भौतिक विज्ञान (General Science) - UPSC Previous Year Questions Notes | EduRev

अध्यायवार प्रश्न पत्र UPSC Topic Wise Previous Year Question

UPSC : भौतिक विज्ञान (General Science) - UPSC Previous Year Questions Notes | EduRev

The document भौतिक विज्ञान (General Science) - UPSC Previous Year Questions Notes | EduRev is a part of the UPSC Course अध्यायवार प्रश्न पत्र UPSC Topic Wise Previous Year Question.
All you need of UPSC at this link: UPSC

प्रश्न.1. निम्नलिखित परिघटनाओं पर विचार कीजिए:
(i) प्रकाश, गुरुत्व द्वारा प्रभावित होता है।
(ii) ब्रह्माण्ड लगातार फैल रहा है।
(iii) पदार्थ अपने चारों ओर के दिक्काल को विकुंचित (वार्प) करता है।
उपर्युक्त में से एल्बर्ट आइन्सटाइन के आपेक्षिकता के सामान्य सिद्धांत का/के भविष्यकथन कौन-सा/से है/हैं, जिसकी/जिनकी प्रायः समाचार माध्यमों में विवेचना होती है?    (2018)

(क) केवल 1 और 2
(ख) केवल 3
(ग) केवल 1 और 3
(घ) 1, 2 और 3
उत्तर.
(घ)
उपाय: आइंस्टीन का सापेक्षता का सामान्य सिद्धांत इस बात पर आधारित है कि, हम कैसे सोचते हैं कि गुरुत्वाकर्षण ब्राह्मांड के व्यवहार काे नियंत्रित करता है। हम जानते हैं कि पदार्थ अपने चाराें ओर के दिक्काल काे विकृत (Warp) करता है।
आइंस्टीन के सिद्धांत के अनुसार दूसरे पदार्थाें के भांति प्रकाश भी गुरुत्व के द्वारा प्रभावित होता है।

प्रश्न.2. भारत में सौर ऊर्जा उत्पादन के सन्दर्भ में, नीचे दिए गए कथनों पर विचार कीजिए:
(i) भारत प्रकाश-वोल्टीय इकाइयों में प्रयोग में आने वाले सिलिकाॅन वेफर्स का दुनिया में तीसरा सबसे बड़ा उत्पादक देश है।
(ii) सौर ऊर्जा शुल्क का निर्धारण भारतीय सौर ऊर्जा निगम के द्वारा किया जाता है।
उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?    (2018)
(क) केवल 1
(ख) केवल 2
(ग) 1 और 2 दोनो
(घ) न तो 1, न ही 2
उत्तर.
(घ)
उपाय: वर्ष 2016 के रिपोर्ट के अनुसार प्रकाश वोल्टीय इकाइयों के उत्पाद मे 68% भागीदारी के साथ चीन तथा ताइवान अग्रणी हैं जबकि 14% भागीदारी के साथ शेष एशिया प्रशांत तथा सेन्ट्रल एशिया सम्मिलित रूप से तीसरे स्थान पर आते है। यूरोप ने 4% की हिस्सेदारी के साथ योगदान दिया है।
सौर उर्जा  शुल्क का निर्धारण किसी निगम के द्वारा नहीं किया जाता है बल्कि यह सौर प्लांट के क्षमता पर निर्भर करता है।

प्रश्न.3. निम्नलिखित में से किन कार्यकलापों में भारतीय दूर संवेदन (IRS) उपग्रहों का प्रयोग किया जाता है?
(i) फसल की उपज का आकलन
(ii) भौम जल (ग्राउंडवाटर) संसाधनों का स्थान-निर्धारण
(iii) खनिज का अन्वेषण
(iv) दूरसंचार
(v) यातायात अध्ययन
नीचे दिए गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिए।    (2015)
(क) केवल 1, 2 और 3
(ख) केवल 4 और 5
(ग) केवल 1 और 2
(घ) 1, 2, 3, 4 और 5
उत्तर. 
(क)
उपाय: भारतीय दूर सवेंदी उपग्रहों का उपयोग फसल उत्पादन का आकलन, भौम जल का स्थान निर्धारण तथा खनिजों के अन्वेषण मे किया जाता है। इस प्रणाली की शुरूआत 1979 तथा 1981 में हुई  थी।

प्रश्न.4. निकट अतीत में हिग्स बोसाॅन कण के अस्तित्व के संसूचन के लिए किये गये प्रयत्न लगातार समाचारों में रहे हैं। इस कण की खोज का क्या महत्त्व है?
(i) यह हमें यह समझने में मदद करेगा कि मूल कणों में संहति क्यों होती है।
(ii) यह निकट भविष्य में हमें दो बिन्दुओं के बीच के भौतिक अन्तराल को पार किये बिना एक बिन्दु से दूसरे बिन्दु तक पदार्थ स्थानान्तरित करने की प्रौद्योगिकी विकसित करने में मदद करेगा।
(iii) यह हमें नाभिकीय विखण्डन के लिए बेहतर ईंधन उत्पन्न करने में मदद करेगा।
नीचे दिए गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिए।    (2013)
(क) केवल 1
(ख) केवल 2 और 3
(ग) केवल 1 और 3
(घ) 1, 2 और 3
उत्तर.
(क)
उपाय: हिग्स बोसाॅन कण की खोज इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि यह हमें हर उप-अनुकण के द्रव्यमान के बारे में बताते हैं। इसके अतिरिक्त वैज्ञानिकाें का यह मानना है कि बोसाॅन कण पदार्थों के बीच आपसी संबंध का भी व्याख्या करता है।

प्रश्न.5. प्रकृति के ज्ञात बलों को चार वर्गों में विभाजित किया जा सकता है, जैसे कि गुरुत्व, विद्युत-चुम्बकत्व, दुर्बल नाभिकीय बल और प्रबल नाभिकीय बल। उनके सन्दर्भ में, निम्नलिखित कथनों में से कौन-सा एक सही नहीं है?    (2013)
(क) गुरुत्व, चारों में सबसे प्रबल है
(ख) विधुत्-चुम्बकत्व सिर्फ विधुत् आवेश वाले कणों पर क्रिया करता है

(ग) दुर्बल नाभिकीय बल विघटनाभिकता का कारण है
(घ) प्रबल नाभिकीय बल परमाणु के केन्द्रक में प्रोटॉन और न्यूट्रॉन को धारित किये रखता है
उत्तर.
(क)
उपाय: गुरूत्व, इन चाराें में से सबसे दुर्बल नाभिकीय बल है।

प्रश्न.6. तड़ित्-झंझावात के दौरान, आकाश में तड़ित् किसके/किनके द्वारा उत्पन्न होती है/हैं?
(i) आकाश में कपासी-वर्षी मेघों के मिलने से
(ii) तड़ित् से, जो वर्षा मेघों को पृथक् करती है
(iii) हवा और जल के ऊपर की ओर तीव्र चलन से
नीचे दिए गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिए।    (2013)
(क) केवल 1
() 2 और 3
(ग) 1 और 3
(घ) उपर्युक्त में से कोई भी तड़ित उत्पन्न नहीं करता

उत्तर. (घ)
उपाय: तड़ित झंझावात गरम और जलकण प्राण वायु के ऊपर उठने से और फिर ठंडा होकर कपासी वर्षा  मेघ के बनने से सम्बंधित है। इन कपासी वर्षा मेघ गरमी के दिनाें में बनते है। इन बादलाे के आपस के टकराने से जाे ताप उत्पन्न होता है उससे तडित़ पैदा होता है। तड़ित आसपास के हवा को गरम करके ‘शाॅक वेव’ (shock wave) उत्पन्न करता है। जब हवा गरम होकर विस्तृत होते है तब इनसे ध्वनि उत्पन्न होती है जाे गर्जन का रूप लेता है|

प्रश्न.7. जब धूप वर्षा की बूँदों पर गिरती है, तो इन्द्रधनुष बनता है। इसके लिए निम्नलिखित में से कौन-सी भौतिक परिघटनाएँ जिम्मेवार है?
(i) परिक्षेपण
(ii) अपवर्तन
(iii) आन्तरिक परावर्तन
नीचे दिए गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिए।    (2013)
(क) केवल 1 और 2
(ख) केवल 2 और 3
(ग) केवल 1 और 3
(घ) 1, 2 और 3
उत्तर.
(घ)
उपाय: पानी की बूंदे प्रिज्म की तरह रोशनी के बिखराव काे दिखाते है। बूंदाें की दाे सीमाओं से गुजरती हुई रोशनी अपने मार्ग से हटके परिक्षेपण घटाती है, सफेद रोशनी सात रंगों में बिखर के इन्द्रधनुष बन जाती है।

प्रश्न.8. निम्नलिखित परिघटनाओं पर विचार कीजिएः
(i) गोधूलि में सूर्य का आमाप
(ii) ऊषाकाल में सूर्य का रंग
(iii) ऊषाकाल में चन्द्रमा का दिखना
(iv) आकाश में तारों का टिमटिमाना
(v) आकाश में ध्रुवतारे का दिखना
उपर्युक्त में से कौन-से दृष्टिभ्रम हैं?    (2013)
(क) 1, 2 और 3
(ख) 3, 4 और 5
(ग) 1, 2 और 4
(घ) 2, 3 और 5
उत्तर.
(ग)
उपाय: गोधूलि में सूर्य का आमाप एक दृष्टिभ्रम है। वायुमंडलीय अपवर्तन की वजह से यह दृष्टिभ्रम उत्पन्न होता है। उषाकाल में सूर्य का रंग पीला होता है जिसका कारण है रोशनी का फैलाव वरना रोशनी केवल सफ़ेद रंग की ही होती है। ताराे का चमकना भी एक दृष्टिभ्रम है जाे वायु के चक्रवात से उत्पन्न होता है।

प्रश्न.9. साइकिल और कारों में बाॅल-बेयरिंग का प्रयोग होता है, क्योंकि    (2013)
(क) पहिया और धुरी के बीच संस्पर्श का वास्तविक क्षेत्र बढ़ जाता है
(ख) पहिया और धुरी के बीच संस्पर्श का प्रभावी क्षेत्र बढ़ जाता है
(ग) पहिया और धुरी के बीच संस्पर्श का प्रभावी क्षेत्र घट जाता है
(घ) उपर्युक्त कथनों में से कोई भी सही नहीं है
उत्तर.
(ग)
उपाय: बाॅल-बेयरिंग का काम है किसी भी मशीन में दाे पुर्जाे के घर्षण काे कम करना।

प्रश्न.10. अन्तरिक्ष में कई सौ कि. मी./से. की गति से यात्रा कर रहे विधुत्-आवेशी कण यदि पृथ्वी के धरातल पर पहुँच जाएँ, तो जीव-जन्तुओं को गम्भीर नुकसान पहुँचा सकते हैं। ये कण किस कारण से पृथ्वी के धरातल पर नहीं पहुँच पाते?    (2012)
(क) पृथ्वी की चुम्बकीय शक्ति उन्हें ध्रुवो की ओर मोड़ देती है
(ख) पृथ्वी के इर्द-गिर्द की ओज़ोन परत उन्हें बाह्म अन्तरिक्ष में परावर्तित कर देती है
(ग) वायुमण्डल की ऊपरी परतों में उपस्थित आर्द्रता उन्हें पृथ्वी के धरातल पर नहीं पहुँचने देती
(घ) उपरोक्त कथनों (a), (b) और (c) में से कोई भी सही नहीं हैं।
उत्तर.
(क)
उपाय: पृथ्वी की चुम्बकीय शक्ति विद्युत-आवेश काे अपने ध्रुवों की ओर मोड़ देती है।

Offer running on EduRev: Apply code STAYHOME200 to get INR 200 off on our premium plan EduRev Infinity!

Related Searches

Free

,

mock tests for examination

,

भौतिक विज्ञान (General Science) - UPSC Previous Year Questions Notes | EduRev

,

MCQs

,

shortcuts and tricks

,

भौतिक विज्ञान (General Science) - UPSC Previous Year Questions Notes | EduRev

,

Objective type Questions

,

Semester Notes

,

study material

,

भौतिक विज्ञान (General Science) - UPSC Previous Year Questions Notes | EduRev

,

Extra Questions

,

Viva Questions

,

past year papers

,

Exam

,

video lectures

,

Previous Year Questions with Solutions

,

practice quizzes

,

pdf

,

Summary

,

ppt

,

Sample Paper

,

Important questions

;