यागराज समकालीन हैं।
(4) अन्नमाचार्य कीर्तन भगवान वेंकटेश्वर की स्तुति के भक्ति गीत हैं।
उपर्युक्त कथनों में से कौन-से सही हैं? [2018]

(क) केवल 1 और 3
(ख) केवल 2 और 4
(ग) 1, 2 और 3
(घ) 2, 3 और 4
उत्तर. 
(ख)
उपाय: त्यागराज ‘कर्नाटक संगीत’ के सबसे बड़े प्रतिपादकाें में एक थे। ये कर्नाटक संगीत के महान ज्ञाता तथा भक्ति मार्ग के एक प्रसिद्ध कवि थे। इन्होंने भगवान श्रीराम काे समर्पित भक्ति गीताें की रचना की थी। उनके सर्वश्रेष्ठ गीत ‘पंचरत्न कृति’ अक्सर धार्मिक आयोजनों में गाये जाते हैं। अन्नमाचार्य 15वीं शताब्दी के एक प्रसिद्ध हिन्दू सतं तथा संगीतकार थे। इन्होंने वेंकटेश्वर की स्तुति में गीतों की रचना की जिसे संकीर्तन कहा जाता है।

प्रश्न.15. सर स्टैफर्ड क्रिप्स की योजना में वह परिकल्पना थी कि द्वितीय युद्ध के बाद   [2016]
(क) भारत को पूर्ण स्वतंत्रता प्रदान की जानी चाहिए
(ख) स्वतंत्रता प्रदान करने से पहले भारत को दो भागों में विभाजित कर देना चाहिए
(ग) भारत को इस शर्त के साथ गणतंत्र बना देना चाहिए कि वह राष्ट्रमंडल में शामिल होगा
(घ) भारत को डोमिनियम स्टेटस दे देना चाहिए
उत्तर. 
(घ)
उपाय: 
(i) सर स्टैफर्ड क्रिप्स की योजना का मुख़्य प्रस्ताव था कि भारतीय संघ को उपनिवेशिक पद के साथ स्थापित किया जाएगा; यह राष्ट्रमंडल के साथ अपने संबंधाें का निर्णय लेने के लिए मुक्त होगा और संयुक्त राष्ट्र तथा अन्य अंतर्राष्ट्रीय संस्थानाें में भी भाग लेने के लिए मुक्त होगा।
(ii) क्रिप्स ने द्वितीय विश्व युद्ध के बाद से भारत काे अधिराज्य पद देने का प्रस्ताव किया था।

प्रश्न.16. वर्ष 1907 में सूरत में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के विभाजन का मुख्य कारण क्या था?   [2016]
(क) लाॅर्ड मिन्टो द्वारा भारतीय राजनीति में साम्प्रदायिकता का प्रवेश करना।
(ख) अंग्रेजी सरकार के साथ नरमपंथियों की वार्ता करने की क्षमता के बारे में चरमपंथियों में विश्वास का अभाव
(ग) मुस्लिम लीग की स्थापना
(घ) भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का अध्यक्ष निर्वाचित हो सकने में अरविंद घोष की असमर्थता

उत्तर. (ख)
उपाय: 
(i) उग्रवादी और नरमपंथी दोनों ही हठी थे। उग्रवादी सोचते थे कि लोगो काे उत्साहित किया जाए और स्वतंत्रता के लिए लड़ाई चालू की जाए। उन्हें लगा कि ब्रिटिशाें काे बाहर उखाड़ फेंकने का यह सही समय है और नरमपंथी उनके राह में बाधक है।
(ii) सूरत विभाजन इसलिए हुआ क्योंकि उग्रवादी, नरमपंथियाें की अंग्रेजाें से बात करने की क्षमता से असंतुष्ट थे।

प्रश्न.17. निम्नलिखित पर विचार कीजिएः
(1) कलकत्ता यूनिटेरियन कमेटी
(2) टेबरनेकल ऑफ न्यू डिस्पेंसेशन
(3) इंडियन रिफार्म असोसिएशन
केशव चंद्र सेन का सबंधं उपयुक्त में से किसकी/किनकी स्थापना से है? [2016]
(क) केवल 1 और 2
(ख) केवल 2 और 3
(ग) केवल 3
(घ) 1, 2 और 3

उत्तर. (ख)
उपाय: 1881 में केशवचंद्र सेन ने ब्रह्मसमाज में मतभेद होने के बाद नया विधान अर्थात् सर्वधर्म समाज की स्थापना की। यह भी ब्रह्मा विवाह काे वैध बनाने और शादी की न्यूनतम उम्र तय करने के लिए भारतीय सुधार संघ का हिस्सा था। कलकत्ता यूनिटेरियन समाज की स्थापना राजा राममोहन राय, द्वारकानाथ टैगोर और विलियम एडम ने की।

प्रश्न.18. माॅन्टेग्यू-चेम्सफोर्ड प्रस्ताव किससे संबंधित थे? [2016]
(क) सामाजिक सुधार
(ख) शैक्षिक सुधार
(ग) पुलिस प्रशासन में सुधार
(घ) सांविधानिक सुधार

उत्तर. (घ)
उपाय: मांटेग्यू चेम्सफोर्ड सुधार भारत में स्वशासी संस्थानों की स्थापना के लिए ब्रिटिश शासन द्वारा भारत में शुरू किया गया था। यह सुधार 1918 के तैयार मांटेग्यू चेम्सफोर्ड रिपोर्ट में दिए गए थे और जाे भारत सरकार के अधिनियम 1919 के रूप में आधार बना।

प्रश्न.19. सत्य शोधक समाज में संगठित कियाः [2016]
(क) बिहार में आदिवासियों के उन्नयन का एक आंदोलन
(ख) गुजरात में मंदिर-प्रवेश का एक आंदोलन
(ग) महाराष्ट्र में एक जाति-विरोधी आंदोलन
(घ) पंजाब में एक विकास आंदोलन

उत्तर. (ग)
उपाय: सत्यशोधक समाज की स्थापना 24 सितंबर, 1873 को ज्योतिराव फुले ने की। यह एक समूह था जिसका मुख्य उद्देश्य शूद्र और अस्पृश्य जातियों काे शोषण और उत्पीड़न से आजाद कराना था।

प्रश्न.20. 1919 के भारत सरकार अधिनियम ने स्पष्ट रूप से परिभाषित किया थाः [2015]
(क) न्यायपालिका और विधायिका के बीच सत्ता का अलगाव
(ख) केन्द्र और प्रांतीय सरकारों के अधिकार क्षेत्र
(ग) भारतीय राज्य सचिव और वायसराय की शक्तियाँ
(घ) इनमें से कोई भी नहीं

उत्तर. (ख)
उपाय: माॅटेग्यू चेम्सफोर्ड सुधार जो 1919 ई. में भारत सरकार अधिनियम बन गया। इस अधिनियम ने केंद्रीय तथा प्रांतीय सरकाराें के क्षेत्राधिकार काे स्पष्टतः परिभाषित किया।

Offer running on EduRev: Apply code STAYHOME200 to get INR 200 off on our premium plan EduRev Infinity!

Related Searches

study material

,

Sample Paper

,

आधुनिक भारत (History) - UPSC Previous Year Questions Notes | EduRev

,

shortcuts and tricks

,

ppt

,

आधुनिक भारत (History) - UPSC Previous Year Questions Notes | EduRev

,

pdf

,

Important questions

,

Semester Notes

,

Exam

,

video lectures

,

practice quizzes

,

past year papers

,

Summary

,

Objective type Questions

,

आधुनिक भारत (History) - UPSC Previous Year Questions Notes | EduRev

,

Previous Year Questions with Solutions

,

MCQs

,

mock tests for examination

,

Free

,

Extra Questions

,

Viva Questions

;